Hindus are enemies of themselves due to cast divide

तैमूरलंग का सामना

डॉविवेकआर्य

हिन्दू समाज की सबसे बड़ी समस्या यह है कि वे जातिवाद से ऊपर उठ कर सोच ही नहीं सकते। यही पिछले 1200 वर्षों से हो रही उनकी हार का मुख्य कारण है। इतिहास में कुछ प्रेरणादायक घटनाएं मिलती है। जब जातिवाद से ऊपर उठकर हिन्दू समाज ने एकजुट होकर अक्रान्तायों का न केवल सामना किया अपितु अपने प्राणों की बाजी लगाकर उन्हें यमलोक भेज दिया। तैमूर लंग के नाम से सभी भारतीय परिचित है। तैमूर के अत्याचारों से हमारे देश की भूमि रक्तरंजित हो गई। उसके अत्याचारों की कोई सीमा नहीं थी।
तैमूर लंग ने मार्च सन् 1398 ई० में भारत पर 92000 घुड़सवारों की सेना से तूफानी आक्रमण कर दिया। तैमूर के सार्वजनिक कत्लेआम, लूट खसोट और सर्वनाशी अत्याचारों की सूचना मिलने पर संवत् 1455 (सन् 1398 ई०) कार्तिक बदी 5 को देवपाल राजा (जिसका जन्म निरपड़ा गांव जि० मेरठ में एक जाट घराने में हुआ था) की अध्यक्षता में हरयाणा सर्वखाप पंचायत का अधिवेशन जि० मेरठ के गाँव टीकरी, निरपड़ा, दोगट और दाहा के मध्य जंगलों में हुआ।
सर्वसम्मति से निम्नलिखित प्रस्ताव पारित किये गये – (1) सब गांवों को खाली कर दो। (2) बूढे पुरुष-स्त्रियों तथा बालकों को सुरक्षित स्थान पर रखो। (3) प्रत्येक स्वस्थ व्यक्ति सर्वखाप पंचायत की सेना में भर्ती हो जाये। (4) युवतियाँ भी पुरुषों की भांति शस्त्र उठायें। (5) दिल्ली से हरद्वार की ओर बढ़ती हुई तैमूर की सेना का छापामार युद्ध शैली से मुकाबला किया जाये तथा उनके पानी में विष मिला दो। (6) 500 घुड़सवार युवक तैमूर की सेना की गतिविधियों को देखें और पता लगाकर पंचायती सेना को सूचना देते रहें।
पंचायती सेना – पंचायती झण्डे के नीचे 80,000 मल्ल योद्धा सैनिक और 40,000 युवा महिलायें शस्त्र लेकर एकत्र हो गये। इन वीरांगनाओं ने युद्ध के अतिरिक्त खाद्य सामग्री का प्रबन्ध भी सम्भाला। दिल्ली के सौ-सौ कोस चारों ओर के क्षेत्र के वीर योद्धा देश रक्षा के लिए अपने प्राणों की आहुति देने रणभूमि में आ गये। सारे क्षेत्र में युवा तथा युवतियां सशस्त्र हो गये। इस सेना को एकत्र करने में धर्मपालदेव जाट योद्धा जिसकी आयु 95 वर्ष की थी, ने बड़ा सहयोग दिया था। उसने घोड़े पर चढ़कर दिन रात दूर-दूर तक जाकर नर-नारियों को उत्साहित करके इस सेना को एकत्र किया। उसने तथा उसके भाई करणपाल ने इस सेना के लिए अन्न, धन तथा वस्त्र आदि का प्रबन्ध किया।
प्रधान सेनापति, उप-प्रधान सेनापति तथा सेनापतियों की नियुक्ति
सर्वखाप पंचायत के इस अधिवेशन में सर्वसम्मति से वीर योद्धा जोगराजसिंह गुर्जर को प्रधान सेनापति बनाया गया। यह खूबड़ परमार वंश का योद्धा था जो हरद्वार के पास एक गाँव कुंजा सुन्हटी का निवासी था। बाद में यह गाँव मुगलों ने उजाड़ दिया था। वीर जोगराजसिंह के वंशज उस गांव से भागकर लंढोरा (जिला सहारनपुर) में आकर आबाद हो गये जिन्होंने लंढोरा गुर्जर राज्य की स्थापना की। जोगराजसिंह बालब्रह्मचारी एवं विख्यात पहलवान था। उसका कद 7 फुट 9 इंच और वजन 8 मन था। उसकी दैनिक खुराक चार सेर अन्न, 5 सेर सब्जी-फल, एक सेर गऊ का घी और 20 सेर गऊ का दूध।
महिलाएं वीरांगनाओं की सेनापति चुनी गईं उनके नाम इस प्रकार हैं – (1) रामप्यारी गुर्जर युवति (2) हरदेई जाट युवति (3) देवीकौर राजपूत युवति (4) चन्द्रो ब्राह्मण युवति (5) रामदेई त्यागी युवति। इन सब ने देशरक्षा के लिए शत्रु से लड़कर प्राण देने की प्रतिज्ञा की।
उपप्रधान सेनापति – (1) धूला भंगी (बालमीकी) (2) हरबीर गुलिया जाट चुने गये। धूला भंगी जि० हिसार के हांसी गांव (हिसार के निकट) का निवासी था। यह महाबलवान्, निर्भय योद्धा, गोरीला (छापामार) युद्ध का महान् विजयी धाड़ी (बड़ा महान् डाकू) था जिसका वजन 53 धड़ी था। उपप्रधान सेनापति चुना जाने पर इसने भाषण दिया कि – “मैंने अपनी सारी आयु में अनेक धाड़े मारे हैं। आपके सम्मान देने से मेरा खूब उबल उठा है। मैं वीरों के सम्मुख प्रण करता हूं कि देश की रक्षा के लिए अपना खून बहा दूंगा तथा सर्वखाप के पवित्र झण्डे को नीचे नहीं होने दूंगा। मैंने अनेक युद्धों में भाग लिया है तथा इस युद्ध में अपने प्राणों का बलिदान दे दूंगा।” यह कहकर उसने अपनी जांघ से खून निकालकर प्रधान सेनापति के चरणों में उसने खून के छींटे दिये। उसने म्यान से बाहर अपनी तलवार निकालकर कहा “यह शत्रु का खून पीयेगी और म्यान में नहीं जायेगी।” इस वीर योद्धा धूला के भाषण से पंचायती सेना दल में जोश एवं साहस की लहर दौड़ गई और सबने जोर-जोर से मातृभूमि के नारे लगाये।
दूसरा उपप्रधान सेनापति हरबीरसिंह जाट था जिसका गोत्र गुलिया था। यह हरयाणा के जि० रोहतक गांव बादली का रहने वाला था। इसकी आयु 22 वर्ष की थी और इसका वजन 56 धड़ी (7 मन) था। यह निडर एवं शक्तिशाली वीर योद्धा था।
सेनापतियों का निर्वाचन – उनके नाम इस प्रकार हैं – (1) गजेसिंह जाट गठवाला (2) तुहीराम राजपूत (3) मेदा रवा (4) सरजू ब्राह्मण (5) उमरा तगा (त्यागी) (6) दुर्जनपाल अहीर।
जो उपसेनापति चुने गये – (1) कुन्दन जाट (2) धारी गडरिया जो धाड़ी था (3) भौन्दू सैनी (4) हुल्ला नाई (5) भाना जुलाहा (हरिजन) (6) अमनसिंह पुंडीर राजपुत्र (7) नत्थू पार्डर राजपुत्र (😎 दुल्ला (धाड़ी) जाट जो हिसार, दादरी से मुलतान तक धाड़े मारता था। (9) मामचन्द गुर्जर (10) फलवा कहार।
सहायक सेनापति – भिन्न-भिन्न जातियों के 20 सहायक सेनापति चुने गये।
वीर कवि – प्रचण्ड विद्वान् चन्द्रदत्त भट्ट (भाट) को वीर कवि नियुक्त किया गया जिसने तैमूर के साथ युद्धों की घटनाओं का आंखों देखा इतिहास लिखा था।
प्रधान सेनापति जोगराजसिंह गुर्जर के ओजस्वी भाषण के कुछ अंश –
“वीरो! भगवान् कृष्ण ने गीता में अर्जुन को जो उपदेश दिया था उस पर अमल करो। हमारे लिए स्वर्ग (मोक्ष) का द्वार खुला है। ऋषि मुनि योग साधना से जो मोक्ष पद प्राप्त करते हैं, उसी पद को वीर योद्धा रणभूमि में बलिदान देकर प्राप्त कर लेता है। भारत माता की रक्षा हेतु तैयार हो जाओ। देश को बचाओ अथवा बलिदान हो जाओ, संसार तुम्हारा यशोगान करेगा। आपने मुझे नेता चुना है, प्राण रहते-रहते पग पीछे नहीं हटाऊंगा। पंचायत को प्रणाम करता हूँ तथा प्रतिज्ञा करता हूँ कि अन्तिम श्वास तक भारत भूमि की रक्षा करूंगा। हमारा देश तैमूर के आक्रमणों तथा अत्याचारों से तिलमिला उठा है। वीरो! उठो, अब देर मत करो। शत्रु सेना से युद्ध करके देश से बाहर निकाल दो।”
यह भाषण सुनकर वीरता की लहर दौड़ गई। 80,000 वीरों तथा 40,000 वीरांगनाओं ने अपनी तलवारों को चूमकर प्रण किया कि हे सेनापति! हम प्राण रहते-रहते आपकी आज्ञाओं का पालन करके देश रक्षा हेतु बलिदान हो जायेंगे।
मेरठ युद्ध – तैमूर ने अपनी बड़ी संख्यक एवं शक्तिशाली सेना, जिसके पास आधुनिक शस्त्र थे, के साथ दिल्ली से मेरठ की ओर कूच किया। इस क्षेत्र में तैमूरी सेना को पंचायती सेना ने दम नहीं लेने दिया। दिन भर युद्ध होते रहते थे। रात्रि को जहां तैमूरी सेना ठहरती थी वहीं पर पंचायती सेना धावा बोलकर उनको उखाड़ देती थी। वीर देवियां अपने सैनिकों को खाद्य सामग्री एवं युद्ध सामग्री बड़े उत्साह से स्थान-स्थान पर पहुंचाती थीं। शत्रु की रसद को ये वीरांगनाएं छापा मारकर लूटतीं थीं। आपसी मिलाप रखवाने तथा सूचना पहुंचाने के लिए 500 घुड़सवार अपने कर्त्तव्य का पालन करते थे। रसद न पहुंचने से तैमूरी सेना भूखी मरने लगी। उसके मार्ग में जो गांव आता उसी को नष्ट करती जाती थी। तंग आकर तैमूर हरद्वार की ओर बढ़ा।
हरद्वार युद्ध – मेरठ से आगे मुजफ्फरनगर तथा सहारनपुर तक पंचायती सेनाओं ने तैमूरी सेना से भयंकर युद्ध किए तथा इस क्षेत्र में तैमूरी सेना के पांव न जमने दिये। प्रधान एवं उपप्रधान और प्रत्येक सेनापति अपनी सेना का सुचारू रूप से संचालन करते रहे। हरद्वार से 5 कोस दक्षिण में तुगलुकपुर-पथरीगढ़ में तैमूरी सेना पहुंच गई। इस क्षेत्र में पंचायती सेना ने तैमूरी सेना के साथ तीन घमासान युद्ध किए।
उप-प्रधानसेनापति हरबीरसिंह गुलिया ने अपने पंचायती सेना के 25,000 वीर योद्धा सैनिकों के साथ तैमूर के घुड़सवारों के बड़े दल पर भयंकर धावा बोल दिया जहां पर तीरों* तथा भालों से घमासान युद्ध हुआ। इसी घुड़सवार सेना में तैमूर भी था। हरबीरसिंह गुलिया ने आगे बढ़कर शेर की तरह दहाड़ कर तैमूर की छाती में भाला मारा जिससे वह घोड़े से नीचे गिरने ही वाला था कि उसके एक सरदार खिज़र ने उसे सम्भालकर घोड़े से अलग कर लिया। (तैमूर इसी भाले के घाव से ही अपने देश समरकन्द में पहुंचकर मर गया)। वीर योद्धा हरबीरसिंह गुलिया पर शत्रु के 60 भाले तथा तलवारें एकदम टूट पड़ीं जिनकी मार से यह योद्धा अचेत होकर भूमि पर गिर पड़ा।
(1) उसी समय प्रधान सेनापति जोगराजसिंह गुर्जर ने अपने 22000 मल्ल योद्धाओं के साथ शत्रु की सेना पर धावा बोलकर उनके 5000 घुड़सवारों को काट डाला। जोगराजसिंह ने स्वयं अपने हाथों से अचेत हरबीरसिंह को उठाकर यथास्थान पहुंचाया। परन्तु कुछ घण्टे बाद यह वीर योद्धा वीरगति को प्राप्त हो गया। जोगराजसिंह को इस योद्धा की वीरगति से बड़ा धक्का लगा।
(2) हरद्वार के जंगलों में तैमूरी सेना के 2805 सैनिकों के रक्षादल पर भंगी कुल के उपप्रधान सेनापति धूला धाड़ी वीर योद्धा ने अपने 190 सैनिकों के साथ धावा बोल दिया। शत्रु के काफी सैनिकों को मारकर ये सभी 190 सैनिक एवं धूला धाड़ी अपने देश की रक्षा हेतु वीरगती को प्राप्त हो गये।
(3) तीसरे युद्ध में प्रधान सेनापति जोगराजसिंह ने अपने वीर योद्धाओं के साथ तैमूरी सेना पर भयंकर धावा करके उसे अम्बाला की ओर भागने पर मजबूर कर दिया। इस युद्ध में वीर योद्धा जोगराजसिंह को 45 घाव आये परन्तु वह वीर होश में रहा। पंचायती सेना के वीर सैनिकों ने तैमूर एवं उसके सैनिकों को हरद्वार के पवित्र गंगा घाट (हर की पौड़ी) तक नहीं जाने दिया। तैमूर हरद्वार से पहाड़ी क्षेत्र के रास्ते अम्बाला की ओर भागा। उस भागती हुई तैमूरी सेना का पंचायती वीर सैनिकों ने अम्बाला तक पीछा करके उसे अपने देश हरयाणा से बाहर खदेड़ दिया।
वीर सेनापति दुर्जनपाल अहीर मेरठ युद्ध में अपने 200 वीर सैनिकों के साथ दिल्ली दरवाज़े के निकट स्वर्ग लोक को प्राप्त हुये।
इन युद्धों में बीच-बीच में घायल होने एवं मरने वाले सेनापति बदलते रहे थे। कच्छवाहे गोत्र के एक वीर राजपूत ने उपप्रधान सेनापति का पद सम्भाला था। तंवर गोत्र के एक जाट योद्धा ने प्रधान सेनापति के पद को सम्भाला था। एक रवा तथा सैनी वीर ने सेनापति पद सम्भाले थे। इस युद्ध में केवल 5 सेनापति बचे थे तथा अन्य सब देशरक्षा के लिए वीरगति को प्राप्त हुये।
इन युद्धों में तैमूर के ढ़ाई लाख सैनिकों में से हमारे वीर योद्धाओं ने 1,60,000 को मौत के घाट उतार दिया था और तैमूर की आशाओं पर पानी फेर दिया।
हमारी पंचायती सेना के वीर एवं वीरांगनाएं 35,000, देश के लिये वीरगति को प्राप्त हुए थे।
प्रधान सेनापति की वीरगति – वीर योद्धा प्रधान सेनापति जोगराजसिंह गुर्जर युद्ध के पश्चात् ऋषिकेश के जंगल में स्वर्गवासी हुये थे।
(सन्दर्भ-जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठान्त-३७९-३८३ )
ध्यान दीजिये। एक सवर्ण सेना का उपसेनापति वाल्मीकि था। अहीर, गुर्जर से लेकर 36 बिरादरी उसके महत्वपूर्ण अंग थे। तैमूर को हराने वाली सेना को हराने वाली कौन थे? क्या वो जाट थे? क्या वो राजपूत थे? क्या वो अहीर थे? क्या वो गुर्जर थे? क्या वो बनिए थे? क्या वो भंगी या वाल्मीकि थे? क्या वो जातिवादी थे?
नहीं वो सबसे पहले देशभक्त थे। धर्मरक्षक थे। श्री राम और श्री कृष्ण की संतान थे? गौ, वेद , जनेऊ और यज्ञ के रक्षक थे।
आज भी हमारा देश उसी संकट में आ खड़ा हुआ है। आज भी विधर्मी हमारी जड़ों को काट रहे है। आज भी हमें फिर से जातिवाद से ऊपर उठ कर एकजुट होकर अपने धर्म, अपनी संस्कृति और अपनी मातृभूमि की रक्षा का व्रत लेना हैं। यह तभी सम्भव है जब हम अपनी संकीर्ण मानसिकता से ऊपर उठकर सोचना आरम्भ करेंगे। आप में से कौन कौन मेरे साथ है?

The biggest problem of Hindu society is that they cannot think above casteism. This is the main reason for their defeat for the last 1200 years. There are some inspiring incidents in history. When the Hindu society, rising above casteism, unitedly not only faced the revolutionaries but also sent them to Yamlok by putting their lives on the line. All Indians are familiar with the name of Taimur Lang. Due to the atrocities of Timur, the land of our country became bloody. His atrocities knew no bounds.
In March 1398, Timur Lang made a stormy attack on India with an army of 92000 cavalry. On receiving information about Timur’s public massacre, plundering and apocalyptic atrocities, in Samvat 1455 (A.D. 1398), the session of Haryana Sarvakhap Panchayat under the chairmanship of Devpal Raja (who was born in a Jat family in Nirapada village district, Meerut) on Kartik Badi 5 District Meerut’s village Tikri, Nirpada, Dogat and Daha in the middle of the forest.
The following resolutions were passed unanimously – (1) Evacuate all the villages. (2) Keep old men, women and children in a safe place. (3) Every healthy person should join the army of Sarvkhap Panchayat. (4) Women should also take up arms like men. (5) The army of Timur, moving from Delhi to Hardwar, should be fought with guerilla warfare style and mix poison in their water. (6) 500 cavalry youths watch the activities of Timur’s army and keep track of them and inform the Panchayati army.
Panchayati Sena – 80,000 Malla warrior soldiers and 40,000 young women gathered under the Panchayati flag carrying weapons. Apart from the war, these heroines also took care of the provision of food items. Hundreds of brave warriors of the area around Delhi came to the battlefield to sacrifice their lives for the defense of the country. All over the region, young men and women became armed. Dharampaldev Jat warrior, whose age was 95 years, had given great support in gathering this army. He gathered this army by motivating men and women by going far and wide day and night on a horse. He and his brother Karanpal made arrangements for food, money and clothes etc. for this army.
Appointment of Chief Commander, Vice Chief General and Generals
In this session of Sarvkhap Panchayat, the brave warrior Jograj Singh Gurjar was unanimously made the chief commander. This Khubd was a warrior of Parmar dynasty who was a resident of Kunja Sunhati, a village near Hardwar. Later this village was destroyed by the Mughals. Descendants of Veer Jograj Singh fled from that village and settled in Landora (district Saharanpur) who established Landora Gurjar state. Jograj Singh was a child brahmachari and a famous wrestler. His height was 7 feet 9 inches and weight was 8 mans. His daily dose is four servings of food grains, five servings of vegetables and fruits, one serving of cow’s ghee and 20 servings of cow’s milk.
Women were elected commanders of the heroines, their names are as follows – (1) Rampyari Gurjar girl (2) Hardei Jat girl (3) Devikaur Rajput girl (4) Chandro Brahmin girl (5) Ramdei Tyagi girl. All of them pledged to die fighting the enemy for the defense of the country.
Deputy Chief General – (1) Dhula Bhangi (Balmiki) (2) Harbir Gulia was elected Jat. Dhula Bhangi was a resident of Hansi village (near Hisar) of District Hisar. This great mighty, fearless warrior, the great victorious of the guerilla (guerrilla) war was the Dhaadi (the great great robber) whose weight was 53 Dhadis. On being elected as the Vice-President, he gave a speech that – “I have killed many strands in my entire life. I am very happy to pay your respects. I take a vow in front of the heroes that I will shed my blood for the defense of the country and will not let the holy flag of Sarvakhap go down. I have participated in many wars and will sacrifice my life in this war. Saying this, he took out blood from his thigh and sprinkled blood at the feet of the commander-in-chief. He took his sword out of the sheath and said, “It will drink the blood of the enemy and will not enter the sheath.” With the speech of this brave warrior Dhula, there was a wave of enthusiasm and courage in the Panchayati Sena Dal and everyone shouted slogans of motherland loudly.
The second vice-chief commander was Harbir Singh Jat, whose gotra was Gulia. He was a resident of district Rohtak village Badli in Haryana. Its age was 22 years and its weight was 56 dhadis (7 mind). He was a fearless and mighty brave warrior.
Election of generals – their names are as follows – (1) Gajesingh Jat Gathwala (2) Tuhiram Rajput (3) Meda Rawa (4) Sarju Brahmin (5) Umra Taga (Tyagi) (6) Durjanpal Ahir.
The vice general who was elected – (1) Kundan Jat (2) Dhari Gadaria who was Dhaadi (3) Bhondu Saini (4) Hulla Nai (5) Bhana Weaver (Harijan) (6) Aman Singh Pundir Rajputra (7) Nathu Pardar Rajputra (😎) Dulla (Dhaadi) Jat who used to run from Hisar, Dadri to Multan (9) Mamchand Gurjar (10) Falwa Kahar.
Assistant commander – 20 assistant generals of different castes were elected.
Veer Kavi – The great scholar Chandradutt Bhatt (Bhat) was appointed as a heroic poet who wrote the history of the events of the wars with Timur.
Excerpts from the brilliant speech of Chief General Jograj Singh Gurjar –
“Veer! Follow the instructions given by Lord Krishna to Arjuna in the Gita. The door of heaven (salvation) is open for us. The position of salvation which the sage Muni attains through yoga practice, is attained by a brave warrior by sacrificing himself in the battlefield. Get ready to protect Mother India. Save the country or be sacrificed, the world will praise you. you i

When Taimur Lang was defeated by combined Hindu forces. तैमूर लंग

ने मार्च सन् 1398 ई० में भारत पर 92000 घुड़सवारों की सेना से तूफानी आक्रमण कर दिया। तैमूर के सार्वजनिक कत्लेआम, लूट खसोट और सर्वनाशी अत्याचारों की सूचना मिलने पर संवत् 1455 (सन् 1398 ई०) कार्तिक बदी 5 को देवपाल राजा (जिसका जन्म #निरपड़ा गांव जिला #मेरठ में एक #जाट घराने में हुआ था) की अध्यक्षता में हरियाणा सर्वखाप पंचायत का अधिवेशन जि० मेरठ के गाँव #टीकरी, #निरपड़ा, #दोघट और #दाहा के मध्य जंगलों में हुआ।

सर्वसम्मति से निम्नलिखित प्रस्ताव पारित किये गये – (1) सब गांवों को खाली कर दो। (2) बूढे पुरुष-स्त्रियों तथा बालकों को सुरक्षित स्थान पर रखो। (3) प्रत्येक स्वस्थ व्यक्ति सर्वखाप पंचायत की सेना में भर्ती हो जाये। (4) युवतियाँ भी पुरुषों की भांति शस्त्र उठायें। (5) दिल्ली से हरद्वार की ओर बढ़ती हुई तैमूर की सेना का छापामार युद्ध शैली से मुकाबला किया जाये तथा उनके पानी में विष मिला दो। (6) 500 घुड़सवार युवक तैमूर की सेना की गतिविधियों को देखें और पता लगाकर पंचायती सेना को सूचना देते रहें।

पंचायती सेना – पंचायती झण्डे के नीचे 80,000 मल्ल योद्धा सैनिक और 40,000 युवा महिलायें शस्त्र लेकर एकत्र हो गये। इन वीरांगनाओं ने युद्ध के अतिरिक्त खाद्य सामग्री का प्रबन्ध भी सम्भाला। दिल्ली के सौ-सौ कोस चारों ओर के क्षेत्र के वीर योद्धा देश रक्षा के लिए अपने प्राणों की आहुति देने रणभूमि में आ गये। सारे क्षेत्र में युवा तथा युवतियां सशस्त्र हो गये। इस सेना को एकत्र करने में #धर्मपालदेव जाट योद्धा जिसकी आयु 95 वर्ष की थी, ने बड़ा सहयोग दिया था। उसने घोड़े पर चढ़कर दिन रात दूर-दूर तक जाकर नर-नारियों को उत्साहित करके इस सेना को एकत्र किया। उसने तथा उसके भाई #करणपाल ने इस सेना के लिए अन्न, धन तथा वस्त्र आदि का प्रबन्ध किया।

प्रधान सेनापति, उप-प्रधान सेनापति तथा सेनापतियों की नियुक्ति

सर्वखापपंचायत के इस अधिवेशन में सर्वसम्मति से वीर योद्धा #जोगराजसिंहगुर्जर को प्रधान सेनापति बनाया गया। यह खूबड़ परमार वंश का योद्धा था जो #हरिद्वार के पास एक गाँव #कुंजा_सुन्हटी का निवासी था। बाद में यह गाँव मुगलों ने उजाड़ दिया था। वीर जोगराजसिंह के वंशज उस गांव से भागकर #लंढोरा (जिला #सहारनपुर) में आकर आबाद हो गये जिन्होंने लंढोरा गुर्जर राज्य की स्थापना की। जोगराजसिंह बालब्रह्मचारी एवं विख्यात पहलवान था। उसका कद 7 फुट 9 इंच और वजन 8 मन था। उसकी दैनिक खुराक चार सेर अन्न, 5 सेर सब्जी-फल, एक सेर गऊ का घी और 20 सेर गऊ का दूध।

महिलाएं वीरांगनाओं की सेनापति चुनी गईं उनके नाम इस प्रकार हैं – (1) रामप्यारी गुर्जर युवति (2) हरदेई जाट युवति (3) देवीकौर राजपूत युवति (4) चन्द्रो ब्राह्मण युवति (5) रामदेई त्यागी युवति। इन सब ने देशरक्षा के लिए शत्रु से लड़कर प्राण देने की प्रतिज्ञा की।

उपप्रधान सेनापति – (1) #धूला_भंगी (बालमीकी) (2) हरबीर गुलिया जाट चुने गये। धूला भंगी जिला #हिसार के #हांसी गांव (हिसार के निकट) का निवासी था। यह महाबलवान्, निर्भय योद्धा, गोरीला (छापामार) युद्ध का महान् विजयी धाड़ी (बड़ा महान् डाकू) था जिसका वजन 53 धड़ी था। उपप्रधान सेनापति चुना जाने पर इसने भाषण दिया कि – “मैंने अपनी सारी आयु में अनेक धाड़े मारे हैं। आपके सम्मान देने से मेरा खूब उबल उठा है। मैं वीरों के सम्मुख प्रण करता हूं कि देश की रक्षा के लिए अपना खून बहा दूंगा तथा सर्वखाप के पवित्र झण्डे को नीचे नहीं होने दूंगा। मैंने अनेक युद्धों में भाग लिया है तथा इस युद्ध में अपने प्राणों का बलिदान दे दूंगा।” यह कहकर उसने अपनी जांघ से खून निकालकर प्रधान सेनापति के चरणों में उसने खून के छींटे दिये। उसने म्यान से बाहर अपनी तलवार निकालकर कहा “यह शत्रु का खून पीयेगी और म्यान में नहीं जायेगी।” इस वीर योद्धा धूला के भाषण से पंचायती सेना दल में जोश एवं साहस की लहर दौड़ गई और सबने जोर-जोर से मातृभूमि के नारे लगाये।

दूसरा उपप्रधान सेनापति हरबीरसिंह जाट था जिसका गोत्र गुलिया था। यह हरयाणा के जिला #रोहतक गांव #बादली का रहने वाला था। इसकी आयु 22 वर्ष की थी और इसका वजन 56 धड़ी (7 मन) था। यह निडर एवं शक्तिशाली वीर योद्धा था।

सेनापतियों का निर्वाचन – उनके नाम इस प्रकार हैं – (1) गजेसिंह जाट गठवाला (2) तुहीराम राजपूत (3) मेदा रवा (4) सरजू ब्राह्मण (5) उमरा तगा (त्यागी) (6) दुर्जनपाल अहीर।

जो उपसेनापति चुने गये – (1) कुन्दन जाट (2) धारी गडरिया जो धाड़ी था (3) भौन्दू सैनी (4) हुल्ला नाई (5) भाना जुलाहा (हरिजन) (6) अमनसिंह पुंडीर राजपुत्र (7) नत्थू पार्डर राजपुत्र (8) दुल्ला (धाड़ी) जाट जो हिसार, दादरी से मुलतान तक धाड़े मारता था। (9) मामचन्द गुर्जर (10) फलवा कहार।

सहायक सेनापति – भिन्न-भिन्न जातियों के 20 सहायक सेनापति चुने गये।

वीर कवि – प्रचण्ड विद्वान् चन्द्रदत्त भट्ट (भाट) को वीर कवि नियुक्त किया गया जिसने तैमूर के साथ युद्धों की घटनाओं का आंखों देखा इतिहास लिखा था।

प्रधान सेनापति जोगराजसिंह गुर्जर के ओजस्वी भाषण के कुछ अंश –

“वीरो! भगवान् कृष्ण ने गीता में अर्जुन को जो उपदेश दिया था उस पर अमल करो। हमारे लिए स्वर्ग (मोक्ष) का द्वार खुला है। ऋषि मुनि योग साधना से जो मोक्ष पद प्राप्त करते हैं, उसी पद को वीर योद्धा रणभूमि में बलिदान देकर प्राप्त कर लेता है। भारत माता की रक्षा हेतु तैयार हो जाओ। देश को बचाओ अथवा बलिदान हो जाओ, संसार तुम्हारा यशोगान करेगा। आपने मुझे नेता चुना है, प्राण रहते-रहते पग पीछे नहीं हटाऊंगा। पंचायत को प्रणाम करता हूँ तथा प्रतिज्ञा करता हूँ कि अन्तिम श्वास तक भारत भूमि की रक्षा करूंगा। हमारा देश तैमूर के आक्रमणों तथा अत्याचारों से तिलमिला उठा है। वीरो! उठो, अब देर मत करो। शत्रु सेना से युद्ध करके देश से बाहर निकाल दो।”

यह भाषण सुनकर वीरता की लहर दौड़ गई। 80,000 वीरों तथा 40,000 वीरांगनाओं ने अपनी तलवारों को चूमकर प्रण किया कि हे सेनापति! हम प्राण रहते-रहते आपकी आज्ञाओं का पालन करके देश रक्षा हेतु बलिदान हो जायेंगे।

मेरठ युद्ध – तैमूर ने अपनी बड़ी संख्यक एवं शक्तिशाली सेना, जिसके पास आधुनिक शस्त्र थे, के साथ दिल्ली से मेरठ की ओर कूच किया। इस क्षेत्र में तैमूरी सेना को पंचायती सेना ने दम नहीं लेने दिया। दिन भर युद्ध होते रहते थे। रात्रि को जहां तैमूरी सेना ठहरती थी वहीं पर पंचायती सेना धावा बोलकर उनको उखाड़ देती थी। वीर देवियां अपने सैनिकों को खाद्य सामग्री एवं युद्ध सामग्री बड़े उत्साह से स्थान-स्थान पर पहुंचाती थीं। शत्रु की रसद को ये वीरांगनाएं छापा मारकर लूटतीं थीं। आपसी मिलाप रखवाने तथा सूचना पहुंचाने के लिए 500 घुड़सवार अपने कर्त्तव्य का पालन करते थे। रसद न पहुंचने से तैमूरी सेना भूखी मरने लगी। उसके मार्ग में जो गांव आता उसी को नष्ट करती जाती थी। तंग आकर तैमूर हरद्वार की ओर बढ़ा।

हरिद्वार युद्ध – मेरठ से आगे मुजफ्फरनगर तथा सहारनपुर तक पंचायती सेनाओं ने तैमूरी सेना से भयंकर युद्ध किए तथा इस क्षेत्र में तैमूरी सेना के पांव न जमने दिये। प्रधान एवं उपप्रधान और प्रत्येक सेनापति अपनी सेना का सुचारू रूप से संचालन करते रहे। हरद्वार से 5 कोस दक्षिण में तुगलुकपुर-पथरीगढ़ में तैमूरी सेना पहुंच गई। इस क्षेत्र में पंचायती सेना ने तैमूरी सेना के साथ तीन घमासान युद्ध किए।

उप-प्रधानसेनापति हरबीरसिंह गुलिया ने अपने पंचायती सेना के 25,000 वीर योद्धा सैनिकों के साथ तैमूर के घुड़सवारों के बड़े दल पर भयंकर धावा बोल दिया जहां पर तीरों तथा भालों से घमासान युद्ध हुआ। इसी घुड़सवार सेना में तैमूर भी था। हरबीरसिंह गुलिया ने आगे बढ़कर शेर की तरह दहाड़ कर तैमूर की छाती में भाला मारा जिससे वह घोड़े से नीचे गिरने ही वाला था कि उसके एक सरदार खिज़र ने उसे सम्भालकर घोड़े से अलग कर लिया। (तैमूर इसी भाले के घाव से ही अपने देश समरकन्द में पहुंचकर मर गया)। वीर योद्धा हरबीरसिंह गुलिया पर शत्रु के 60 भाले तथा तलवारें एकदम टूट पड़ीं जिनकी मार से यह योद्धा अचेत होकर भूमि पर गिर पड़ा।

(1) उसी समय प्रधान सेनापति जोगराजसिंह गुर्जर ने अपने 22000 मल्ल योद्धाओं के साथ शत्रु की सेना पर धावा बोलकर उनके 5000 घुड़सवारों को काट डाला। जोगराजसिंह ने स्वयं अपने हाथों से अचेत हरबीरसिंह को उठाकर यथास्थान पहुंचाया। परन्तु कुछ घण्टे बाद यह वीर योद्धा वीरगति को प्राप्त हो गया। जोगराजसिंह को इस योद्धा की वीरगति से बड़ा धक्का लगा।

(2) हरिद्वार के जंगलों में तैमूरी सेना के 2805 सैनिकों के रक्षादल पर भंगी कुल के उपप्रधान सेनापति धूला धाड़ी वीर योद्धा ने अपने 190 सैनिकों के साथ धावा बोल दिया। शत्रु के काफी सैनिकों को मारकर ये सभी 190 सैनिक एवं धूला धाड़ी अपने देश की रक्षा हेतु वीरगति को प्राप्त हो गये।

(3) तीसरे युद्ध में प्रधान सेनापति जोगराजसिंह ने अपने वीर योद्धाओं के साथ तैमूरी सेना पर भयंकर धावा करके उसे अम्बाला की ओर भागने पर मजबूर कर दिया। इस युद्ध में वीर योद्धा जोगराजसिंह को 45 घाव आये परन्तु वह वीर होश में रहा। पंचायती सेना के वीर सैनिकों ने तैमूर एवं उसके सैनिकों को हरद्वार के पवित्र गंगा घाट (हर की पौड़ी) तक नहीं जाने दिया। तैमूर हरिद्वार से पहाड़ी क्षेत्र के रास्ते #अम्बाला की ओर भागा। उस भागती हुई तैमूरी सेना का पंचायती वीर सैनिकों ने अम्बाला तक पीछा करके उसे अपने देश हरियाणा से बाहर खदेड़ दिया।

वीर सेनापति दुर्जनपाल अहीर मेरठ युद्ध में अपने 200 वीर सैनिकों के साथ दिल्ली दरवाज़े के निकट स्वर्ग लोक को प्राप्त हुये।

इन युद्धों में बीच-बीच में घायल होने एवं मरने वाले सेनापति बदलते रहे थे। कच्छवाहे गोत्र के एक वीर राजपूत ने उपप्रधान सेनापति का पद सम्भाला था। तंवर गोत्र के एक जाट योद्धा ने प्रधान सेनापति के पद को सम्भाला था। एक रवा तथा सैनी वीर ने सेनापति पद सम्भाले थे। इस युद्ध में केवल 5 सेनापति बचे थे तथा अन्य सब देशरक्षा के लिए वीरगति को प्राप्त हुये।

इन युद्धों में तैमूर के ढ़ाई लाख सैनिकों में से हमारे वीर योद्धाओं ने 1,60,000 को मौत के घाट उतार दिया था और तैमूर की आशाओं पर पानी फेर दिया।

हमारी पंचायती सेना के वीर एवं वीरांगनाएं 35,000, देश के लिये वीरगति को प्राप्त हुए थे।

प्रधान सेनापति की वीरगति – वीर योद्धा प्रधान सेनापति जोगराजसिंह गुर्जर युद्ध के पश्चात् ऋषिकेश के जंगल में स्वर्गवासी हुये थे।

(सन्दर्भ-जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठान्त-३७९-३८३ )

ध्यान दीजिये। एक सवर्ण सेना का उपसेनापति वाल्मीकि था। अहीर, गुर्जर से लेकर 36 बिरादरी उसके महत्वपूर्ण अंग थे। तैमूर को हराने वाली सेना को हराने वाली कौन थे? क्या वो जाट थे?बनिए थे? क्या वो भंगी या वाल्मीकि थे? क्या वो जातिवादी थे?

नहीं वो सबसे पहले देशभक्त थे। धर्मरक्षक थे। श्री राम और श्री कृष्ण की संतान थे? गौ, वेद , जनेऊ और यज्ञ के रक्षक थे।

आज भी हमारा देश उसी संकट में आ खड़ा हुआ है। आज भी विधर्मी हमारी जड़ों को काट रहे है। आज भी हमें फिर से से एकजुट होकर अपने धर्म, अपनी संस्कृति और अपनी मातृभूमि की रक्षा का व्रत लेना हैं। यह तभी सम्भव है जब हम अपनी संकीर्ण मानसिकता से ऊपर उठकर सोचना आरम्भ करेंगे। आप में से कौन कौन मेरे साथ है?

लेखक : डा. विवेक आर्य

HistoryFacts : “The Tiger of Sundarban”.

HistoryFacts : “The Tiger of Sundarban”

The following chapter hasbeen taken from the historical accounts of :
▪︎Eaton, Richard. 2009. Forest clearing and the growth of Islam in Bengal. 375-389 Islam in South Asia in Practice edited by Barbara D. Metcalf, Princeton. Princeton University Press.
▪︎Ali, Momammad. 1979. Pun̐thi Sāhitye Baṅga Jayer Itihās o Gājī-Kālu-Campābatī [History of the Conquest of Bengal in Chapbook Literature and Gaji-Kalu-Champabati].. Bāgurā. Bāgurā Jelā Pariṣad
▪︎Anooshahr, Ali. 2008. The Ghazi Sultans and the Frontiers of Islam: A Comparative Study of the Late Medieval and Early Modern Periods. New York. Routledge 10.4324/9780203886656
▪︎Chattopadhyaya, Brajadulal. 2003. Studying Early India: Archeology, Texts and Historical Issues. New Delhi. Permanent Black.
▪︎”Dakshin-Ray”. nationalmuseumindia.gov.in. Retrieved December 25, 2017.
▪︎Eaton, Richard. 1993. The Rise of Islam and the Bengal Frontier, 1204–1760. Berkeley. University of California Press.

● In 1294 CE, the Nawab of #DelhiSultanate Jalal-ud-din-Firuz Khilji of the invading Turkic #KhiljiDynasty ordered his commander Zafar Khan Ghazi to capture Sundarban. Zafar Khan Ghazi along with his son Bara Khan Ghazi invaded Bengal, captured some territory neighbouring #Sundarban & started mass killings & forced conversions of the native population. When the invading Turk forces reached Shaktigarh, Maharaja Dakshin Ray of Bhati Bengal Kingdom defeated them in the Battle of Khaniya. In the ensuing battle, Zafar Khan Ghazi was beheaded by the Bengal-Chakma Army & Bara Khan Ghazi was made a prisoner.
Now, Zafar Khan Ghazi & his son Bara Khan Ghazi are referred to as Martyrs of Islam. Bara Khan Ghazi got the title ‘Shaheed Barkhan Gaji Shaheb’ & Zafar Khan Ghazi’s tomb still exist on the ruins of a Vishnu Temple in Tribeni, #WestBengal, India. Whereas, Maharaja Dakshin Ray’s legacy hasbeen erased from the history books of the Indian Subcontinent. However, still few small temples of Sundarban in India & Bangladesh have preserved Dakshin Ray’s statue as a sacred deity.

How India prevented from Muslim terrorism by Kshatriyas

स्वयं भी पढ़ें और अपने बच्चों को भी पढ़ाएं, ये आपकी आंखें खोल देगी…*

👉 622 ई से लेकर 634 ई तक मात्र 12 वर्ष में अरब के सभी मूर्तिपूजकों को मुहम्मद ने इस्लाम की तलवार के बल पर मुसलमान बना दिया।
👉 634 ईस्वी से लेकर 651 तक, यानी मात्र 16 वर्ष में सभी पारसियों को तलवार की नोक पर इस्लाम का कलमा पढ़वा दिया गया।
👉 640 में मिस्र में पहली बार इस्लाम ने पांव रखे, और देखते ही देखते मात्र 15 वर्षों में, 655 तक इजिप्ट के लगभग सभी लोग मुसलमान बना दिये गए।
👉 नार्थ अफ्रीकन देश जैसे – अल्जीरिया, ट्यूनीशिया, मोरक्को आदि देशों को 640 से 711 ई तक पूर्ण रूप से इस्लाम धर्म मे बदल दिया गया, 3 देशों का सम्पूर्ण सुख चैन लेने में मुसलमानो ने मात्र 71 साल लगाए।
👉 711 ईस्वी में स्पेन पर आक्रमण हुआ, 730 ईस्वी तक स्पेन की 70% आबादी मुसलमान थी। मात्र 19 वर्षों में!
👉 तुर्क थोड़े से वीर निकले, तुर्को के विरुद्ध जिहाद 651 ईस्वी में शुरू हुआ, और अगले सौ वर्ष तक संघर्ष करते करते अंततः 751 ईस्वी तक सारे तुर्क मुसलमान बना दिये गए।
👉 इंडोनेशिया के विरुद्ध जिहाद मात्र 40 वर्ष में पूरा हुआ। 1260 में मुसलमानो ने इंडोनेशिया में मार काट मचाई, और 1300 ईस्वी तक सारे इंडोनेशियाई मुसलमान बन चुके थे।
👉 फिलिस्तीन, सीरिया, लेबनान, जॉर्डन आदि देशों को 634 से 650 के बीच मुसलमान बना दिया गया।
उसके बाद 700 ईस्वी में भारत के विरुद्ध जिहाद शुरू हुआ जो अब तक चल रहा है।
👉 अब आप भारत की स्थिति देखिये… जिस समय आक्रमणकारी ईरान तक पहुंचकर अपना बड़ा साम्राज्य स्थापित कर चुके थे, उस समय उनकी हिम्मत नही थी कि भारत के राजपूत साम्राज्य की और आंख उठाकर भी देख सकें..!!
👉 636 ईस्वी में खलीफा ने भारत पर पहला हमला बोला। एक भी आक्रांता जिंदा वापस नही जा पाया।
👉 कुछ वर्ष तक तो मुस्लिम आक्रान्ताओ की हिम्मत तक नही हुई कि भारत की ओर मुंह करके सोया भी जाएं, लेकिन कुछ ही वर्षो में गिद्धों ने अपनी जाति दिखा ही दी…!
👉 दोबारा आक्रमण हुआ, इस समय खलीफा की गद्दी पर उस्मान आ चुका था। उसने हाकिम नाम के सेनापति के साथ विशाल इस्लामी टिड्डिडल भारत भेजा। सेना का पूर्णतः सफाया हो गया, और सेनापति हाकिम बंदी बना लिया गया। हाकिम को भारतीय राजपूतो ने बहुत मारा, और बड़े बुरे हाल करके वापस अरब भेजा, जिससे उनकी सेना की दुर्गति का हाल, उस्मान तक पहुंच जाएं।
👉 यह सिलसिला लगभग 700 ईस्वी तक चलता रहा। जितने भी मुसलमानों ने भारत की तरफ मुँह किया, राजपूतो ने उनका सिर कंधे से नीचे उतार दिया ।।
👉 जब 7वी सदी इस्लाम की शुरू हुई, जब अरब से लेकर अफ्रीका, ईरान, कई यूरोपीए देश, सीरिया, मोरक्को, ट्यूनीशिया, तुर्की यह बड़े बड़े देश जब मुसलमान बन गए, भारत में “बप्पा रावल” महाराणा प्रताप के पितामह का जन्म हो चुका था। वे पूर्णतः योद्धा बन चुके थे, इस्लाम के पंजे में जकड़ गए अफगानिस्तान तक से मुसलमानों को उस वीर ने मार भगाया। केवल यही नही, वह लड़ते लड़ते खलीफा की गद्दी तक जा पहुंचे, जहां खुद खलीफा को अपनी जान की भीख मांगनी पड़ी।
👉 उसके बाद भी यह सिलसिला रुका नहीं। नागभट्ट प्रतिहार द्वितीय जैसे योद्धा भारत को मिले। जिन्होंने अपने पूरे जीवन राजपूत धर्म का पालन करते हुए पूरे भारत की न केवल रक्षा की, बल्कि हमारी शक्ति का डंका विश्व में बजाए रखा।
👉 पहले बप्पा रावल में साबित किया था कि अरब अपराजित नही हैं, लेकिन 836 ई के समय भारत में वह हुआ, जिससे विश्वविजेता मुसलमान थर्रा गए…। मुसलमानों ने अपने इतिहास में उन्हें अपना सबसे बड़ा दुश्मन कहा है, वह सरदार भी राजपूत ही थे।
👉सम्राट मिहिरभोज प्रतिहार। मिहिरभोज के बारे में कहा जाता है, कि उनका प्रताप ऋषि अगस्त्य से भी अधिक चमका..। ऋषि अगस्त्य वही है, जिन्होंने श्रीराम को वह अस्त्र दिया था, जिससे रावण का वध सम्भव था। राम के विजय अभियान के हिडन योद्धाओं में एक..! उन्होंने मुसलमानो को केवल 5 गुफाओं तक सीमित कर दिया।। यह वही समय था, जिस समय मुसलमान किसी युद्ध में केवल जीत हासिल करते थे, और वहां की प्रजा को मुसलमान बना देते, भारत के वीर राजपूत मिहिरभोज ने इन अक्रान्ताओ को अरब तक थर्रा दिया था।
👉 पृथ्वीराज चौहान तक इस्लाम के उत्कर्ष के 400 सालों बाद तक भारत के राजपूतो ने इस्लाम नाम की बीमारी भारत को नही लगने दी, उस युद्ध काल में भी भारत की अर्थव्यवस्था को गिरने नही दिया।। उसके बाद कुछ राजपूतों की आपसी खींच तान व दुश्मनी का शैतानी सहारा लेकर मुसलमान कुछ जगह घुसने में कामयाब भी हुए, लेकिन राजपूतों ने सत्ता गंवाकर भी हार नही मानी। एक दिन वह चैन से नही बैठे, अंतिम वीर दुर्गादास जी राठौड़ ने दिल्ली को झुकाकर, जोधपुर का किला मुगलों के हलक ने निकाल कर हिन्दू धर्म की गरिमा, वीरता और शौर्य को चार चांद लगा दिए ।।
👉 किसी भी देश को मुसलमान बनाने में मुसलमानो ने औसतन 20 वर्ष नही लिए। भारत में 500 वर्ष अलग अलग क्षेत्रों पर राज करने के बाद भी मेवाड़ के शेर महाराणा राजसिंह ने अपने घोड़े पर भी इस्लाम की मुहर नही लगने दी।
👉 महाराजा रणजीत सिंह के पराक्रम को कौन नहीं जानता जिन्होंने हर दुश्मन को पराजित किया
👉 महाराणा प्रताप, दुर्गादास राठौड़, मिहिरभोज, दुर्गावती, चौहान, परमार सहित लगभग सारे राजपूत अपनी मातृभूमि के लिए जान पर खेलते गए। एक समय तो ऐसा आ गया था जब लड़ते लड़ते राजपूत केवल 2% पर आकर ठहर गए ।।
👉 एक बार पूरी दुनिया की ओर देखें और आज अपना वर्तमान देखे…!! जिन मुसलमानो ने 20 वर्षों में लगभग आधे विश्व की आबादी को मुसलमान बना दिया, वह भारत में केवल पाकिस्तान बांग्लादेश तक सिमट कर ही क्यों रह गए ?
👉 मान लिया कि उस समय लड़ना राजपूत राजाओं का धर्म था, लेकिन जब राजाओं ने अपना धर्म निभा दिया, तो आज उनकी बेटियों, पोतियों पर काल्पनिक कहानियां गढ़कर उन योद्धाओं के वंशजो का हिंदुओ द्वारा ही अपमान किया गया। कुछ कथित सेकुलर हिन्दूओं द्वारा ही उन आक्रांताओं के थोपे गए झूंठे इतिहास का महिमामंडन करना बेहद शर्मनाक है।
👉 राजा भोज, विक्रमादित्य, नागभट्ट प्रथम, नागभट्ट द्वितीय, चंद्रगुप्त मौर्य, बिंदुसार, समुद्रगुप्त, स्कंदगुप्त, छत्रसाल बुंदेला, आल्हा उदल, राजा भाटी, भूपत भाटी, चाचादेव भाटी, सिद्ध श्री देवराज भाटी, कानड़ देव चौहान, वीरमदेव चौहान, हठी हम्मीर देव चौहान, विग्रहराज चौहान, मालदेव सिंह राठौड़, विजय राव लांझा भाटी, भोजदेव भाटी, चूहड़ विजयराव भाटी, बलराज भाटी, घड़सी, रतनसिंह, राणा हमीर सिंह और अमर सिंह, अमर सिंह राठौड़, दुर्गादास राठौड़, जसवंत सिंह राठौड़ मिर्जा, राजा जयसिंह, राजा जयचंद, भीमदेव सोलंकी, सिद्ध श्री राजा जय सिंह सोलंकी, पुलकेशिन द्वितीय सोलंकी, रानी दुर्गावती, रानी कर्णावती, राजकुमारी रत्नाबाई, रानी रुद्रा देवी, हाड़ी रानी, पद्मावती, तोगा जी, वीरवर कल्लाजी, जयमल जी जेता कुपा, गोरा बादल राणा रतन सिंह, पजबन राय जी कच्छवा, मोहन सिंह मंढाड़, राजा पोरस, हर्षवर्धन बेस, सुहेलदेव बेस, राव शेखाजी, राव चंद्रसेन जी दोड़, राव चंद्र सिंह जी राठौड़, कृष्ण कुमार सोलंकी, ललितादित्य मुक्तापीड़, जनरल जोरावर सिंह कालुवारिया, धीर सिंह पुंडीर, बल्लू जी चंपावत, भीष्म रावत चुण्डा जी, रामसाह सिंह तोमर और उनका वंश, झाला राजा मान सिंह, महाराजा अनंगपाल सिंह तोमर, स्वतंत्रता सेनानी राव बख्तावर सिंह अमझेरा वजीर सिंह पठानिया, राव राजा राम बक्स सिंह, व्हाट ठाकुर कुशाल सिंह, ठाकुर रोशन सिंह, ठाकुर महावीर सिंह, राव बेनी माधव सिंह, डूंगजी, भुरजी, बलजी, जवाहर जी, छत्रपति शिवाजी और हमारे न जाने अनगिनत लोक देवता और एक से बढ़कर एक योद्धा लोक देवताओं, संत, सती जुझार, भांजी जडेजा, अजय पाल देव जी।
👉 यह तो केवल कुछ ही नाम हैं जिन्हें हमने गलती से किसी इतिहास या फिर किसी पुस्तक में पढ़ लिया वरना स्कूल पाठ्यक्रम में तो इन वीरों नाम निशान नहीं मिलेगा। एक से बढ़कर एक योद्धा पैदा हुए हैं जिन्होंने 18 वर्ष की आयु से पहले ही अपना योगदान दे दिया घर के घर, गांव के गांव, ढाणी की ढाणी खाली हो गईं… जब कोई भी पुरुष नहीं बचा किसी गांव या ढाणी में पूरा का पूरा परिवार पूरे पूरे गांव कुर्बान हो गए… एक रणभेरी पर बच्चा बच्चा जान हथेली पर रखकर चल गया धर्म के लिए आहुति देने…।
👉 आज हमारे यहाँ हिन्दू, सिख, ईसाई आदि इन्हीं बलिदानियों के महान बलिदानों के कारण अस्तित्व में बचे हुए हैं।

*👉 सभी बंधुओं से निवेदन है कि यह जानकारी अधिक से अधिक शेयर करें क्योंकि ये जानकारी पाठ्यपुस्तकों में पढ़ने को नहीं मिलेगी। कारण यह है कि स्वतंत्र भारत के पहले पांच शिक्षा मंत्री उन आक्रांता मुगलों के प्रचारक थे!!

Read yourself and teach your children too, it will open your eyes…*

In just 12 years from 622 AD to 634 AD, Muhammad converted all the idolaters of Arabia to Islam on the strength of the sword of Islam.
From 634 AD to 651, that is, in just 16 years, all the Parsis were taught the Kalama of Islam at the tip of the sword.
Islam first set foot in Egypt in 640, and in just 15 years, by 655, almost all the people of Egypt were converted to Islam.
North African countries like – Algeria, Tunisia, Morocco etc. were completely converted to Islam from 640 to 711 AD, Muslims took only 71 years to take complete happiness of 3 countries.
Spain was invaded in 711 AD, by 730 AD 70% of the population of Spain was Muslim. In just 19 years!
The Turks turned out to be a little brave, the jihad against the Turks began in 651 AD, and after fighting for the next hundred years, all the Turks were finally converted to Muslims by 751 AD.
Jihad against Indonesia completed in just 40 years. In 1260, Muslims attacked Indonesia, and by 1300 AD all Indonesians had become Muslims.
Countries like Palestine, Syria, Lebanon, Jordan etc. were made Muslims between 634 and 650.
_ after that jihad against India started in 700 AD which is going on till now._
Now you see the condition of India… At the time when the invaders had established their big empire after reaching Iran, at that time they did not have the courage to see the Rajput empire of India even by raising their eyes..!!
In 636 AD, the Caliph launched the first attack on India. Not a single invader could go back alive.
For a few years, the Muslim invaders did not even dare to sleep facing India, but within a few years the vultures showed their caste…!
There was an attack again, at this time Osman had come to the throne of the Caliph. He sent a huge Islamic locust to India with a general named Hakim. The army was completely wiped out, and the commander Hakim was taken prisoner. The prince was killed a lot by the Indian Rajputs, and sent back to Arabia in a very bad condition, so that the condition of the misfortune of his army would reach Osman.
This process continued till about 700 AD. All the Muslims who turned their face towards India, Rajputs took their heads down from the shoulders.
When 7th century Islam started, when from Arabia to Africa, Iran, many Europa countries, Syria, Morocco, Tunisia, Turkey when these big countries became Muslims, “Bappa Rawal” Maharana Pratap’s grandfather was born in India It was over He had become a complete warrior, the Muslims were killed by that hero from Afghanistan, caught in the claws of Islam. Not only this, while fighting he reached the throne of the Caliph, where the Caliph himself had to beg for his life.
Even after that this process did not stop. India got warriors like Nagabhatta Pratihara II. Those who followed Rajput religion their whole life not only protected the whole of India, but also kept the sting of our power in the world.
It was first proved in Bappa Rawal that Arabs are not undefeated, but during 836 AD, it happened in India, which stunned the world-conquering Muslims. Muslims have called him their biggest enemy in their history, that Sardar was also a Rajput.
Emperor Mihirbhoja Pratihara. It is said about Mihirbhoja, that his majesty shone more than sage Agastya. Sage Agastya is the one who gave the weapon to Shri Ram, by which it was possible to kill Ravana. One of the hidden warriors of Rama’s conquest..! He limited the Muslims to only 5 caves. This was the same time, when the Muslims only won a war in a war, and would have made the people there Muslims, the brave Rajput of India, Mihirbhoj, shook these revolutionaries to Arabia.
Till 400 years after the rise of Islam till Prithviraj Chauhan, the Rajputs of India did not let the disease named Islam affect India, did not allow India’s economy to fall even during that war. After that, the Muslims managed to enter some places by taking the diabolical support of mutual tension and enmity of some Rajputs, but the Rajputs did not give up even after losing their power. One day he did not sit peacefully, the last hero Durgadas ji Rathore bowed down Delhi, the fort of Jodhpur was taken out by the circles of the Mughals, adding to the dignity, valor and valor of Hindu religion. .
Muslims did not take an average of 20 years to convert any country into a Muslim. Even after ruling over different regions in India for 500 years, Maharana Raj Singh, the lion of Mewar, did not allow the stamp of Islam even on his horse.
Who does not know the might of Maharaja Ranjit Singh who defeated every enemy
Almost all Rajputs including Maharana Pratap, Durgadas Rathod, Mihirbhoj, Durgavati, Chauhan, Parmar went on to play for their motherland. There was a time when the fighting Rajputs stopped at only 2%.
Look at the whole world once and see your present today…!! The Muslims who converted almost half of the world’s population into Muslims in 20 years, why did they remain confined to Pakistan and Bangladesh only in India?
It was accepted that fighting was the religion of the Rajput kings at that time, but when the kings performed their religion, today the descendants of those warriors were insulted by the Hindus by creating imaginary stories on their daughters and granddaughters. Glorifying the false history imposed by some so-called secular Hindus

बंद हो जिहादी सूफियों को ‘संत’ कहना

*मंदिर तोड़े, गाँव के गाँव मुस्लिम बना दिए•
*राजाओं का भी किया धर्मांतरण•
*बंद हो जिहादी सूफियों को ‘संत’ कहना•
*वामपंथियों ने किया गुणगान•


भारत में अक्सर ‘सूफी परंपरा’ की तुलना ‘भक्ति आंदोलन’ से की जाती रही है। ऐसा जानबूझ कर किया जाता है, ताकि रैदास और चैतन्य महाप्रभु जैसों की तुलना में ख्वाजा मोईनुद्दीन चिश्ती और चाँद मियाँ जैसों को खड़ा किया जा सके। सूफियों को ‘संत’ कहा जाता है, ताकि हिन्दू भी उनका सम्मान करें, उनकी पूजा करें और उनके मजार पर जाकर मत्था टेकें। क्या वाकई में ये सूफी इतने महान थे? इन्हिने हिन्दू-मुस्लिम एकता बढ़ाई और गरीबों की सेवा की?

असल में इन सूफी फकीरों को भेजा ही इसीलिए जाता था, ताकि वो गरीबों को बहला-फुसला कर और उनके साथ प्रेमपूर्वक बर्ताव कर के इस्लामी धर्मांतरण कराएँ। जैसे इस्लामी शासन खून-खराबे से साम्राज्य विस्तार करते चलते थे, इन सूफियों को समाज को तोड़ने के लिए लगाया जाता था। वो अच्छी-अच्छी बातें करते थे, ताकि लोग उन्हें ‘संत’ मानें। उद्देश्य इस्लामी आक्रांताओं और सूफियों का समान ही था – इस्लाम का विस्तार।

लेखिका तस्लीमा नसरीन ने भी अपनी पुस्तक ‘निषिद्ध’ में लिखा है कि सूफियों के ‘प्रेमपूर्वक बर्ताव’ के कारण कई हिन्दुओं ने धर्मांतरण किया। इसका एक उदाहरण देखिए। पेंटर अकबर पद्ममसी के पूर्वज कभी हिन्दू हुआ करते थे, लेकिन 17वीं शताब्दी सूफी पीर सददीन ने उनके परिवार का इस्लामी धर्मांतरण करा के उन्हें मुस्लिम बना दिया। पूरे परिवार के मन में बिठा दिया गया कि पैगंबर मुहम्मद, विष्णु के 11वें अवतार हैं।

आइए, एक उदाहरण बंगाल से भी लेते हैं। बंगाल में एक राजा गणेश हुए हैं। उनके राज्य में भी क़ुतुब अल आलम नाम का सूफी फ़कीर आकर रहता था और उसने अपनी ‘चमत्कारी’ छवि बना रखी थी। आक्रांताओं के खतरे को कम करने के लिए राजा ‘चमत्कार’ का सहारा लेने पहुँचे। सूफी ने कह दिया कि राजा गणेश का बेटा जदु यदि इस्लाम अपना कर राज्य चलाता है तो सारे खतरे टल जाएँगे।

फिर क्या था, जदु को ‘जलालुद्दीन मुहम्मद शाह’ बना कर गद्दी पर बिठा दिया गया। क़ुतुब अल आलम की मौत के बाद राजा गणेश ने पूरे विधि-विधान से उसे हिन्दू धर्म में वापस लाने की प्रक्रिया पूरी की और ‘दनुजमर्दन देव’ नाम से उसका नया नामकरण किया। हालाँकि, ‘सूफी’ का प्रभाव उस पर ऐसा पड़ा था कि पिता की मौत के बाद उसने फिर इस्लाम अपना लिया। उसका बेटा ‘शमशुद्दीन अहमद शाह’ हुआ। 15वीं शताब्दी के दूसरे दशक में हुए इस उथल-पुथल ने बंगाल में इस्लाम का विस्तार शुरू किया।

इसी तरह 14वीं शताब्दी के कुछ शिलालेख शाह जलाल मुजर्रद की बातें करते हैं। बताया गया है कि वो ‘जिहाद’ और ‘काफिरों के खिलाफ युद्ध’ के लिए भारत आया था। साथ ही कहा गया था कि ‘दारुल हरब (नॉन-इस्लाम के राज वाली भूमि)’ में शहीद होकर वो ‘गाजी’ बन सकता है, ऐसी उसे शिक्षा मिली थी। वो युद्ध लड़ता था और अपने जीत होने पर अपने अनुयायियों के साथ इस्लाम का झंडा गाड़ता था।

इसी तरह बंगाल के एक और तथाकथित ‘सूफी संत’ शेख जलाल अल-दीन तबरीजी को देखिए। 13वीं शताब्दी में वो दिल्ली आया था, लेकिन वहाँ भाव न मिलने पर बंगाल आ गया। उसके पक्ष में दलीलें दी जा सकती हैं कि उसने अस्पताल व सामुदायिक किचन बनवाए, लेकिन उसके बारे में समकालीन स्रोतों ने ये भी लिखा है कि उसने एक ‘काफिर’ द्वारा बनवाए गए मंदिर को ध्वस्त कर दिया और उसकी जगह वहाँ ‘सूफी तकिया (रेस्ट हाउस)’ बनवाया। लिखा है कि उसने कई ‘काफिरों’ का इस्लामी धर्मांतरण कराया था।

ये भारत में आने वाले सबसे शुरुआती सूफी लोग थे। जब शुरुआत ही ऐसी थी तो फिर उसके बाद क्या सब हुआ होगा, ये आप समझ सकते हैं। असल में ये सूफी इस्लामी आक्रांताओं का मुखौटा होते थे, जो समाज को प्रदूषित करते हुए हिन्दू राजाओं के विरुद्ध माहौल तैयार करते थे। कभी-कभी ये युद्ध भी लड़ते थे। इस्लामी आक्रांताओं का राज आने पर इन्हें महत्वपूर्ण स्थान मिलता था, इसीलिए गरीब लोग भी इन्हें अपना सब कुछ मान लेते थे।

आइए, अब उन दो सूफी संतों की बात करते हैं, जिन्हें भारत में आज भी पूजा जाता है। स्पष्ट है कि पहला नाम इसमें अजमेर के ख्वाजा मोईनुद्दीन चिश्ती का है। ये महज ‘संयोग’ ही था या कुछ और कि जिस साल मोहम्मद गोरी हार कर भागा, उसके अगले ही साल या कुछ ही दिनों बाद एक सूफी संत ने अजमेर में डेरा जमाया, पृथ्वीराज चौहान की राजधानी में। वहाँ वह कई चमत्कार करने लगा। आस-पास के लोगों में उसके प्रति जिज्ञासा जागी। वह लोगों से काफी अच्छे से पेश आता। गाँव के गाँव इस्लाम में धर्मांतरित होने शुरू हो गए।

बिना हथियार उठाए चिश्ती ने वो जमीन तैयार कर दी, जहाँ वो अगले 44 वर्षों तक इस्लाम का प्रचार-प्रसार करता रहा। 1191 में गोरी हारा और 1192 में दोबारा लौट कर आया। इसी अवधि के बीच चिश्ती ने अजमेर में डेरा जमाया। आखिर ऐसे संवेदनशील समय में चिश्ती भारत क्यों आया था? वो अपने चेलों-शागिर्दों के साथ पहुँचा था। चिश्ती ‘काफिरों के खिलाफ इस्लामी जिहाद’ के लिए भारत आया था।

तभी तो पृथ्वीराज चौहान की हार के बाद ‘ख्वाजा’ मोईनुद्दीन चिश्ती ने जीत का श्रेय लेते हुए कहा था, “हमने पिथौरा (पृथ्वीराज चौहान) को जिंदा दबोच लिया और उसे इस्लाम की फौज के हवाले कर दिया।” पृथ्वीराज चौहान के खिलाफ गद्दारी वाला युद्ध लड़ने के लिए ही मोईनुद्दीन चिश्ती भारत आया था, ताकि वो मोहम्मद गोरी की तरफ से उसकी सहायता कर सके और उसका काम आसान कर सके।

इसी तरह बहराइच में गाजी सैयद सालार मसूद उर्फ़ गाजी मियाँ की दरगाह है, जिसने हिन्दुओं का कत्लेआम किया था और धर्म ग्रंथों को तहस-नहस किया था। उसे महाराजा सुहेलदेव ने सन् 1034 के एक युद्ध में मार गिराया था। गाजी भारत में कई बार आक्रमण करने वाले मौमूद गजनवी का भांजा था। इस्लामी आक्रांता फिरोजशाह तुगलक ने उसका मजार बनवाया था। वामपंथियों की मानें तो हिन्दू उसे प्यार से ‘बाले मियाँ’ और ‘हठीला’ कहते थे, बाल श्रीकृष्ण से उसकी तुलना करते थे।

उसने ज़ुहरा बीबी नाम की एक लड़की से शादी की थी। दावा किया जाता है कि उसने उस लड़की का अंधापन ठीक कर दिया था। हालाँकि, आपको भारत में आए सूफियों और फकीरों के बारे में कई ऐसी कहानियाँ मिलेंगी, जहाँ उन्होंने किसी लड़की या उसके परिवार पर इस तरह का ‘चमत्कार’ कर के उससे शादी की हो। इतिहासकार एना सुवोरोवा ने तो गाजी मियाँ की तुलना श्रीकृष्ण और श्रीराम तक से कर दी है और कहा है कि हिन्दू उसे इसी रूप में देखते थे।

‘दैनिक जागरण’ में वरिष्ठ लेखक व पत्रकार अनंत विजय ने भी अपने एक स्तंभ में लेखक सुधीश पचौरी के हवाले से लिखा है कि ये सूफी इस्लाम के प्रचारक थे। वो सुल्तानों के साथ आते थे, और कट्टर से इतर नरम रुख अपनाते थे। सुल्तान जहाँ जाते थे, वहाँ सूफी इस्लाम को मजबूर करने निकल पड़ते थे। हिंदी साहित्य में भी ‘संत’ बता कर उनका महिमामंडन किया गया। अब समय आ गया है कि इन सूफियों को ‘संत’ न कहा जाए।
(26 September, 2021अनुपम कुमार सिंहआप इण्डिया काम)

Rajput and resistance against Muslims

सन् 1840 में काबुल में युद्ध में 8000 पठान मिलकर भी 1200 राजपूतो का मुकाबला 1 घंटे भी नही कर पाये।
वही इतिहासकारो का कहना था की चित्तोड की तीसरी लड़ाई जो 8000 राजपूतो और 60000 मुगलो के मध्य हुयी थी वहा अगर राजपूत 15000 राजपूत होते तो अकबर भी जिंदा बचकर नहीं जाता।
इस युद्ध में 48000 सैनिक मारे गए थे जिसमे 8000
राजपूत और 40000 मुग़ल थे वही 10000 के करीब
घायल थे।
और दूसरी तरफ गिररी सुमेल की लड़ाई में 15000
राजपूत 80000 तुर्को से लडे थे, इस पर घबराकर शेर
शाह सूरी ने कहा था “मुट्टी भर बाजरे (मारवाड़)
की खातिर हिन्दुस्तान की सल्लनत खो बैठता”
उस युद्ध से पहले जोधपुर महाराजा मालदेव जी नहीं गए
होते तो शेर शाह ये बोलने के लिए जीवित भी नही
रहता।
इस देश के इतिहासकारो ने और स्कूल कॉलेजो की
किताबो मे आजतक सिर्फ वो ही लडाई पढाई
जाती है जिसमे हम कमजोर रहे,
वरना बप्पा रावल और राणा सांगा जैसे योद्धाओ का नाम तक सुनकर मुगल की औरतो के गर्भ गिर जाया करते थे, रावत रत्न सिंह चुंडावत की रानी हाडा का त्यागपढाया नही गया जिसने अपना सिर काटकर दे दिया था।
पाली के आउवा के ठाकुर खुशहाल सिंह
को नही पढाया जाता, जिन्होंने एक अंग्रेज के अफसर का सिर काटकर किले पर लटका दिया था।
जिसकी याद मे आज भी वहां पर मेला लगता है। दिलीप सिंह जूदेव का नही पढ़ाया जाता जिन्होंने एक लाख आदिवासियों को फिर से हिन्दू बनाया था।
महाराजा अनंगपाल सिंह तोमर
महाराणा प्रतापसिंह
महाराजा रामशाह सिंह तोमर
वीर राजे शिवाजी
राजा विक्रमाद्तिया
वीर पृथ्वीराजसिंह चौहान
हमीर देव चौहान
भंजिदल जडेजा
राव चंद्रसेन
वीरमदेव मेड़ता
बाप्पा रावल
नागभट प्रतिहार(पढियार)
मिहिरभोज प्रतिहार(पढियार)
राणा सांगा
राणा कुम्भा
रानी दुर्गावती
रानी पद्मनी
रानी कर्मावती
भक्तिमति मीरा मेड़तनी
वीर जयमल मेड़तिया
कुँवर शालिवाहन सिंह तोमर
वीर छत्रशाल बुंदेला
दुर्गादास राठौर
कुँवर बलभद्र सिंह तोमर
मालदेव राठौर
महाराणा राजसिंह
विरमदेव सोनिगरा
राजा भोज
राजा हर्षवर्धन बैस
बन्दा सिंह बहादुर
इन जैसे महान योद्धाओं को नही पढ़ाया/बताया जाता है, जिनके नाम के स्मरण मात्र से ही शत्रुओं के शरीर में आज भी कंपकंपी शुरू हो जाती है।

From World’s Education Capital to Depths of Illiteracy – Part III

Ancient Indian education -By Miss Singh

Indian architecture

Deathly blow to Indian universities

Imagine a group of horsemen riding into the campus of a world-famous university, mowing down students and professors until their bodies lie scattered everywhere. Imagine the same scene repeated at other universities, one after the other. And imagine all this in a time when there were no computers, no digital storage devices and no clouds to save the knowledge accumulated over generations. Mindless violence unleashed on the foremost universities of the time – Nalanda, Vikramshila and Odantapuri by Mohammad Bakhtyar Khilji and his men sent shock waves through Indic lands in the 13th century. The sacredness associated with institutions and persons of learning was violated in a manner never seen in India before.

The attack was chronicled by Minhaj-i-Siraj, principal historian of the Delhi Sultans in Tabaqat-i-Nasiri, who described the slaughter of thousands of “Brahmins” with shaven heads.

“There were a great number of books there; and, when all these books came under the observation of the Musalmans, they summoned a number of Hindus that they might give them information respecting the import of those books; but the whole of the Hindus had been killed.” (A.S.Altekar, 1944)

It is ironic that Bakhtyar Khilji hailed from a tribe in what is known as Afghanistan today, which practised Buddhism for centuries before being overrun by Ghaznavids and converting to Islam. In subsequent years, as Muslim rule spread and consolidated in different parts of India, many more universities were destroyed, such as Jagaddala, Somapura, Valabhi, Kashmir and others.  As the news spread, scholars abandoned their colleges even before the Muslim invaders appeared. In Banaras, one of India’s ancient centres of education, when several hundreds of temples were destroyed by Qutubuddin Aibak in the 12th century, many learned Brahmins who taught there fled to southern India along with their families (A.S.Altekar, 1944). Some of the scholars who escaped from Vikramshila and other universities, such as Sakya Sribhadra and Vibhutichandra made their way to Tibet, another hub of higher learning (Mookerjee, 1960). Records maintained by Buddhist monks at Tibet give accounts of the destruction of Indian universities. Translations of Sanskrit texts preserved in Tibet help to give some idea of the books that were found in the libraries of the great Indian universities (Sharma R. N., 2012).

Picture captioned “The end of Buddhist Monks, A.D. 1193” in Hutchinson’s Story of the Nations (Pg 169) shows Bakhtyar Khilji trying to make sense of the manuscripts that fell into his hands, Wikimedia Commons.

Had the rulers of India learned lessons from the earlier destruction of libraries in Alexandria, Cordoba, Persia and Ghazni (many of which contained texts that originated in India itself), and put their differences aside, perhaps India would boast of the world’s longest running universities today. More importantly, India would have retained its link with ancient works in Sanskrit, especially the ones on science and medicine. The destruction of key centres of higher education in India, including temples and the persecution of Hindus, Buddhists and other followers of Dharmic faiths during the centuries of Muslim domination affected the progress of Sanskrit scholarship considerably. The writing of new smritis and their revisions suffered a setback.

Historian A.L Srivastava has described the “325 years of Turko-Afghan rule” as a period of great suffering for Hindus, which were clearly not conducive to education, especially female education.

Not only were they deprived of their position as rulers, ministers, governors and commanders of troops, but were also treated contemptuously. The Turkish Sultans and their principal followers sought their brides from well-to-do Hindu families and compelled the proud chiefs to part with their daughters. In accordance with the Muslim law, the Hindu girls were first deprived of their religion, converted to Islam, and then married. (A.L.Srivastava, 1964)

The accounts of Brahmins fleeing to different parts of India to escape Muslim persecution are too many to be missed. Despite attempts by scholars to regroup in distant locations, and even to rebuild some of the destroyed universities, the old glory of Indic educational institutions could not be restored. The absence of science education that was noted by British chroniclers in a later era can be linked to the Muslim invasions of India. Sanskrit works of scientists and mathematicians of earlier periods began to be forgotten in their land of origin, even as their Arabic and Latin translations as well as plagiarised versions became the basis of science, mathematics and technology in Europe (See Part 2 of this article series).

Emphasis on Islamic Education

Madrasa built by Mahmud Gawan in Bidar, Karnataka. Photo: Syed Suhaib Mustafa, Wikimedia Commons

As the various Muslim dynasties got entrenched within India, education with the aim of imparting Islamic teachings became the norm. Muktabs and madrasas attached to mosques began to impart training in Islamic traditions. Says M.A. Khan in “Islamic Jihad: A Legacy of Forced Conversion, Imperialism and Slavery”:

Muslim rulers in India built only Islamic schools, namely muktabs and madrasas, often linked to mosques, solely for training Muslim students in their religion and other crafts for administrative and military duty, useful for the Muslim state. Learning Arabic and Persian language and memorizing the Quran, prophetic tradition and Islamic laws were the major subjects of study. Limited training was also given in agriculture, accountancy, astrology, astronomy, history, geography and mathematics, needed for running the state.

Muslim education was patronised by rulers from the Mamluk, Tughlaq and Lodhi dynasty as well as the Mughals and Bahmani Sultans. Delhi became one of the most important centres of Islamic learning (A.L.Srivastava, 1964). Other towns such as Jalandhar, Agra, Firozabad and provincial capitals also began to teach literature, philosophy and various humanities. The Islamic schools that used Persian as a medium of instruction were out of bounds for Hindu students. The lack of state support for education for Hindus led to a drastic decline in their higher education even though primary schools in villages continued to function wherever unjust taxation had not crippled finances completely. Many Hindus converted to Islam and learned Persian as a way of gaining respectable positions and to avoid the Jaziya tax imposed on non-Muslims. This was also a time when caste stratification became more rigid amongst Hindus in order to retain identities and preserve traditions.

Keeping Sanskrit and regional languages alive

Rich businessmen, Hindu Rajas and local communities kept the flame of learning alight for Hindus (Dwivedi, 1994). During the reign of Mughal emperor Akbar (16th century), Sanskrit received some amount of royal patronage since the ruler was interested in harmonising relationships between his Muslim and Hindu subjects. The first Sanskrit-Persian dictionary was compiled during Akbar’s reign (Mehta, 1984). Many works were produced in Sanskrit, Hindi-Urdu and regional languages such as Bengali and Marathi. It was the age of Tulsidas and Rahim. Akbar was keen for students to not solely restrict themselves to theology and classical literature. In Ain-i-Akbari, which chronicles the reign of Akbar, it is stated:

Everybody ought to read books on morals, arithmetic, the notation peculiar to arithmetic, agriculture, mensuration, geometry, astronomy, physiognomy (the art of discerning character from the features of the face), household matters, the rules of government, medicine, logic, Tabiyi (natural science), Riyazi (higher mathematics) and Ilahi (metaphysics and theology), and history; all of which may be gradually acquired.

In studying Sanskrit, students ought to learn the Vyakarana, Nyaya, Vedanta and Patanjali. No one should be allowed to neglect these things which the present time requires” (Dwivedi, 1994).

Akbar also encouraged the opening up of Madrasas for Hindu children so that Hindus and Muslims could study side by side. He introduced the study of Sanskrit in many madrasas. His imperial library in Agra housed as many as 24,000 manuscripts. The books had attractive bindings and were beautifully illustrated. The king loved to listen to readings of books on a variety of subjects. Jain monks produced a number of Sanskrit works during Akbar’s reign. (Mehta, 1984)

To some extent, the encouragement of literature in Sanskrit and regional languages continued under the reign of Jahangir and Shah Jahan. Sanskrit poets such as Panditaraja Jagannatha and Kavindra Acharya Saraswati were patronized by Shah Jahan (Sarma, 1994). A new language emerged from the amalgamation of Persian, Arabic and Hindustani, which was similar to today’s Urdu and Hindi.

Dara Shikoh in the company of holy men. This painting is ascribed to Dal Chand. Courtesy Wikimedia Commons.

However, Aurangzeb reversed the inclusiveness that Akbar had ushered in during his reign. An Islamic fanatic, he persecuted Hindus and built new maktabs and madrasas on the ruins of demolished temples. (Riaz, 2008) On hearing that Brahmins at Thatta, Multan, Sindh and specially Varanasi were attracting Muslims to their discourses, he ordered all their temples and schools to be demolished (Mukhia, 2004). He killed his elder brother Dara Shikoh, the rightful heir to the throne, who was a Sanskrit scholar himself. With the help of pandits, Dara had translated Ramayana, Gita, Upanishads and Yogavasisthas to Persian; all of which constituted blasphemous acts in the eyes of his brother.

Dara’s Persian translation of Upanishads was translated to Latin in the beginning of the 19th century and created a renewed interest in the Upanishads among learned Europeans (Figueira, 1955). Had Dara become the emperor instead of Aurangzeb, India’s destiny could have been vastly different.

Neglect of sciences in the Mughal reign

The Mughals did not build on the leading-edge concepts presented by Hindu scholars of an earlier era to become the world leader in science and mathematics. While madrasas proliferated and students became adept in the finer details of the Quran and Hadiths in Muslim India, the western world was making advances in science and technology. Of course, these advances were considerably assisted by the Toledo school translations of Arabic works that were derived from India. (See Part 2 of this article). The Mughal kings missed the opportunity to ride the wave of technological discoveries in the west despite ruling over the richest land in the world. When Portuguese missionaries presented printed papers to Akbar, he was least interested in the potential of the printing press to transform education. His son Jahangir was similarly indifferent to a mechanical clock presented to him by the royal French delegation. (Riaz, 2008)

“The Mughal Empire has not produced a single worthwhile text on crafts or agriculture, how many volumes of poetry or histories it might have to its credit,” writes Irfan Habib (Habib, 2008). Apart from printing press and clocks, Mughal rulers were aware of nautical instruments, telescopes, pumps, various mechanical gadgets and wheelbarrows. Yet, these did not excite any desire for indigenous adaptation (Qaisar, 1982). The marvels of Mughal architecture were achieved without the aid of wheelbarrows (Kumar & Desai, 1982).

Arrival of the colonialists

Meanwhile, the Europeans who had been coming to India via the sea route from the 15th century onwards were battling amongst themselves for cornering the trade with India. The British East India Company emerged victorious after pushing the Portuguese, French and Dutch to the periphery and began spreading its tentacles within India. At first, the British did not bother themselves with education of the “natives” and focused on playing politics with different rulers and enriching themselves. Over time, they realised that “their dominion in India could not last long unless education – especially western – was diffused among the inhabitants of the land” (Basu, 1922).

A Mohammedan and a Sanskrit college were set up in Kolkata and Banaras respectively in the late 18thcentury “to provide a regular supply of qualified Hindu and Mohammedan law officers for the judicial administration” (Trevelyan, 1838). The British did not have any noble motives of education of the masses when they set up institutes of learning. These were the same people who imposed serious punishment on black slaves in America and passed laws to the effect that “assemblage of negroes for the purpose of instruction in reading or writing shall be an unlawful assembly” (Basu, 1922).

Anglicists versus Orientalists and their disdain for Indian knowledge

Many of us are familiar with Macaulay’s memorandum or “minute” on Indian Education, which was circulated by him prior to the passing of the English Education Act of 1835. That act gave effect to Governor-General William Bentinck’s decision of reallocating of funds towards a western curriculum with English as the language of instruction.

Thomas Babington Macaulay’s minute is a classic that needs to be read by every “educated” Indian:

“We must at present do our best to form a class who may be interpreters between us and the millions whom we govern – a class of persons Indian in blood and colour, but English in tastes, in opinions, in morals and in intellect. To that class we may leave it to refine the vernacular dialects of the country, to enrich those dialects with terms of science borrowed from the Western nomenclature, and to render them by degrees fit vehicles for conveying knowledge to the great mass of the population.”

Macaulay’s minute and the English Education Act came after a 15-year debate between the older faction of Orientalists and the later Anglicists. The Orientalists argued that government funds should be used to support colleges for the teaching of Arabic and Sanskrit, to pay stipends to the students at these colleges, and to translate works into Arabic and Sanskrit. The Anglicists on the other hand, advocated that these government funds should be spent on teaching English, with no stipends or translations at all. (Clive, 1971)

Most Orientalists and Anglicists had one thing in common – their belief in the “innate inferiority of the Indian culture” and the need to educate the elites (Clive, 1971). They only differed on how best to “improve” the minds of Indians, how to “correct” their beliefs and make them more useful as subjects of the British Empire.

Orientalists such as John Tytler believed in gradual reform via teaching in Arabic and Sanskrit so that the British could understand Indian culture and then prove it wrong. This method would lead to Indians themselves “correcting their countrymen”. (Clive, 1971)

Charles Trevelyan, brother-in-law of Macaulay and an avowed Anglicist, said before the Select Committee of the House of Lords on the Government of Indian Territories that both “Hindoos and Mahomedans” regarded the British as “usurping foreigners” who had “taken the country from them” and excluded them from “the avenues to wealth and distinction”. He argued that European learning “would give an entirely new turn to the native mind”. The natives would cease to “strive after independence in the native model” and would not regard the British as “enemies and usurpers”, but as “friends and patrons, and powerful beneficent persons”. (Basu, 1922)

Trevelyan’s arguments against Sanskrit and Arabic as a means of instruction sound Kautilyan in strategy. Arabic literature would keep reminding Muslims that the British were “infidel usurpers” while Sanskrit texts would inform Hindus that their foreign rulers were “unclean beasts”. He pointed out that already in the army, there was a clear distinction between the English officers and the native sepoys. Not “one native out of 500” educated in Arabic in a seminary would be interested in enlisting in the army. Therefore, it was important to educate “sepoys” in English at the elementary level (Trevelyan, 1838). For the elites, English literature would do the trick. Familiarly acquainted with literature, the Indian youth would speak of great Englishmen with the “same enthusiasm” as the British themselves. They would reject the teachings of Brahmin priests. “The natives will not rise against us because we shall stoop to raise them,” he explained.  Also, he noted that those educated in English would “cling” to the British rule because they would have everything to fear from a native government, which could mark them out for persecution. This last surmise of Trevelyan’s was clearly wrong, as the subsequent freedom movement of India proved.

Many Anglicists emphasised on the convenience attached to having English-speaking natives. Given that a large number of British officers were constantly being deputed in India, it was troublesome for them to understand the various languages and dialects of the natives. Also, it was a costly and time-consuming affair to translate various English books into native languages. In other words, the interests of the people of the land became subservient to convenience.

In addition to the Anglicists, there were the Vernacularists, who rejected Sanskrit and Persian in favour of regional languages. They championed the teaching of European knowledge in “vernacular” languages. The term “vernacular” itself has a derogatory meaning in the sense of being a language that is less cultured or refined.

Christian evangelism as a driver of education

It must be noted that spreading Christianity was a desirable goal for most Anglicists, Orientalists as well as Vernacularists. Dr Alexander Duff, an Anglicist, who opened a popular school in Calcutta was against “heathen” institutions. Macaulay himself wrote in a letter to his father, “No Hindoo who has received an English education ever remains sincerely attached to his religion.” He expressed his “firm belief” that if his plans of education were followed up, “there will not be a single idolator amongst the respectable classes in Bengal thirty years hence.” (Basu, 1922)

JC Marshman who made a sincere plea for retaining “Bengalee” as a medium of instruction gave the example of Serampore missionaries whose “labours” in “civilization and evangelization of the province of Bengal” had led to the establishing of 40 printing presses in a few decades and selling of 30,000 books in just one year. (Basu, 1922)

Many Christian missionaries learned regional languages such as Tamil and Kannada, published dictionaries in them and translated the Bible for evangelization activities. They appropriated several aspects of Hinduism into Christianity in order to make it more palatable to the locals and wean them away from traditional Sanatana Dharma.

English language struck roots in the land as the English Education Act began to take effect and the missionary schools that mushroomed across the country made English the “first language”.

Many Indians were Anglicists

An important argument made by Anglicists in favour of standardising English-medium education was that the Indian natives themselves were eager to learn English. “A taste for English has been widely disseminated,” said Trevelyan. He happily noted that a “loud call” arose from the natives themselves to be instructed in English. Schools teaching in English were extremely popular and English books were selling far more rapidly than books in Sanskrit and Arabic (Trevelyan, 1838). This is not surprising, since a good knowledge of English opened opportunities for government jobs all over the country. Besides, the vacuum in science and disconnect with Sanskrit works on science and mathematics caused by the Muslim rule made many Indians feel backward in comparison to the Europeans.

Raja Rammohan Roy's statue in Bristol

Raja Rammohan Roy is one of the most notable Indian Anglicists, who petitioned for the teaching of the “arts and sciences of modern Europe” and argued against establishing a new Sanskrit college in Calcutta in his letter to Lord Amherst. “The Sanskrit language, so difficult that almost a lifetime is necessary for its acquisition, is well known to have been for ages a lamentable check on the diffusion of knowledge; and the learning concealed under this almost impervious veil is far from sufficient to reward the labour of acquiring it,” he wrote. A new Sanskrit college, which taught the same things that were taught “two thousand years ago” would not help since ‘no improvement can be expected from inducing young men to consume a dozen of years of the most valuable period of their lives in acquiring the niceties of Byakaran or Sanskrit grammar,” he felt. Roy believed that giving allowances to the teachers engaged in teaching Sanskrit in different parts of India would be enough to keep the language alive and no new Sanskrit colleges were necessary. He was instrumental in the establishment of the Hindoo College in 1817 for imparting secular and scientific education, which later came to be known as the famous Presidency College of Kolkata. The alumni of the institute include outstanding personalities such as Bankim Chandra Chatterjee, Satyendranath Bose and Meghnad Saha.

Dharampal’s revelations of astounding data on India’s popular schooling system

When India was embroiled in the education debate, England was itself languishing in illiteracy. A minuscule fraction of the children in England went to school, and the only book most literate people had read was the Bible. In the 1960s, Dharampal, a Gandhian thinker came across archival material of extreme significance in London. He discovered documents related to a series of surveys commissioned by the British government in the 19th century to assess the level of indigenous education in India. This set him on the path of pioneering research, which brought up startling data. He discovered Thomas Munro’s statement that almost every village in India had a pathshala (school). There were 100,000 village schools reported in Bengal and Bihar alone in the 1830s. Reading, writing, arithmetic, epics and more were being taught. William Adams, one of the surveyors has written that he could not recollect studying in his village school in Scotland anything that had more “direct bearing” upon daily life than what was taught in the “humbler village schools of Bengal”. (Dharampal, 2000)

From different parts of India came reports of dedicated teachers, superior methods of teaching and high school attendance. But what simply challenged every stereotype was that in a large number of schools, “Soodras” were in majority while the Brahmins and “Vysees” were in minority. In Tamil-speaking areas, the Shudras ranged from 70% in Salem and Tinnevelly to over 84% in South Arcot. In Malayalam-speaking Malabar, Brahmin students constituted only 20% of schools, while Shudras were 54% and Muslims were 27%. The same trend was reported in Kannada-speaking Bellary and Oriya-speaking Ganjam. Only in the Telegu-speaking districts, the dwija castes formed the majority of students. Some collectors who furnished data spoke about poor Brahmins who taught children with no expectation of compensation. Girls were mostly home-schooled. However, in the Malabar district as well as “Jeypoor Zamindari of Vizagapatam district”, the percentage of girls was close to 30%, a very high number.  (Dharampal, 2000)

It must be remembered that schooling was not the only way of transmitting basic education. Artisans, craftsmen and agriculturalists taught their skills to apprentices via a separate system of education.

A.D.Campbell, the collector for Bellary applauded the “economical” teaching methods in Indian schools and the system of “more advanced scholars” teaching the “less advanced” thereby confirming their own knowledge. He mentioned that this method “well deserved the imitation it had received in England”. He was referring to the “Madras Method” of teaching, which was introduced by Reverend Andrew Bell in England. Dr Bell had been impressed by little children in Madras writing with their fingers on sand, which “after the fashion of such schools had been strewn before them for that purpose”. He saw a system of children learning from peers. After Dr Bell published his paper on Madras Method, he was in great demand to introduce this in British schools. By 1821, 300,000 children were reportedly being educated under Dr Bell’s principles and his ideas were adopted in Europe, West Indies and even Bogota, Colombia. (Tooley, 2009)

The Beautiful Ecosystem is uprooted

As the British rule progressed in India, villages got increasingly impoverished. For example, when the British with the Nawab of Arcot attacked Thanjavur in 1771 and imposed taxes as high as 59% of gross produce, they created mass poverty overnight! The entire British administrative apparatus was geared towards fleecing the citizens and even the designations of officers such as “District Collectors” indicated that the only aim of the government was to collect taxes. One collector of Bellary was so moved by the plight of the people that he wrote a letter to the authorities that the degeneration of education was attributable to the “transfer of capital of the country from the native government…to the Europeans, restricting it by law from employing it even temporarily in India and daily draining it from the land.” Further, he wrote, “The means of the manufacturing classes have been greatly diminished by the introduction of our own European manufactures.”(Dharampal, 2000)

The British educational policies also sounded the death knell for regional languages as the rush for English-medium education intensified. With every subject being taught in English and mother-tongues being relegated to “second language” the quality of literature in regional languages began sinking. Illiteracy and low self-confidence began to be associated with absence of English proficiency. M.K.Gandhi said in 1931 that the British had left India more illiterate than it was a hundred years ago. Today, India has the largest number of illiterate in the world.

Disturbingly, India’s self-gaze is still through alien eyes. The past heritage lies buried in regional and Sanskrit literature, awaiting illumination. When India became independent from the British in 1947, there was a fresh opportunity to write a new chapter of decolonization.

India is still waiting.

The author would like to acknowledge the critical inputs of the members of Indian History Awareness and Research (IHAR). She would also like to express gratitude to Rare Book Society of India and Nikhil Dureja for generously sharing books that provided key references for writing this article.

Works Cited

A.L.Srivastava. (1964). The Sultanate of Delhi 711 to 1526 AD. Shiva Lal Agarwala.

A.S.Altekar. (1944). Education in Ancient India. Nand Kishore and Bros.

Apte, D. Universities in Ancient India.

Basu, B. D. (1922). History of Education in India Under the Rule of the East India Company. The Modern Review Office.

Bose, M. (1990). A Social and Cultural History of Ancient India. Concept Publishing Company.

Clive, J. (1971). The debate on Indian education: Anglicists, Orientalists and the ideology of Empire.

Dharampal. (2000). The Beautiful Tree. Other India Press.

Dwivedi, B. L. (1994). Evolution of Educational Thought in India. Nothern Book Centre.

Figueira, D. M. (1955). Translating the Orient- The Reception of Sakuntala in Nineteenth Century Europe. State University of New York Press.

Habib, I. (2008). Technology in Medieval India. Tulika Books.

Kumar, D., & Desai, M. (1982). The Cambridge Economic History of India Vol 2. Cambridge University Press.

Mehta, J. (1984). Advanced Study in the History of Medieval India. Sterling Publishers Pvt Ltd.

Mookerjee, R. K. (1960). Ancient Indian Education – Brahminical and Buddhist. Motilal Banarsidass.

Mukhia, H. (2004). The Mughals of India. Blackwell Publishing.

Qaisar, A. (1982). Indian Responses to European Technology and Culture. Oxford Universoty Press.

Riaz, A. (2008). Faithful Education: Madrassahs in South Asia. Rutgers University Press.

Sarma, N. (1994). Panditaraja Jagannatha – The Renowned Sanskrit Poet of Medieval India. Mittal Publications.

Sharma, R. N. (2000). History of Education in India. Atlantic Publishers.

Sharma, R. N. (2012). Libraries in the early 21st century, volume 2: An international perspective. De Gruyter Saur.

Tooley, J. (2009). The Beautiful Tree – A personal journey into how the world’s poorest people are educating themselves. Cato Institute.

Trevelyan, C. E. (1838). On the Education of the People of India.

Feature Image Credit: Erik Törner

Disclaimer: The facts and opinions expressed within this article are the personal opinions of the author. IndiaFacts does not assume any responsibility or liability for the accuracy, completeness, suitability, or validity of any information in this article.

Sahana Singh writes on Indian history. She is a member of Indian History Awareness and Research (IHAR), and has recently authored “The Educational Heritage of Ancient India – How An Ecosystem of Learning Was Laid to Waste”.

Arab before Muhammad’s terrorism.

इराक का एक पुस्तक है, जिसे इराकी सरकार ने खुद छपवाया था। इस किताब में 622 ई से पहले के अरब जगत का जिक्र है। आपको बता दें कि ईस्लाम धर्म की स्थापना इसी साल हुई थी। किताब में बताया गया है कि मक्का में पहले शिव जी का एक विशाल मंदिर था जिसके अंदर एक शिव लिंग थी जो आज भी मक्का के काबा में एक काले पत्थर के रूप में मौजूद है। पुस्तक में लिखा है कि मंदिर में कविता पाठ और भजन हुआ करता था।प्राचीन अरबी का व्य संग्रह गंथ ‘सेअरूल-ओकुल’के 257वें पृष्ठ पर मोहम्मद से 2300 वर्ष पूर्व एवं ईसा मसीह से 1800 वर्ष पूर्व पैदा हुए लबी-बिन-ए-अरव्तब-बिन-ए-तुरफा ने अपनी सुप्रसिद्ध कविता में भारत भूमि एवं वेदों को जो सम्मान दिया है, वह इस प्रकार है-“अया मुबारेकल अरज मुशैये नोंहा मिनार हिंदे। व अरादकल्लाह मज्जोनज्जे जिकरतुन। 

1 वह लवज्जलीयतुन ऐनाने सहबी अरवे अतुन जिकरा।वहाजेही योनज्जेलुर्ररसूल मिनल हिंदतुन।

2।यकूलूनल्लाहः या अहलल अरज आलमीन फुल्लहुम।फत्तेबेऊ जिकरतुल वेद हुक्कुन मालन योनज्वेलतुन।

3।वहोबा आलमुस्साम वल यजुरमिनल्लाहे तनजीलन।फऐ नोमा या अरवीयो मुत्तवअन योवसीरीयोनजातुन।

4।जइसनैन हुमारिक अतर नासेहीन का-अ-खुबातुन।व असनात अलाऊढ़न व होवा मश-ए-रतुन।

5।”अर्थात-(1) हे भारत की पुण्य भूमि (मिनार हिंदे) तू धन्य है, क्योंकि ईश्वर ने अपने ज्ञान के लिए तुझ को चुना। 

(2) वह ईश्वर का ज्ञान प्रकाश, जो चार प्रकाश स्तम्भों के सदृश्य सम्पूर्ण जगत् को प्रकाशित करता है, यह भारतवर्ष (हिंद तुन) में ऋषियों द्वारा चार रूप में प्रकट हुआ।

(3) और परमात्मा समस्त संसार के मनुष्यों को आज्ञा देता है कि वेद, जो मेरे ज्ञान है, इनके अनुसार आचरण करो।

(4) वह ज्ञान के भण्डार साम और यजुर है, जो ईश्वर ने प्रदान किये। इस लिए, हे मेरे भाइयों! इनकोमानो, क्योंकि ये हमें मोक्ष का मार्ग बताते है।

(5) और दो उनमें से रिक्, अतर (ऋग्वेद, अथर्ववेद) जो हमें भ्रातृत्व की शिक्षा देते है, और जो इनकी शरण में आ गया, वह कभी अन्धकार को प्राप्त नहीं होता।इस्लाम मजहब के प्रवर्तक मोहम्मद स्वयं भी वैदिक परिवार में हिन्दू के रूप में जन्में थे, और जब उन्होंने अपने हिन्दू परिवार की परम्परा और वंश सेसंबंध तोड़ने और स्वयं को पैगम्बर घोषित करना निश्चित किया, तब संयुक्त हिन्दू परिवार छिन्न-भिन्न हो गया और काबा में स्थित महाकाय शिवलिंग (संगेअस्वद) के रक्षार्थ हुए युद्ध में पैगम्बर मोहम्मद के चाचा उमर-बिन-ए-हश्शाम को भी अपने प्राण गंवाने पड़े।उमर-बिन-ए-हश्शामका अरब में एवं केन्द्र काबा (मक्का) में इतना अधिक सम्मान होता था कि सम्पूर्ण अरबी समाज, जो कि भगवान शिव के भक्त थे एवं वेदों केउत्सुक गायक तथा हिन्दू देवी-देवताओं के अनन्य उपासक थे, उन्हें अबुल हाकम अर्थात ‘ज्ञान का पिता’ कहते थे। बाद में मोहम्मद के नये सम्प्रदाय ने उन्हें ईर्ष्यावश अबुलजिहाल ‘अज्ञान का पिता’ कह कर उनकी निन्दा की।जब मोहम्मद ने मक्का पर आक्रमण किया, उस समय वहाँबृहस्पति, मंगल, अश्विनी कुमार, गरूड़, नृसिंहकी मूर्तियाँ प्रतिष्ठित थी। साथ ही एक मूर्ति वहाँविश्वविजेता महाराजा बलि की भी थी, और दानी होने की प्रसिद्धि से उसका एक हाथ सोने का बना था।‘Holul’ के नाम से अभिहित यह मूर्ति वहां इब्राहम और इस्माइल की मूर्त्तियों के बराबर रखी थी। मोहम्मद ने उन सब मूर्त्तियों को तोड़कर वहां बने कुएं में फेंक दिया, किन्तु तोड़े गये शिवलिंग का एक टुकडा आज भी काबा में सम्मान पूर्वक न केवल प्रतिष्ठित है, वरन् हज करने जाने वाले मुसलमान उस काले (अश्वेत) प्रस्तर खण्ड अर्थात ‘संगे अस्वद’ कोआदर मान देते हुए चूमते है।जबकि इस्लाम में मूर्ति पूजा या अल्लाह के अलावा किसी की भी स्तुति हराम हैप्राचीन अरबों ने सिन्ध को सिन्ध ही कहा तथा भारत वर्ष के अन्य प्रदेशों को हिन्द निश्चित किया। सिन्ध से हिन्द होने की बात बहुत ही अवैज्ञानिक है। इस्लाम मत के प्रवर्तक मोहम्मद के पैदा होने से 2300 वर्ष पूर्व यानि लगभग 1800 ईश्वी पूर्व भी अरब में हिंद एवं हिंदू शब्द का व्यवहार ज्यों कात्यों आज ही के अर्थ में प्रयुक्त होता था।अरब की प्राचीन समृद्ध संस्कृति वैदिक थी तथा उस समय ज्ञान-विज्ञान, कला-कौशल, धर्म-संस्कृति आदि में भारत (हिंद) के साथ उसके प्रगाढ़ संबंध थे। हिंद नाम अरबों को इतना प्यारा लगा कि उन्होंने उस देश के नाम पर अपनी स्त्रियों एवं बच्चों के नाम भी हिंद पर रखे।अरबी काव्य संग्रह ग्रंथ ‘ से अरूल-ओकुल’ के 253वें पृष्ठ पर हजरत मोहम्मद के चाचा उमर-बिन-ए-हश्शाम की कविता है जिसमें उन्होंने हिन्दे यौमनएवं गबुल हिन्दू का प्रयोग बड़े आदर से किया है। ‘उमर-बिन-ए-हश्शाम’ की कविता नई दिल्ली स्थित मन्दिर मार्ग परश्री लक्ष्मी नारायण मन्दिर (बिड़लामन्दिर)की वाटिका में यज्ञ शाला के लाल पत्थर के स्तम्भखम्बे) पर काली स्याही से लिखी हुई है, जो इस प्रकार है –” कफविनक जिकरा मिन उलुमिन तब असेक । कलुवन अमातातुल हवा व तजक्करू ।

1।न तज खेरोहा उड़न एललवदए लिलवरा ।वलुकएने जातल्लाहे औम असेरू ।

2।व अहालोलहा अजहू अरानीमन महादेव ओ ।मनोजेल इलमुद्दीन मीनहुम व सयत्तरू ।

3।व सहबी वे याम फीम कामिल हिन्दे यौमन ।व यकुलून न लातहजन फइन्नक तवज्जरू ।

4।मअस्सयरे अरव्लाकन हसनन कुल्लहूम ।नजुमुन अजा अत सुम्मा गबुल हिन्दू ।

5।अर्थात् –(1) वह मनुष्य, जिसने सारा जीवन पाप व अधर्म में बिताया हो, काम, क्रोध में अपने यौवन को नष्ट किया हो। 

(2) यदि अन्त में उसको पश्चाताप हो, और भलाई की ओर लौटना चाहे, तो क्या उसका कल्याण हो सकता है ?

(3) एक बार भी सच्चे हृदय से वह महादेव जी की पूजा करे, तो धर्म-मार्ग में उच्च से उच्चपद को पा सकता है। 

(4) हे प्रभु ! मेरा समस्त जीवन लेकर केवल एक दिन भारत (हिंद) के निवास का दे दो, क्योंकि वहां पहुंचकर मनुष्य जीवन-मुक्त हो जाता है।

(5) वहां की यात्रा से सारे शुभ कर्मो की प्राप्ति होती है, और आदर्श गुरूजनों (गबुल हिन्दू) का सत्संग मिलता है।

%d bloggers like this: