कुतुबुद्दीनऐबक, और #क़ुतुबमीनारकी सच्चाई

Real Islamic structure

कुतुबुद्दीनऐबक, और #क़ुतुबमीनारकी सच्चाई

किसी भी देश पर शासन करना है तो उस देश के लोगों का ऐसा ब्रेनवाश कर दो कि वो अपने देश, अपनी संसकृति और अपने पूर्वजों पर गर्व करना छोड़ दें ।

इस्लामी हमलावरों और उनके बाद अंग्रेजों ने भी भारत में यही किया. हम अपने पूर्वजों पर गर्व करना भूलकर उन अत्याचारियों को महान समझने लगे जिन्होंने भारत पर बे हिसाब जुल्म किये थे ।
अगर आप दिल्ली घुमने गए है तो आपने कभी विष्णु स्तम्भ (क़ुतुबमीनार) को भी अवश्य देखा होगा. जिसके बारे में बताया जाता है कि उसे कुतुबुद्दीन ऐबक ने बनबाया था. हम कभी जानने की कोशिश भी नहीं करते हैं कि कुतुबुद्दीन कौन था, उसने कितने बर्ष दिल्ली पर शासन किया, उसने कब विष्णू स्तम्भ (क़ुतुबमीनार) को बनवाया या विष्णु स्तम्भ (कुतुबमीनार) से पहले वो और क्या क्या बनवा चुका था ?

दो खरीदे हुए गुलाम

कुतुबुद्दीन ऐबक, मोहम्मद गौरी का खरीदा हुआ गुलाम था. मोहम्मद गौरी भारत पर कई हमले कर चुका था मगर हर बार उसे हारकर वापस जाना पडा था. ख्वाजा मोइनुद्दीन चिश्ती की जासूसी और कुतुबुद्दीन की रणनीति के कारण मोहम्मद गौरी, तराइन की लड़ाई में पृथ्वीराज चौहान को हराने में कामयाब रहा और अजमेर / दिल्ली पर उसका कब्जा हो गया ।

ढाई दिन का झोपड़ा

अजमेर पर कब्जा होने के बाद मोहम्मद गौरी ने चिश्ती से इनाम मांगने को कहा. तब चिश्ती ने अपनी जासूसी का इनाम मांगते हुए, एक भव्य मंदिर की तरफ इशारा करके गौरी से कहा कि तीन दिन में इस मंदिर को तोड़कर मस्जिद बना कर दो. तब कुतुबुद्दीन ने कहा आप तीन दिन कह रहे हैं मैं यह काम ढाई दिन में कर के आपको दूंगा ।
कुतुबुद्दीन ने ढाई दिन में उस मंदिर को तोड़कर मस्जिद में बदल दिया. आज भी यह जगह “अढाई दिन का झोपड़ा” के नाम से जानी जाती है. जीत के बाद मोहम्मद गौरी, पश्चिमी भारत की जिम्मेदारी “कुतुबुद्दीन” को और पूर्वी भारत की जिम्मेदारी अपने दुसरे सेनापति “बख्तियार खिलजी” (जिसने नालंदा को जलाया था) को सौंप कर वापस चला गय था ।

दोनों गुलाम को शासन

कुतुबुद्दीन कुल चार साल ( 1206 से 1210 तक) दिल्ली का शासक रहा. इन चार साल में वो अपने राज्य का विस्तार, इस्लाम के प्रचार और बुतपरस्ती का खात्मा करने में लगा रहा. हांसी, कन्नौज, बदायूं, मेरठ, अलीगढ़, कालिंजर, महोबा, आदि को उसने जीता. अजमेर के विद्रोह को दबाने के साथ राजस्थान के भी कई इलाकों में उसने काफी आतंक मचाय ।

विष्णु स्तम्भ

जिसे क़ुतुबमीनार कहते हैं वो महाराजा वीर विक्रमादित्य की वेधशाला (observatory) थी. जहा बैठकर खगोलशास्त्री वराहमिहर ने ग्रहों, नक्षत्रों, तारों का अध्ययन कर, भारतीय कैलेण्डर “विक्रम संवत” का आविष्कार किया था. यहाँ पर 27 छोटे छोटे भवन (मंदिर) थे जो 27 नक्षत्रों के प्रतीक थे और मध्य में विष्णु स्तम्भ था, जिसको ध्रुव स्तम्भ भी कहा जाता था ।
दिल्ली पर कब्जा करने के बाद उसने उन 27 मंदिरों को तोड दिया. विशाल विष्णु स्तम्भ को तोड़ने का तरीका समझ न आने पर उसने उसको तोड़ने के बजाय अपना नाम दे दिया. तब से उसे क़ुतुबमीनार कहा जाने लगा. कालान्तर में यह यह झूठ प्रचारित किया गया कि क़ुतुब मीनार को कुतुबुद्दीन ने बनबाया था. जबकि वो एक विध्वंशक था न कि कोई निर्माता.

कुतुबुद्दीन ऐबक की मौत का सच
——-
अब बात करते हैं कुतुबुद्दीन की मौत की. इतिहास की किताबो में लिखा है कि उसकी मौत पोलो खेलते समय घोड़े से गिरने पर से हुई. ये अफगान / तुर्क लोग “पोलो” नहीं खेलते थे, पोलो खेल अंग्रेजों ने शुरू किया. अफगान / तुर्क लोग बुजकशी खेलते हैं जिसमे एक बकरे को मारकर उसे लेकर घोड़े पर भागते है, जो उसे लेकर मंजिल तक पहुंचता है, वो जीतता है ।
कुतबुद्दीन ने अजमेर के विद्रोह को कुचलने के बाद राजस्थान के अनेकों इलाकों में कहर बरपाया था. उसका सबसे कडा विरोध उदयपुर के राजा ने किया, परन्तु कुतुबद्दीन उसको हराने में कामयाब रहा. उसने धोखे से राजकुंवर कर्णसिंह को बंदी बनाकर और उनको जान से मारने की धमकी देकर, राजकुंवर और उनके घोड़े शुभ्रक को पकड कर लाहौर ले आया.
एक दिन राजकुंवर ने कैद से भागने की कोशिश की, लेकिन पकड़ा गया. इस पर क्रोधित होकर कुतुबुद्दीन ने उसका सर काटने का हुकुम दिया. दरिंदगी दिखाने के लिए उसने कहा कि बुजकशी खेला जाएगा लेकिन इसमें बकरे की जगह राजकुंवर का कटा हुआ सर इस्तेमाल होगा. कुतुबुद्दीन ने इस काम के लिए, अपने लिए घोड़ा भी राजकुंवर का “शुभ्रक” चुना.
कुतुबुद्दीन “शुभ्रक” घोडे पर सवार होकर अपनी टोली के साथ जन्नत बाग में पहुंचा. राजकुंवर को भी जंजीरों में बांधकर वहां लाया गया. राजकुंवर का सर काटने के लिए जैसे ही उनकी जंजीरों को खोला गया, शुभ्रक घोडे ने उछलकर कुतुबुद्दीन को अपनी पीठ से नीचे गिरा दिया और अपने पैरों से उसकी छाती पर कई बार किये, जिससे कुतुबुद्दीन वहीं पर मर गया ।

शुभ्रक मरकर भी अमर हो गया

इससे पहले कि सिपाही कुछ समझ पाते राजकुवर शुभ्रक घोडे पर सवार होकर वहां से निकल गए. कुतुबुदीन के सैनिको ने उनका पीछा किया मगर वो उनको पकड न सके. शुभ्रक कई दिन और कई रात दौड़ता रहा और अपने स्वामी को लेकर उदयपुर के महल के सामने आ कर रुका. वहां पहुंचकर जब राजकुंवर ने उतर कर पुचकारा तो वो मूर्ति की तरह शांत खडा रहा ।
वो मर चुका था, सर पर हाथ फेरते ही उसका निष्प्राण शरीर लुढ़क गया. कुतुबुद्दीन की मौत और शुभ्रक की स्वामिभक्ति की इस घटना के बारे में हमारे स्कूलों में नहीं पढ़ाया जाता है लेकिन इस घटना के बारे में फारसी के प्राचीन लेखकों ने काफी लिखा है. धन्य है भारत की भूमि जहाँ इंसान तो क्या जानवर भी अपनी स्वामी भक्ति के लिए प्राण दांव पर लगा देते हैं ।

अलई मीनार या अल्लाई मीनार का सच

कुतुबमीनार परिसर में ही एक अनगढ़ इमारत मिल जाएगी, जिसके शिलापट्ट पर अलई मीनार लिखा है और उसमें तारीख लिखी है और यह भी लिखा है कि अलाउद्दीन खिलज़ी ने इस मीनार को कुतुबमीनार के टक्कर में बनाने का असफल प्रयास किया था. और वह भी कुतुबमीनार के तथाकथित निर्माण की तिथि से डेढ़- दो सौ साल बाद.

सोचो जो एक बनी बनाई इमारत की नकल नहीं कर सकते वो असली इमारत क्या बनवा पाते…?

इसी तरह औरंगजेब यमुना के उस पार काला ताजमहल बनवाने के मंसूबे पाले मर गया, जबकि वह 52 साल तक सबसे अधिक समय तक दिल्ली की गद्दी पर बैठने वाला मुगल शासक था.

विष्णु स्तम्भ ( वर्तमान कुतुबमीनार) की टक्कर में बनाई गई अलाई मीनार, महरौली, कुतुबमीनार परिसर, दिल्ली.

ये है इस्लामिक वास्तुकला का सच और सुबूत…..

आंख फाड़ कर देख लो

और संभवतः ये अलाई मीनार , विष्णु-स्तम्भ (कुतुबमीनार) परिसर में तोड़े गए 27 नक्षत्र मंदिरों के ही ढेर से बनाई जा रही थी.🙏साभार🙏

Hindus are enemies of themselves due to cast divide

तैमूरलंग का सामना

डॉविवेकआर्य

हिन्दू समाज की सबसे बड़ी समस्या यह है कि वे जातिवाद से ऊपर उठ कर सोच ही नहीं सकते। यही पिछले 1200 वर्षों से हो रही उनकी हार का मुख्य कारण है। इतिहास में कुछ प्रेरणादायक घटनाएं मिलती है। जब जातिवाद से ऊपर उठकर हिन्दू समाज ने एकजुट होकर अक्रान्तायों का न केवल सामना किया अपितु अपने प्राणों की बाजी लगाकर उन्हें यमलोक भेज दिया। तैमूर लंग के नाम से सभी भारतीय परिचित है। तैमूर के अत्याचारों से हमारे देश की भूमि रक्तरंजित हो गई। उसके अत्याचारों की कोई सीमा नहीं थी।
तैमूर लंग ने मार्च सन् 1398 ई० में भारत पर 92000 घुड़सवारों की सेना से तूफानी आक्रमण कर दिया। तैमूर के सार्वजनिक कत्लेआम, लूट खसोट और सर्वनाशी अत्याचारों की सूचना मिलने पर संवत् 1455 (सन् 1398 ई०) कार्तिक बदी 5 को देवपाल राजा (जिसका जन्म निरपड़ा गांव जि० मेरठ में एक जाट घराने में हुआ था) की अध्यक्षता में हरयाणा सर्वखाप पंचायत का अधिवेशन जि० मेरठ के गाँव टीकरी, निरपड़ा, दोगट और दाहा के मध्य जंगलों में हुआ।
सर्वसम्मति से निम्नलिखित प्रस्ताव पारित किये गये – (1) सब गांवों को खाली कर दो। (2) बूढे पुरुष-स्त्रियों तथा बालकों को सुरक्षित स्थान पर रखो। (3) प्रत्येक स्वस्थ व्यक्ति सर्वखाप पंचायत की सेना में भर्ती हो जाये। (4) युवतियाँ भी पुरुषों की भांति शस्त्र उठायें। (5) दिल्ली से हरद्वार की ओर बढ़ती हुई तैमूर की सेना का छापामार युद्ध शैली से मुकाबला किया जाये तथा उनके पानी में विष मिला दो। (6) 500 घुड़सवार युवक तैमूर की सेना की गतिविधियों को देखें और पता लगाकर पंचायती सेना को सूचना देते रहें।
पंचायती सेना – पंचायती झण्डे के नीचे 80,000 मल्ल योद्धा सैनिक और 40,000 युवा महिलायें शस्त्र लेकर एकत्र हो गये। इन वीरांगनाओं ने युद्ध के अतिरिक्त खाद्य सामग्री का प्रबन्ध भी सम्भाला। दिल्ली के सौ-सौ कोस चारों ओर के क्षेत्र के वीर योद्धा देश रक्षा के लिए अपने प्राणों की आहुति देने रणभूमि में आ गये। सारे क्षेत्र में युवा तथा युवतियां सशस्त्र हो गये। इस सेना को एकत्र करने में धर्मपालदेव जाट योद्धा जिसकी आयु 95 वर्ष की थी, ने बड़ा सहयोग दिया था। उसने घोड़े पर चढ़कर दिन रात दूर-दूर तक जाकर नर-नारियों को उत्साहित करके इस सेना को एकत्र किया। उसने तथा उसके भाई करणपाल ने इस सेना के लिए अन्न, धन तथा वस्त्र आदि का प्रबन्ध किया।
प्रधान सेनापति, उप-प्रधान सेनापति तथा सेनापतियों की नियुक्ति
सर्वखाप पंचायत के इस अधिवेशन में सर्वसम्मति से वीर योद्धा जोगराजसिंह गुर्जर को प्रधान सेनापति बनाया गया। यह खूबड़ परमार वंश का योद्धा था जो हरद्वार के पास एक गाँव कुंजा सुन्हटी का निवासी था। बाद में यह गाँव मुगलों ने उजाड़ दिया था। वीर जोगराजसिंह के वंशज उस गांव से भागकर लंढोरा (जिला सहारनपुर) में आकर आबाद हो गये जिन्होंने लंढोरा गुर्जर राज्य की स्थापना की। जोगराजसिंह बालब्रह्मचारी एवं विख्यात पहलवान था। उसका कद 7 फुट 9 इंच और वजन 8 मन था। उसकी दैनिक खुराक चार सेर अन्न, 5 सेर सब्जी-फल, एक सेर गऊ का घी और 20 सेर गऊ का दूध।
महिलाएं वीरांगनाओं की सेनापति चुनी गईं उनके नाम इस प्रकार हैं – (1) रामप्यारी गुर्जर युवति (2) हरदेई जाट युवति (3) देवीकौर राजपूत युवति (4) चन्द्रो ब्राह्मण युवति (5) रामदेई त्यागी युवति। इन सब ने देशरक्षा के लिए शत्रु से लड़कर प्राण देने की प्रतिज्ञा की।
उपप्रधान सेनापति – (1) धूला भंगी (बालमीकी) (2) हरबीर गुलिया जाट चुने गये। धूला भंगी जि० हिसार के हांसी गांव (हिसार के निकट) का निवासी था। यह महाबलवान्, निर्भय योद्धा, गोरीला (छापामार) युद्ध का महान् विजयी धाड़ी (बड़ा महान् डाकू) था जिसका वजन 53 धड़ी था। उपप्रधान सेनापति चुना जाने पर इसने भाषण दिया कि – “मैंने अपनी सारी आयु में अनेक धाड़े मारे हैं। आपके सम्मान देने से मेरा खूब उबल उठा है। मैं वीरों के सम्मुख प्रण करता हूं कि देश की रक्षा के लिए अपना खून बहा दूंगा तथा सर्वखाप के पवित्र झण्डे को नीचे नहीं होने दूंगा। मैंने अनेक युद्धों में भाग लिया है तथा इस युद्ध में अपने प्राणों का बलिदान दे दूंगा।” यह कहकर उसने अपनी जांघ से खून निकालकर प्रधान सेनापति के चरणों में उसने खून के छींटे दिये। उसने म्यान से बाहर अपनी तलवार निकालकर कहा “यह शत्रु का खून पीयेगी और म्यान में नहीं जायेगी।” इस वीर योद्धा धूला के भाषण से पंचायती सेना दल में जोश एवं साहस की लहर दौड़ गई और सबने जोर-जोर से मातृभूमि के नारे लगाये।
दूसरा उपप्रधान सेनापति हरबीरसिंह जाट था जिसका गोत्र गुलिया था। यह हरयाणा के जि० रोहतक गांव बादली का रहने वाला था। इसकी आयु 22 वर्ष की थी और इसका वजन 56 धड़ी (7 मन) था। यह निडर एवं शक्तिशाली वीर योद्धा था।
सेनापतियों का निर्वाचन – उनके नाम इस प्रकार हैं – (1) गजेसिंह जाट गठवाला (2) तुहीराम राजपूत (3) मेदा रवा (4) सरजू ब्राह्मण (5) उमरा तगा (त्यागी) (6) दुर्जनपाल अहीर।
जो उपसेनापति चुने गये – (1) कुन्दन जाट (2) धारी गडरिया जो धाड़ी था (3) भौन्दू सैनी (4) हुल्ला नाई (5) भाना जुलाहा (हरिजन) (6) अमनसिंह पुंडीर राजपुत्र (7) नत्थू पार्डर राजपुत्र (😎 दुल्ला (धाड़ी) जाट जो हिसार, दादरी से मुलतान तक धाड़े मारता था। (9) मामचन्द गुर्जर (10) फलवा कहार।
सहायक सेनापति – भिन्न-भिन्न जातियों के 20 सहायक सेनापति चुने गये।
वीर कवि – प्रचण्ड विद्वान् चन्द्रदत्त भट्ट (भाट) को वीर कवि नियुक्त किया गया जिसने तैमूर के साथ युद्धों की घटनाओं का आंखों देखा इतिहास लिखा था।
प्रधान सेनापति जोगराजसिंह गुर्जर के ओजस्वी भाषण के कुछ अंश –
“वीरो! भगवान् कृष्ण ने गीता में अर्जुन को जो उपदेश दिया था उस पर अमल करो। हमारे लिए स्वर्ग (मोक्ष) का द्वार खुला है। ऋषि मुनि योग साधना से जो मोक्ष पद प्राप्त करते हैं, उसी पद को वीर योद्धा रणभूमि में बलिदान देकर प्राप्त कर लेता है। भारत माता की रक्षा हेतु तैयार हो जाओ। देश को बचाओ अथवा बलिदान हो जाओ, संसार तुम्हारा यशोगान करेगा। आपने मुझे नेता चुना है, प्राण रहते-रहते पग पीछे नहीं हटाऊंगा। पंचायत को प्रणाम करता हूँ तथा प्रतिज्ञा करता हूँ कि अन्तिम श्वास तक भारत भूमि की रक्षा करूंगा। हमारा देश तैमूर के आक्रमणों तथा अत्याचारों से तिलमिला उठा है। वीरो! उठो, अब देर मत करो। शत्रु सेना से युद्ध करके देश से बाहर निकाल दो।”
यह भाषण सुनकर वीरता की लहर दौड़ गई। 80,000 वीरों तथा 40,000 वीरांगनाओं ने अपनी तलवारों को चूमकर प्रण किया कि हे सेनापति! हम प्राण रहते-रहते आपकी आज्ञाओं का पालन करके देश रक्षा हेतु बलिदान हो जायेंगे।
मेरठ युद्ध – तैमूर ने अपनी बड़ी संख्यक एवं शक्तिशाली सेना, जिसके पास आधुनिक शस्त्र थे, के साथ दिल्ली से मेरठ की ओर कूच किया। इस क्षेत्र में तैमूरी सेना को पंचायती सेना ने दम नहीं लेने दिया। दिन भर युद्ध होते रहते थे। रात्रि को जहां तैमूरी सेना ठहरती थी वहीं पर पंचायती सेना धावा बोलकर उनको उखाड़ देती थी। वीर देवियां अपने सैनिकों को खाद्य सामग्री एवं युद्ध सामग्री बड़े उत्साह से स्थान-स्थान पर पहुंचाती थीं। शत्रु की रसद को ये वीरांगनाएं छापा मारकर लूटतीं थीं। आपसी मिलाप रखवाने तथा सूचना पहुंचाने के लिए 500 घुड़सवार अपने कर्त्तव्य का पालन करते थे। रसद न पहुंचने से तैमूरी सेना भूखी मरने लगी। उसके मार्ग में जो गांव आता उसी को नष्ट करती जाती थी। तंग आकर तैमूर हरद्वार की ओर बढ़ा।
हरद्वार युद्ध – मेरठ से आगे मुजफ्फरनगर तथा सहारनपुर तक पंचायती सेनाओं ने तैमूरी सेना से भयंकर युद्ध किए तथा इस क्षेत्र में तैमूरी सेना के पांव न जमने दिये। प्रधान एवं उपप्रधान और प्रत्येक सेनापति अपनी सेना का सुचारू रूप से संचालन करते रहे। हरद्वार से 5 कोस दक्षिण में तुगलुकपुर-पथरीगढ़ में तैमूरी सेना पहुंच गई। इस क्षेत्र में पंचायती सेना ने तैमूरी सेना के साथ तीन घमासान युद्ध किए।
उप-प्रधानसेनापति हरबीरसिंह गुलिया ने अपने पंचायती सेना के 25,000 वीर योद्धा सैनिकों के साथ तैमूर के घुड़सवारों के बड़े दल पर भयंकर धावा बोल दिया जहां पर तीरों* तथा भालों से घमासान युद्ध हुआ। इसी घुड़सवार सेना में तैमूर भी था। हरबीरसिंह गुलिया ने आगे बढ़कर शेर की तरह दहाड़ कर तैमूर की छाती में भाला मारा जिससे वह घोड़े से नीचे गिरने ही वाला था कि उसके एक सरदार खिज़र ने उसे सम्भालकर घोड़े से अलग कर लिया। (तैमूर इसी भाले के घाव से ही अपने देश समरकन्द में पहुंचकर मर गया)। वीर योद्धा हरबीरसिंह गुलिया पर शत्रु के 60 भाले तथा तलवारें एकदम टूट पड़ीं जिनकी मार से यह योद्धा अचेत होकर भूमि पर गिर पड़ा।
(1) उसी समय प्रधान सेनापति जोगराजसिंह गुर्जर ने अपने 22000 मल्ल योद्धाओं के साथ शत्रु की सेना पर धावा बोलकर उनके 5000 घुड़सवारों को काट डाला। जोगराजसिंह ने स्वयं अपने हाथों से अचेत हरबीरसिंह को उठाकर यथास्थान पहुंचाया। परन्तु कुछ घण्टे बाद यह वीर योद्धा वीरगति को प्राप्त हो गया। जोगराजसिंह को इस योद्धा की वीरगति से बड़ा धक्का लगा।
(2) हरद्वार के जंगलों में तैमूरी सेना के 2805 सैनिकों के रक्षादल पर भंगी कुल के उपप्रधान सेनापति धूला धाड़ी वीर योद्धा ने अपने 190 सैनिकों के साथ धावा बोल दिया। शत्रु के काफी सैनिकों को मारकर ये सभी 190 सैनिक एवं धूला धाड़ी अपने देश की रक्षा हेतु वीरगती को प्राप्त हो गये।
(3) तीसरे युद्ध में प्रधान सेनापति जोगराजसिंह ने अपने वीर योद्धाओं के साथ तैमूरी सेना पर भयंकर धावा करके उसे अम्बाला की ओर भागने पर मजबूर कर दिया। इस युद्ध में वीर योद्धा जोगराजसिंह को 45 घाव आये परन्तु वह वीर होश में रहा। पंचायती सेना के वीर सैनिकों ने तैमूर एवं उसके सैनिकों को हरद्वार के पवित्र गंगा घाट (हर की पौड़ी) तक नहीं जाने दिया। तैमूर हरद्वार से पहाड़ी क्षेत्र के रास्ते अम्बाला की ओर भागा। उस भागती हुई तैमूरी सेना का पंचायती वीर सैनिकों ने अम्बाला तक पीछा करके उसे अपने देश हरयाणा से बाहर खदेड़ दिया।
वीर सेनापति दुर्जनपाल अहीर मेरठ युद्ध में अपने 200 वीर सैनिकों के साथ दिल्ली दरवाज़े के निकट स्वर्ग लोक को प्राप्त हुये।
इन युद्धों में बीच-बीच में घायल होने एवं मरने वाले सेनापति बदलते रहे थे। कच्छवाहे गोत्र के एक वीर राजपूत ने उपप्रधान सेनापति का पद सम्भाला था। तंवर गोत्र के एक जाट योद्धा ने प्रधान सेनापति के पद को सम्भाला था। एक रवा तथा सैनी वीर ने सेनापति पद सम्भाले थे। इस युद्ध में केवल 5 सेनापति बचे थे तथा अन्य सब देशरक्षा के लिए वीरगति को प्राप्त हुये।
इन युद्धों में तैमूर के ढ़ाई लाख सैनिकों में से हमारे वीर योद्धाओं ने 1,60,000 को मौत के घाट उतार दिया था और तैमूर की आशाओं पर पानी फेर दिया।
हमारी पंचायती सेना के वीर एवं वीरांगनाएं 35,000, देश के लिये वीरगति को प्राप्त हुए थे।
प्रधान सेनापति की वीरगति – वीर योद्धा प्रधान सेनापति जोगराजसिंह गुर्जर युद्ध के पश्चात् ऋषिकेश के जंगल में स्वर्गवासी हुये थे।
(सन्दर्भ-जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठान्त-३७९-३८३ )
ध्यान दीजिये। एक सवर्ण सेना का उपसेनापति वाल्मीकि था। अहीर, गुर्जर से लेकर 36 बिरादरी उसके महत्वपूर्ण अंग थे। तैमूर को हराने वाली सेना को हराने वाली कौन थे? क्या वो जाट थे? क्या वो राजपूत थे? क्या वो अहीर थे? क्या वो गुर्जर थे? क्या वो बनिए थे? क्या वो भंगी या वाल्मीकि थे? क्या वो जातिवादी थे?
नहीं वो सबसे पहले देशभक्त थे। धर्मरक्षक थे। श्री राम और श्री कृष्ण की संतान थे? गौ, वेद , जनेऊ और यज्ञ के रक्षक थे।
आज भी हमारा देश उसी संकट में आ खड़ा हुआ है। आज भी विधर्मी हमारी जड़ों को काट रहे है। आज भी हमें फिर से जातिवाद से ऊपर उठ कर एकजुट होकर अपने धर्म, अपनी संस्कृति और अपनी मातृभूमि की रक्षा का व्रत लेना हैं। यह तभी सम्भव है जब हम अपनी संकीर्ण मानसिकता से ऊपर उठकर सोचना आरम्भ करेंगे। आप में से कौन कौन मेरे साथ है?

The biggest problem of Hindu society is that they cannot think above casteism. This is the main reason for their defeat for the last 1200 years. There are some inspiring incidents in history. When the Hindu society, rising above casteism, unitedly not only faced the revolutionaries but also sent them to Yamlok by putting their lives on the line. All Indians are familiar with the name of Taimur Lang. Due to the atrocities of Timur, the land of our country became bloody. His atrocities knew no bounds.
In March 1398, Timur Lang made a stormy attack on India with an army of 92000 cavalry. On receiving information about Timur’s public massacre, plundering and apocalyptic atrocities, in Samvat 1455 (A.D. 1398), the session of Haryana Sarvakhap Panchayat under the chairmanship of Devpal Raja (who was born in a Jat family in Nirapada village district, Meerut) on Kartik Badi 5 District Meerut’s village Tikri, Nirpada, Dogat and Daha in the middle of the forest.
The following resolutions were passed unanimously – (1) Evacuate all the villages. (2) Keep old men, women and children in a safe place. (3) Every healthy person should join the army of Sarvkhap Panchayat. (4) Women should also take up arms like men. (5) The army of Timur, moving from Delhi to Hardwar, should be fought with guerilla warfare style and mix poison in their water. (6) 500 cavalry youths watch the activities of Timur’s army and keep track of them and inform the Panchayati army.
Panchayati Sena – 80,000 Malla warrior soldiers and 40,000 young women gathered under the Panchayati flag carrying weapons. Apart from the war, these heroines also took care of the provision of food items. Hundreds of brave warriors of the area around Delhi came to the battlefield to sacrifice their lives for the defense of the country. All over the region, young men and women became armed. Dharampaldev Jat warrior, whose age was 95 years, had given great support in gathering this army. He gathered this army by motivating men and women by going far and wide day and night on a horse. He and his brother Karanpal made arrangements for food, money and clothes etc. for this army.
Appointment of Chief Commander, Vice Chief General and Generals
In this session of Sarvkhap Panchayat, the brave warrior Jograj Singh Gurjar was unanimously made the chief commander. This Khubd was a warrior of Parmar dynasty who was a resident of Kunja Sunhati, a village near Hardwar. Later this village was destroyed by the Mughals. Descendants of Veer Jograj Singh fled from that village and settled in Landora (district Saharanpur) who established Landora Gurjar state. Jograj Singh was a child brahmachari and a famous wrestler. His height was 7 feet 9 inches and weight was 8 mans. His daily dose is four servings of food grains, five servings of vegetables and fruits, one serving of cow’s ghee and 20 servings of cow’s milk.
Women were elected commanders of the heroines, their names are as follows – (1) Rampyari Gurjar girl (2) Hardei Jat girl (3) Devikaur Rajput girl (4) Chandro Brahmin girl (5) Ramdei Tyagi girl. All of them pledged to die fighting the enemy for the defense of the country.
Deputy Chief General – (1) Dhula Bhangi (Balmiki) (2) Harbir Gulia was elected Jat. Dhula Bhangi was a resident of Hansi village (near Hisar) of District Hisar. This great mighty, fearless warrior, the great victorious of the guerilla (guerrilla) war was the Dhaadi (the great great robber) whose weight was 53 Dhadis. On being elected as the Vice-President, he gave a speech that – “I have killed many strands in my entire life. I am very happy to pay your respects. I take a vow in front of the heroes that I will shed my blood for the defense of the country and will not let the holy flag of Sarvakhap go down. I have participated in many wars and will sacrifice my life in this war. Saying this, he took out blood from his thigh and sprinkled blood at the feet of the commander-in-chief. He took his sword out of the sheath and said, “It will drink the blood of the enemy and will not enter the sheath.” With the speech of this brave warrior Dhula, there was a wave of enthusiasm and courage in the Panchayati Sena Dal and everyone shouted slogans of motherland loudly.
The second vice-chief commander was Harbir Singh Jat, whose gotra was Gulia. He was a resident of district Rohtak village Badli in Haryana. Its age was 22 years and its weight was 56 dhadis (7 mind). He was a fearless and mighty brave warrior.
Election of generals – their names are as follows – (1) Gajesingh Jat Gathwala (2) Tuhiram Rajput (3) Meda Rawa (4) Sarju Brahmin (5) Umra Taga (Tyagi) (6) Durjanpal Ahir.
The vice general who was elected – (1) Kundan Jat (2) Dhari Gadaria who was Dhaadi (3) Bhondu Saini (4) Hulla Nai (5) Bhana Weaver (Harijan) (6) Aman Singh Pundir Rajputra (7) Nathu Pardar Rajputra (😎) Dulla (Dhaadi) Jat who used to run from Hisar, Dadri to Multan (9) Mamchand Gurjar (10) Falwa Kahar.
Assistant commander – 20 assistant generals of different castes were elected.
Veer Kavi – The great scholar Chandradutt Bhatt (Bhat) was appointed as a heroic poet who wrote the history of the events of the wars with Timur.
Excerpts from the brilliant speech of Chief General Jograj Singh Gurjar –
“Veer! Follow the instructions given by Lord Krishna to Arjuna in the Gita. The door of heaven (salvation) is open for us. The position of salvation which the sage Muni attains through yoga practice, is attained by a brave warrior by sacrificing himself in the battlefield. Get ready to protect Mother India. Save the country or be sacrificed, the world will praise you. you i

When Taimur Lang was defeated by combined Hindu forces. तैमूर लंग

ने मार्च सन् 1398 ई० में भारत पर 92000 घुड़सवारों की सेना से तूफानी आक्रमण कर दिया। तैमूर के सार्वजनिक कत्लेआम, लूट खसोट और सर्वनाशी अत्याचारों की सूचना मिलने पर संवत् 1455 (सन् 1398 ई०) कार्तिक बदी 5 को देवपाल राजा (जिसका जन्म #निरपड़ा गांव जिला #मेरठ में एक #जाट घराने में हुआ था) की अध्यक्षता में हरियाणा सर्वखाप पंचायत का अधिवेशन जि० मेरठ के गाँव #टीकरी, #निरपड़ा, #दोघट और #दाहा के मध्य जंगलों में हुआ।

सर्वसम्मति से निम्नलिखित प्रस्ताव पारित किये गये – (1) सब गांवों को खाली कर दो। (2) बूढे पुरुष-स्त्रियों तथा बालकों को सुरक्षित स्थान पर रखो। (3) प्रत्येक स्वस्थ व्यक्ति सर्वखाप पंचायत की सेना में भर्ती हो जाये। (4) युवतियाँ भी पुरुषों की भांति शस्त्र उठायें। (5) दिल्ली से हरद्वार की ओर बढ़ती हुई तैमूर की सेना का छापामार युद्ध शैली से मुकाबला किया जाये तथा उनके पानी में विष मिला दो। (6) 500 घुड़सवार युवक तैमूर की सेना की गतिविधियों को देखें और पता लगाकर पंचायती सेना को सूचना देते रहें।

पंचायती सेना – पंचायती झण्डे के नीचे 80,000 मल्ल योद्धा सैनिक और 40,000 युवा महिलायें शस्त्र लेकर एकत्र हो गये। इन वीरांगनाओं ने युद्ध के अतिरिक्त खाद्य सामग्री का प्रबन्ध भी सम्भाला। दिल्ली के सौ-सौ कोस चारों ओर के क्षेत्र के वीर योद्धा देश रक्षा के लिए अपने प्राणों की आहुति देने रणभूमि में आ गये। सारे क्षेत्र में युवा तथा युवतियां सशस्त्र हो गये। इस सेना को एकत्र करने में #धर्मपालदेव जाट योद्धा जिसकी आयु 95 वर्ष की थी, ने बड़ा सहयोग दिया था। उसने घोड़े पर चढ़कर दिन रात दूर-दूर तक जाकर नर-नारियों को उत्साहित करके इस सेना को एकत्र किया। उसने तथा उसके भाई #करणपाल ने इस सेना के लिए अन्न, धन तथा वस्त्र आदि का प्रबन्ध किया।

प्रधान सेनापति, उप-प्रधान सेनापति तथा सेनापतियों की नियुक्ति

सर्वखापपंचायत के इस अधिवेशन में सर्वसम्मति से वीर योद्धा #जोगराजसिंहगुर्जर को प्रधान सेनापति बनाया गया। यह खूबड़ परमार वंश का योद्धा था जो #हरिद्वार के पास एक गाँव #कुंजा_सुन्हटी का निवासी था। बाद में यह गाँव मुगलों ने उजाड़ दिया था। वीर जोगराजसिंह के वंशज उस गांव से भागकर #लंढोरा (जिला #सहारनपुर) में आकर आबाद हो गये जिन्होंने लंढोरा गुर्जर राज्य की स्थापना की। जोगराजसिंह बालब्रह्मचारी एवं विख्यात पहलवान था। उसका कद 7 फुट 9 इंच और वजन 8 मन था। उसकी दैनिक खुराक चार सेर अन्न, 5 सेर सब्जी-फल, एक सेर गऊ का घी और 20 सेर गऊ का दूध।

महिलाएं वीरांगनाओं की सेनापति चुनी गईं उनके नाम इस प्रकार हैं – (1) रामप्यारी गुर्जर युवति (2) हरदेई जाट युवति (3) देवीकौर राजपूत युवति (4) चन्द्रो ब्राह्मण युवति (5) रामदेई त्यागी युवति। इन सब ने देशरक्षा के लिए शत्रु से लड़कर प्राण देने की प्रतिज्ञा की।

उपप्रधान सेनापति – (1) #धूला_भंगी (बालमीकी) (2) हरबीर गुलिया जाट चुने गये। धूला भंगी जिला #हिसार के #हांसी गांव (हिसार के निकट) का निवासी था। यह महाबलवान्, निर्भय योद्धा, गोरीला (छापामार) युद्ध का महान् विजयी धाड़ी (बड़ा महान् डाकू) था जिसका वजन 53 धड़ी था। उपप्रधान सेनापति चुना जाने पर इसने भाषण दिया कि – “मैंने अपनी सारी आयु में अनेक धाड़े मारे हैं। आपके सम्मान देने से मेरा खूब उबल उठा है। मैं वीरों के सम्मुख प्रण करता हूं कि देश की रक्षा के लिए अपना खून बहा दूंगा तथा सर्वखाप के पवित्र झण्डे को नीचे नहीं होने दूंगा। मैंने अनेक युद्धों में भाग लिया है तथा इस युद्ध में अपने प्राणों का बलिदान दे दूंगा।” यह कहकर उसने अपनी जांघ से खून निकालकर प्रधान सेनापति के चरणों में उसने खून के छींटे दिये। उसने म्यान से बाहर अपनी तलवार निकालकर कहा “यह शत्रु का खून पीयेगी और म्यान में नहीं जायेगी।” इस वीर योद्धा धूला के भाषण से पंचायती सेना दल में जोश एवं साहस की लहर दौड़ गई और सबने जोर-जोर से मातृभूमि के नारे लगाये।

दूसरा उपप्रधान सेनापति हरबीरसिंह जाट था जिसका गोत्र गुलिया था। यह हरयाणा के जिला #रोहतक गांव #बादली का रहने वाला था। इसकी आयु 22 वर्ष की थी और इसका वजन 56 धड़ी (7 मन) था। यह निडर एवं शक्तिशाली वीर योद्धा था।

सेनापतियों का निर्वाचन – उनके नाम इस प्रकार हैं – (1) गजेसिंह जाट गठवाला (2) तुहीराम राजपूत (3) मेदा रवा (4) सरजू ब्राह्मण (5) उमरा तगा (त्यागी) (6) दुर्जनपाल अहीर।

जो उपसेनापति चुने गये – (1) कुन्दन जाट (2) धारी गडरिया जो धाड़ी था (3) भौन्दू सैनी (4) हुल्ला नाई (5) भाना जुलाहा (हरिजन) (6) अमनसिंह पुंडीर राजपुत्र (7) नत्थू पार्डर राजपुत्र (8) दुल्ला (धाड़ी) जाट जो हिसार, दादरी से मुलतान तक धाड़े मारता था। (9) मामचन्द गुर्जर (10) फलवा कहार।

सहायक सेनापति – भिन्न-भिन्न जातियों के 20 सहायक सेनापति चुने गये।

वीर कवि – प्रचण्ड विद्वान् चन्द्रदत्त भट्ट (भाट) को वीर कवि नियुक्त किया गया जिसने तैमूर के साथ युद्धों की घटनाओं का आंखों देखा इतिहास लिखा था।

प्रधान सेनापति जोगराजसिंह गुर्जर के ओजस्वी भाषण के कुछ अंश –

“वीरो! भगवान् कृष्ण ने गीता में अर्जुन को जो उपदेश दिया था उस पर अमल करो। हमारे लिए स्वर्ग (मोक्ष) का द्वार खुला है। ऋषि मुनि योग साधना से जो मोक्ष पद प्राप्त करते हैं, उसी पद को वीर योद्धा रणभूमि में बलिदान देकर प्राप्त कर लेता है। भारत माता की रक्षा हेतु तैयार हो जाओ। देश को बचाओ अथवा बलिदान हो जाओ, संसार तुम्हारा यशोगान करेगा। आपने मुझे नेता चुना है, प्राण रहते-रहते पग पीछे नहीं हटाऊंगा। पंचायत को प्रणाम करता हूँ तथा प्रतिज्ञा करता हूँ कि अन्तिम श्वास तक भारत भूमि की रक्षा करूंगा। हमारा देश तैमूर के आक्रमणों तथा अत्याचारों से तिलमिला उठा है। वीरो! उठो, अब देर मत करो। शत्रु सेना से युद्ध करके देश से बाहर निकाल दो।”

यह भाषण सुनकर वीरता की लहर दौड़ गई। 80,000 वीरों तथा 40,000 वीरांगनाओं ने अपनी तलवारों को चूमकर प्रण किया कि हे सेनापति! हम प्राण रहते-रहते आपकी आज्ञाओं का पालन करके देश रक्षा हेतु बलिदान हो जायेंगे।

मेरठ युद्ध – तैमूर ने अपनी बड़ी संख्यक एवं शक्तिशाली सेना, जिसके पास आधुनिक शस्त्र थे, के साथ दिल्ली से मेरठ की ओर कूच किया। इस क्षेत्र में तैमूरी सेना को पंचायती सेना ने दम नहीं लेने दिया। दिन भर युद्ध होते रहते थे। रात्रि को जहां तैमूरी सेना ठहरती थी वहीं पर पंचायती सेना धावा बोलकर उनको उखाड़ देती थी। वीर देवियां अपने सैनिकों को खाद्य सामग्री एवं युद्ध सामग्री बड़े उत्साह से स्थान-स्थान पर पहुंचाती थीं। शत्रु की रसद को ये वीरांगनाएं छापा मारकर लूटतीं थीं। आपसी मिलाप रखवाने तथा सूचना पहुंचाने के लिए 500 घुड़सवार अपने कर्त्तव्य का पालन करते थे। रसद न पहुंचने से तैमूरी सेना भूखी मरने लगी। उसके मार्ग में जो गांव आता उसी को नष्ट करती जाती थी। तंग आकर तैमूर हरद्वार की ओर बढ़ा।

हरिद्वार युद्ध – मेरठ से आगे मुजफ्फरनगर तथा सहारनपुर तक पंचायती सेनाओं ने तैमूरी सेना से भयंकर युद्ध किए तथा इस क्षेत्र में तैमूरी सेना के पांव न जमने दिये। प्रधान एवं उपप्रधान और प्रत्येक सेनापति अपनी सेना का सुचारू रूप से संचालन करते रहे। हरद्वार से 5 कोस दक्षिण में तुगलुकपुर-पथरीगढ़ में तैमूरी सेना पहुंच गई। इस क्षेत्र में पंचायती सेना ने तैमूरी सेना के साथ तीन घमासान युद्ध किए।

उप-प्रधानसेनापति हरबीरसिंह गुलिया ने अपने पंचायती सेना के 25,000 वीर योद्धा सैनिकों के साथ तैमूर के घुड़सवारों के बड़े दल पर भयंकर धावा बोल दिया जहां पर तीरों तथा भालों से घमासान युद्ध हुआ। इसी घुड़सवार सेना में तैमूर भी था। हरबीरसिंह गुलिया ने आगे बढ़कर शेर की तरह दहाड़ कर तैमूर की छाती में भाला मारा जिससे वह घोड़े से नीचे गिरने ही वाला था कि उसके एक सरदार खिज़र ने उसे सम्भालकर घोड़े से अलग कर लिया। (तैमूर इसी भाले के घाव से ही अपने देश समरकन्द में पहुंचकर मर गया)। वीर योद्धा हरबीरसिंह गुलिया पर शत्रु के 60 भाले तथा तलवारें एकदम टूट पड़ीं जिनकी मार से यह योद्धा अचेत होकर भूमि पर गिर पड़ा।

(1) उसी समय प्रधान सेनापति जोगराजसिंह गुर्जर ने अपने 22000 मल्ल योद्धाओं के साथ शत्रु की सेना पर धावा बोलकर उनके 5000 घुड़सवारों को काट डाला। जोगराजसिंह ने स्वयं अपने हाथों से अचेत हरबीरसिंह को उठाकर यथास्थान पहुंचाया। परन्तु कुछ घण्टे बाद यह वीर योद्धा वीरगति को प्राप्त हो गया। जोगराजसिंह को इस योद्धा की वीरगति से बड़ा धक्का लगा।

(2) हरिद्वार के जंगलों में तैमूरी सेना के 2805 सैनिकों के रक्षादल पर भंगी कुल के उपप्रधान सेनापति धूला धाड़ी वीर योद्धा ने अपने 190 सैनिकों के साथ धावा बोल दिया। शत्रु के काफी सैनिकों को मारकर ये सभी 190 सैनिक एवं धूला धाड़ी अपने देश की रक्षा हेतु वीरगति को प्राप्त हो गये।

(3) तीसरे युद्ध में प्रधान सेनापति जोगराजसिंह ने अपने वीर योद्धाओं के साथ तैमूरी सेना पर भयंकर धावा करके उसे अम्बाला की ओर भागने पर मजबूर कर दिया। इस युद्ध में वीर योद्धा जोगराजसिंह को 45 घाव आये परन्तु वह वीर होश में रहा। पंचायती सेना के वीर सैनिकों ने तैमूर एवं उसके सैनिकों को हरद्वार के पवित्र गंगा घाट (हर की पौड़ी) तक नहीं जाने दिया। तैमूर हरिद्वार से पहाड़ी क्षेत्र के रास्ते #अम्बाला की ओर भागा। उस भागती हुई तैमूरी सेना का पंचायती वीर सैनिकों ने अम्बाला तक पीछा करके उसे अपने देश हरियाणा से बाहर खदेड़ दिया।

वीर सेनापति दुर्जनपाल अहीर मेरठ युद्ध में अपने 200 वीर सैनिकों के साथ दिल्ली दरवाज़े के निकट स्वर्ग लोक को प्राप्त हुये।

इन युद्धों में बीच-बीच में घायल होने एवं मरने वाले सेनापति बदलते रहे थे। कच्छवाहे गोत्र के एक वीर राजपूत ने उपप्रधान सेनापति का पद सम्भाला था। तंवर गोत्र के एक जाट योद्धा ने प्रधान सेनापति के पद को सम्भाला था। एक रवा तथा सैनी वीर ने सेनापति पद सम्भाले थे। इस युद्ध में केवल 5 सेनापति बचे थे तथा अन्य सब देशरक्षा के लिए वीरगति को प्राप्त हुये।

इन युद्धों में तैमूर के ढ़ाई लाख सैनिकों में से हमारे वीर योद्धाओं ने 1,60,000 को मौत के घाट उतार दिया था और तैमूर की आशाओं पर पानी फेर दिया।

हमारी पंचायती सेना के वीर एवं वीरांगनाएं 35,000, देश के लिये वीरगति को प्राप्त हुए थे।

प्रधान सेनापति की वीरगति – वीर योद्धा प्रधान सेनापति जोगराजसिंह गुर्जर युद्ध के पश्चात् ऋषिकेश के जंगल में स्वर्गवासी हुये थे।

(सन्दर्भ-जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठान्त-३७९-३८३ )

ध्यान दीजिये। एक सवर्ण सेना का उपसेनापति वाल्मीकि था। अहीर, गुर्जर से लेकर 36 बिरादरी उसके महत्वपूर्ण अंग थे। तैमूर को हराने वाली सेना को हराने वाली कौन थे? क्या वो जाट थे?बनिए थे? क्या वो भंगी या वाल्मीकि थे? क्या वो जातिवादी थे?

नहीं वो सबसे पहले देशभक्त थे। धर्मरक्षक थे। श्री राम और श्री कृष्ण की संतान थे? गौ, वेद , जनेऊ और यज्ञ के रक्षक थे।

आज भी हमारा देश उसी संकट में आ खड़ा हुआ है। आज भी विधर्मी हमारी जड़ों को काट रहे है। आज भी हमें फिर से से एकजुट होकर अपने धर्म, अपनी संस्कृति और अपनी मातृभूमि की रक्षा का व्रत लेना हैं। यह तभी सम्भव है जब हम अपनी संकीर्ण मानसिकता से ऊपर उठकर सोचना आरम्भ करेंगे। आप में से कौन कौन मेरे साथ है?

लेखक : डा. विवेक आर्य

Warrior Queen Nayaki Devi, who defeated Muhammad Ghori

Warrior Queen Nayaki Devi, who defeated Muhammad Ghori

Indian History in text books was written mostly by people who were not patriots not only that but behind every history text books there are political and western influences.
There are many dynasties who ruled for centuries, but few invaders who ruled for lesser years got more coverage.
Many warriors, especially females were neglected and never included in history.
One such is Nayaki Devi, the queen of Gujarat. She defeated Muhammad of Ghori 14 years before he faced Prithviraj Chauhan.

Muhammad Ghori defeated by Nayaki Devi. 🙏

It is well known that Muhammad Ghori defeated Prithviraj Chauhan at the 2nd Battle of Tarain in 1192 CE.
However, he was defeated by Nayaki Devi, a Goa born, Queen of Gujarat.
Nayaki Devi belonged to Chalukya Clan and was widow of Solanki King Ajaya Pala, who ruled for a short period of 4 years around 1170 CE.

She was the daughter of the Kadamba ruler Mahamandalesvara Permadi of Goa and after the death of her husband, Nayaki Devi served as a Queen Regent as her son Mularaja II was just a child.
Their capital was Anahilapataka (modern Patan in Gujarat).
Gujarati court poet Someshwara, who served in the court of the later Solanki kings mentions that the infant king Mularaja (Nayaki Devi’s son) defeated an army of mlechhas (Ghori invaders).

However, the most exact description of Nayaki Devi defeating Muhammad Ghori’s army comes from works of the 14th CE Jain scholar Merutunga . In his work, Prabandha Chintamani he mentions how Nayaki Devi, the Queen and mother of Mularaja II, fought the armies of the mleccha king at Gadararaghatta or Kyara near the foot of Mount Abu.

The 13th century Persian chronicler Minhaj-i-Siraj from Ghor, who later served as chronicler to the Slave dynasty of Delhi, mentions that Muhammad Ghori marched towards Nahrwala (the Solanki capital Anhilwara) via Uchchha and Multan.
The ‘Rae of Nahrwala’ (the Solanki king) was young, but commanded a huge army with elephants. In the ensuing battle, ‘the army of Islam was defeated and put to rout,’ and the invading ruler had to return to without any accomplishment.

Nayaki Devi on Elephant.

Nayaki Devi was the daughter of Goa Kadamba King Shivachitta Paramardi.
Nayaki Devi needed a strategy to defeat the enemy. She chose the site of the battle- the hilly passes of Gadaraghatta at the foot of Mount Abu near the village of Kasahrada, known was modern day Kyara in Sirohi district, 65 km away from Anahilavada. The narrow passes gained a huge advantage and the odds were balanced- the invading army was at great disadvantage.
The Chaulukya army was headed by Nayaki Devi with the boy king sitting on her lap. Her army and the troop of war-elephant crushed the massive army, which once defeated the mighty sultans of Multan like child’s play. Nayaki Devi killed several enemy soldiers forcing them to flee.
Muhammad Ghori fled with a handful of bodyguards. This battle was known as Battle of Kasahrada.

Due to this defeat, Ghori changed his plan while invading India next time. The following year, Muhammad Ghori entered India through Khyber pass, captured Peshawar followed by Lahore.

There are two Sanskrit inscriptions of Gujarat, where Mulraja-II is invariably mentioned as the conqueror of Garjanakas [dwellers of Ghazni]. One inscription states that “even a woman could defeat the Hammira [Amir], during the reign of Mulraja II..”
Few years later, Nayaki Devi’s daughter Kurma Devi defeated Qutbuddin Aibak in another battle. Jai Bhawani.

बंद हो जिहादी सूफियों को ‘संत’ कहना

*मंदिर तोड़े, गाँव के गाँव मुस्लिम बना दिए•
*राजाओं का भी किया धर्मांतरण•
*बंद हो जिहादी सूफियों को ‘संत’ कहना•
*वामपंथियों ने किया गुणगान•


भारत में अक्सर ‘सूफी परंपरा’ की तुलना ‘भक्ति आंदोलन’ से की जाती रही है। ऐसा जानबूझ कर किया जाता है, ताकि रैदास और चैतन्य महाप्रभु जैसों की तुलना में ख्वाजा मोईनुद्दीन चिश्ती और चाँद मियाँ जैसों को खड़ा किया जा सके। सूफियों को ‘संत’ कहा जाता है, ताकि हिन्दू भी उनका सम्मान करें, उनकी पूजा करें और उनके मजार पर जाकर मत्था टेकें। क्या वाकई में ये सूफी इतने महान थे? इन्हिने हिन्दू-मुस्लिम एकता बढ़ाई और गरीबों की सेवा की?

असल में इन सूफी फकीरों को भेजा ही इसीलिए जाता था, ताकि वो गरीबों को बहला-फुसला कर और उनके साथ प्रेमपूर्वक बर्ताव कर के इस्लामी धर्मांतरण कराएँ। जैसे इस्लामी शासन खून-खराबे से साम्राज्य विस्तार करते चलते थे, इन सूफियों को समाज को तोड़ने के लिए लगाया जाता था। वो अच्छी-अच्छी बातें करते थे, ताकि लोग उन्हें ‘संत’ मानें। उद्देश्य इस्लामी आक्रांताओं और सूफियों का समान ही था – इस्लाम का विस्तार।

लेखिका तस्लीमा नसरीन ने भी अपनी पुस्तक ‘निषिद्ध’ में लिखा है कि सूफियों के ‘प्रेमपूर्वक बर्ताव’ के कारण कई हिन्दुओं ने धर्मांतरण किया। इसका एक उदाहरण देखिए। पेंटर अकबर पद्ममसी के पूर्वज कभी हिन्दू हुआ करते थे, लेकिन 17वीं शताब्दी सूफी पीर सददीन ने उनके परिवार का इस्लामी धर्मांतरण करा के उन्हें मुस्लिम बना दिया। पूरे परिवार के मन में बिठा दिया गया कि पैगंबर मुहम्मद, विष्णु के 11वें अवतार हैं।

आइए, एक उदाहरण बंगाल से भी लेते हैं। बंगाल में एक राजा गणेश हुए हैं। उनके राज्य में भी क़ुतुब अल आलम नाम का सूफी फ़कीर आकर रहता था और उसने अपनी ‘चमत्कारी’ छवि बना रखी थी। आक्रांताओं के खतरे को कम करने के लिए राजा ‘चमत्कार’ का सहारा लेने पहुँचे। सूफी ने कह दिया कि राजा गणेश का बेटा जदु यदि इस्लाम अपना कर राज्य चलाता है तो सारे खतरे टल जाएँगे।

फिर क्या था, जदु को ‘जलालुद्दीन मुहम्मद शाह’ बना कर गद्दी पर बिठा दिया गया। क़ुतुब अल आलम की मौत के बाद राजा गणेश ने पूरे विधि-विधान से उसे हिन्दू धर्म में वापस लाने की प्रक्रिया पूरी की और ‘दनुजमर्दन देव’ नाम से उसका नया नामकरण किया। हालाँकि, ‘सूफी’ का प्रभाव उस पर ऐसा पड़ा था कि पिता की मौत के बाद उसने फिर इस्लाम अपना लिया। उसका बेटा ‘शमशुद्दीन अहमद शाह’ हुआ। 15वीं शताब्दी के दूसरे दशक में हुए इस उथल-पुथल ने बंगाल में इस्लाम का विस्तार शुरू किया।

इसी तरह 14वीं शताब्दी के कुछ शिलालेख शाह जलाल मुजर्रद की बातें करते हैं। बताया गया है कि वो ‘जिहाद’ और ‘काफिरों के खिलाफ युद्ध’ के लिए भारत आया था। साथ ही कहा गया था कि ‘दारुल हरब (नॉन-इस्लाम के राज वाली भूमि)’ में शहीद होकर वो ‘गाजी’ बन सकता है, ऐसी उसे शिक्षा मिली थी। वो युद्ध लड़ता था और अपने जीत होने पर अपने अनुयायियों के साथ इस्लाम का झंडा गाड़ता था।

इसी तरह बंगाल के एक और तथाकथित ‘सूफी संत’ शेख जलाल अल-दीन तबरीजी को देखिए। 13वीं शताब्दी में वो दिल्ली आया था, लेकिन वहाँ भाव न मिलने पर बंगाल आ गया। उसके पक्ष में दलीलें दी जा सकती हैं कि उसने अस्पताल व सामुदायिक किचन बनवाए, लेकिन उसके बारे में समकालीन स्रोतों ने ये भी लिखा है कि उसने एक ‘काफिर’ द्वारा बनवाए गए मंदिर को ध्वस्त कर दिया और उसकी जगह वहाँ ‘सूफी तकिया (रेस्ट हाउस)’ बनवाया। लिखा है कि उसने कई ‘काफिरों’ का इस्लामी धर्मांतरण कराया था।

ये भारत में आने वाले सबसे शुरुआती सूफी लोग थे। जब शुरुआत ही ऐसी थी तो फिर उसके बाद क्या सब हुआ होगा, ये आप समझ सकते हैं। असल में ये सूफी इस्लामी आक्रांताओं का मुखौटा होते थे, जो समाज को प्रदूषित करते हुए हिन्दू राजाओं के विरुद्ध माहौल तैयार करते थे। कभी-कभी ये युद्ध भी लड़ते थे। इस्लामी आक्रांताओं का राज आने पर इन्हें महत्वपूर्ण स्थान मिलता था, इसीलिए गरीब लोग भी इन्हें अपना सब कुछ मान लेते थे।

आइए, अब उन दो सूफी संतों की बात करते हैं, जिन्हें भारत में आज भी पूजा जाता है। स्पष्ट है कि पहला नाम इसमें अजमेर के ख्वाजा मोईनुद्दीन चिश्ती का है। ये महज ‘संयोग’ ही था या कुछ और कि जिस साल मोहम्मद गोरी हार कर भागा, उसके अगले ही साल या कुछ ही दिनों बाद एक सूफी संत ने अजमेर में डेरा जमाया, पृथ्वीराज चौहान की राजधानी में। वहाँ वह कई चमत्कार करने लगा। आस-पास के लोगों में उसके प्रति जिज्ञासा जागी। वह लोगों से काफी अच्छे से पेश आता। गाँव के गाँव इस्लाम में धर्मांतरित होने शुरू हो गए।

बिना हथियार उठाए चिश्ती ने वो जमीन तैयार कर दी, जहाँ वो अगले 44 वर्षों तक इस्लाम का प्रचार-प्रसार करता रहा। 1191 में गोरी हारा और 1192 में दोबारा लौट कर आया। इसी अवधि के बीच चिश्ती ने अजमेर में डेरा जमाया। आखिर ऐसे संवेदनशील समय में चिश्ती भारत क्यों आया था? वो अपने चेलों-शागिर्दों के साथ पहुँचा था। चिश्ती ‘काफिरों के खिलाफ इस्लामी जिहाद’ के लिए भारत आया था।

तभी तो पृथ्वीराज चौहान की हार के बाद ‘ख्वाजा’ मोईनुद्दीन चिश्ती ने जीत का श्रेय लेते हुए कहा था, “हमने पिथौरा (पृथ्वीराज चौहान) को जिंदा दबोच लिया और उसे इस्लाम की फौज के हवाले कर दिया।” पृथ्वीराज चौहान के खिलाफ गद्दारी वाला युद्ध लड़ने के लिए ही मोईनुद्दीन चिश्ती भारत आया था, ताकि वो मोहम्मद गोरी की तरफ से उसकी सहायता कर सके और उसका काम आसान कर सके।

इसी तरह बहराइच में गाजी सैयद सालार मसूद उर्फ़ गाजी मियाँ की दरगाह है, जिसने हिन्दुओं का कत्लेआम किया था और धर्म ग्रंथों को तहस-नहस किया था। उसे महाराजा सुहेलदेव ने सन् 1034 के एक युद्ध में मार गिराया था। गाजी भारत में कई बार आक्रमण करने वाले मौमूद गजनवी का भांजा था। इस्लामी आक्रांता फिरोजशाह तुगलक ने उसका मजार बनवाया था। वामपंथियों की मानें तो हिन्दू उसे प्यार से ‘बाले मियाँ’ और ‘हठीला’ कहते थे, बाल श्रीकृष्ण से उसकी तुलना करते थे।

उसने ज़ुहरा बीबी नाम की एक लड़की से शादी की थी। दावा किया जाता है कि उसने उस लड़की का अंधापन ठीक कर दिया था। हालाँकि, आपको भारत में आए सूफियों और फकीरों के बारे में कई ऐसी कहानियाँ मिलेंगी, जहाँ उन्होंने किसी लड़की या उसके परिवार पर इस तरह का ‘चमत्कार’ कर के उससे शादी की हो। इतिहासकार एना सुवोरोवा ने तो गाजी मियाँ की तुलना श्रीकृष्ण और श्रीराम तक से कर दी है और कहा है कि हिन्दू उसे इसी रूप में देखते थे।

‘दैनिक जागरण’ में वरिष्ठ लेखक व पत्रकार अनंत विजय ने भी अपने एक स्तंभ में लेखक सुधीश पचौरी के हवाले से लिखा है कि ये सूफी इस्लाम के प्रचारक थे। वो सुल्तानों के साथ आते थे, और कट्टर से इतर नरम रुख अपनाते थे। सुल्तान जहाँ जाते थे, वहाँ सूफी इस्लाम को मजबूर करने निकल पड़ते थे। हिंदी साहित्य में भी ‘संत’ बता कर उनका महिमामंडन किया गया। अब समय आ गया है कि इन सूफियों को ‘संत’ न कहा जाए।
(26 September, 2021अनुपम कुमार सिंहआप इण्डिया काम)

Rajput and resistance against Muslims

सन् 1840 में काबुल में युद्ध में 8000 पठान मिलकर भी 1200 राजपूतो का मुकाबला 1 घंटे भी नही कर पाये।
वही इतिहासकारो का कहना था की चित्तोड की तीसरी लड़ाई जो 8000 राजपूतो और 60000 मुगलो के मध्य हुयी थी वहा अगर राजपूत 15000 राजपूत होते तो अकबर भी जिंदा बचकर नहीं जाता।
इस युद्ध में 48000 सैनिक मारे गए थे जिसमे 8000
राजपूत और 40000 मुग़ल थे वही 10000 के करीब
घायल थे।
और दूसरी तरफ गिररी सुमेल की लड़ाई में 15000
राजपूत 80000 तुर्को से लडे थे, इस पर घबराकर शेर
शाह सूरी ने कहा था “मुट्टी भर बाजरे (मारवाड़)
की खातिर हिन्दुस्तान की सल्लनत खो बैठता”
उस युद्ध से पहले जोधपुर महाराजा मालदेव जी नहीं गए
होते तो शेर शाह ये बोलने के लिए जीवित भी नही
रहता।
इस देश के इतिहासकारो ने और स्कूल कॉलेजो की
किताबो मे आजतक सिर्फ वो ही लडाई पढाई
जाती है जिसमे हम कमजोर रहे,
वरना बप्पा रावल और राणा सांगा जैसे योद्धाओ का नाम तक सुनकर मुगल की औरतो के गर्भ गिर जाया करते थे, रावत रत्न सिंह चुंडावत की रानी हाडा का त्यागपढाया नही गया जिसने अपना सिर काटकर दे दिया था।
पाली के आउवा के ठाकुर खुशहाल सिंह
को नही पढाया जाता, जिन्होंने एक अंग्रेज के अफसर का सिर काटकर किले पर लटका दिया था।
जिसकी याद मे आज भी वहां पर मेला लगता है। दिलीप सिंह जूदेव का नही पढ़ाया जाता जिन्होंने एक लाख आदिवासियों को फिर से हिन्दू बनाया था।
महाराजा अनंगपाल सिंह तोमर
महाराणा प्रतापसिंह
महाराजा रामशाह सिंह तोमर
वीर राजे शिवाजी
राजा विक्रमाद्तिया
वीर पृथ्वीराजसिंह चौहान
हमीर देव चौहान
भंजिदल जडेजा
राव चंद्रसेन
वीरमदेव मेड़ता
बाप्पा रावल
नागभट प्रतिहार(पढियार)
मिहिरभोज प्रतिहार(पढियार)
राणा सांगा
राणा कुम्भा
रानी दुर्गावती
रानी पद्मनी
रानी कर्मावती
भक्तिमति मीरा मेड़तनी
वीर जयमल मेड़तिया
कुँवर शालिवाहन सिंह तोमर
वीर छत्रशाल बुंदेला
दुर्गादास राठौर
कुँवर बलभद्र सिंह तोमर
मालदेव राठौर
महाराणा राजसिंह
विरमदेव सोनिगरा
राजा भोज
राजा हर्षवर्धन बैस
बन्दा सिंह बहादुर
इन जैसे महान योद्धाओं को नही पढ़ाया/बताया जाता है, जिनके नाम के स्मरण मात्र से ही शत्रुओं के शरीर में आज भी कंपकंपी शुरू हो जाती है।

रामप्यारी गुर्जरी

रामप्यारी गुर्जरी

तैमूर लंग का नाम लेते ही एक क्रूर और खतरनाक आक्रान्ता का चेहरा हमारे सामने आ जाता है। कहा जाता है कि तैमूर ने इतनी हत्याएं की थी कि दुनिया की आबादी में 3 फीसदी की कमी आ गई थी। वर्ष 1398 में भारत पर आक्रमण करने वाले तैमूर इतनी बर्बरता फैलायी थी कि उसके वर्णन मात्र से रूह कांप जाती है। लेकिन भारतवर्ष की एक वीरागंना ऐसी थी जिसने युद्ध में न सिर्फ तैमूर को उसी की भाषा में जवाब दिया बल्कि इस वीरांगना के युद्ध कौशल से डर कर तैमूर को भारत विजय का अभियान छोड़ कर जाना पड़ा। उस वीरांगना का नाम था रामप्यारी गुर्जरी।

बचपन से ही निडर और हठी थीं रामप्यारी गुर्जरी
सहारनपुर के चैहान गुर्जर परिवार में जन्मी रामप्यारी बचपन से ही निडर और हठी स्वभाव की थी। पुरूषों की वेशभूषा पसंद करने वाली रामप्यारी पहलवान बनना चाहती थी और प्रतिदिन अपनी मां से इस संबंध में सवाल पूछंती थी और नियमित व्यायाम करती थी। युवा होने तक रामप्यारी युद्धकौशल में भी दक्ष हो गई थी। उसकी बुद्धमिता और युद्ध कौशल के चर्चे आस-पास के सभी इलाकों में थे।

भारत में इस्लाम की ध्वजा लहराना तैमूर का था मुख्य उद्देश्य
वर्ष 1398 में भारतवर्ष पर तुगलक वंश के नसीरूद्दीन तुगलक का शासन हुआ करता था। उसी समय समरकन्द के क्रूर आक्रांता तैमूर लंग ने आक्रमण कर नसीरूद्दीन तुगलक को हरा दिया और दिल्ली में जीत का खुनी जश्न मनाया। दिल्ली में अनगिनत हिंदुओं को मारने के बाद तैमूर की नजर हिंदूओं के तीर्थों की ओर कीं। ब्रिटिश इतिहासकार विन्सेंट ए स्मिथ ने अपनी पुस्तक ‘द ऑक्सफोर्ड हिस्ट्री ऑफ इंडिया: फ्रोम द अर्लीएस्ट टाइम्स टू द एण्ड ऑफ 1911’ में लिखा है कि भारत में तैमूर के अभियान का मुख्य उद्देश्य था, सनातन समुदाय का विनाश कर भारत में इस्लाम की ध्वजा लहराना।

फिर तैयार की गई युद्ध लड़ने की रणनीति
यह सूचना जाट क्षेत्र में पहुंची, जाट क्षेत्र में आज का हरियाणा और पश्चिमी उत्तर प्रदेश के कुछ भाग आते हैं। जाट क्षेत्र के तत्कालीन प्रमुख देवपाल ने महापंचायत का आयोजन किया। इस महापंचायत में जाट, गुर्जर, अहीर, वाल्मीकि, राजपूत, ब्राह्मण एवं आदिवासी जैसे अनेक समुदायों के सदस्य शामिल थे। महापंचायत में देवपाल ने न केवल तैमूर के अत्याचारों को सबके समक्ष उजागर करते हुए सनातन की रक्षा के लिए आपसी भेदभाव मिटा कर तैमूर को उसी की भाषा में जवाब देने की अपील की। इसके बाद जाट महापंचायत ने तैमूर की सेना ने छापामार युद्ध लड़ने की रणनीति बनाई।

रामप्यारी गुर्जरी बनीं महिला सैनिकों की टुकड़ी की सेनापति
रणनीति के मुताबिक महापंचायत की सेना में 80 हजार पुरूष योद्धा शामिल किए गए और जोगराज सिंह गुर्जर इस सेना के मुखिया व हरवीर सिंह गुलिया सेनापति बने और तय किया गया कि 40 हजार महिला सैनिकों की एक टुकड़ी भी तैयार की जाए। लेकिन समस्या यह थी कि महिला टुकड़ी का नेतृत्व कौन करेगा। तभी रामप्यारी गुर्जरी का नाम सामने आया और वह इस महिला सैनिकों की टुकड़ी की सेनापति बनाई गई।

तैमूर की सेना की जासूसी के लिए लगाए गए 500 युवा अश्वारोही
एक सुनियोजित योजना के अंतर्गत 500 युवा अश्वारोहियों को तैमूर की सेना पर जासूसी के लिए लगाया गया, जिससे उसकी योजनाओं और भविष्य के आक्रमणों के बारे में पता चल सके। योजना के मुताबिक तैमूर जिस स्थान पर हमला करने की योजना बनाता, तो उसके हमले से पहले ही रोगियों, वृद्धों और छोटे बच्चों को सुरक्षित स्थानों पर सभी मूल्यवान वस्तुओं सहित दूसरे स्थान पर पहुंचा दिया जाता।

वीर रामप्यारी गुर्जर ने देश हित में ली प्रतिज्ञा कि…
वीर रामप्यारी गुर्जर ने देशरक्षा हेतु शत्रु से लड़कर प्राण देने की प्रतिज्ञा की। जोगराज के नेतृत्व में बनी 40,000 ग्रामीण महिलाओं की सेना को युद्ध विद्या के प्रशिक्षण व निरीक्षण का दायित्व भी रामप्यारी चैहान गुर्जर के पास था, इनकी चार सहकर्मियां भी थीं, जिनके नाम थे हरदाई जाट, देवी कौर राजपूत, चंद्रों ब्राह्मण और रामदाई त्यागी।

रामप्यारी की हुंकार पर शामिल हुईं वीरांगनाएं
इन 40,000 महिलाओं में गुर्जर, जाट, अहीर, राजपूत, हरिजन, वाल्मीकि, त्यागी, तथा अन्य वीर जातियों की वीरांगनाएं शामिल थीं। इनमें से कई ऐसी महिलाएं भी थीं, जिन्होने कभी शस्त्र का मुंह भी नहीं देखा था पर रामप्यारी की हुंकार पर वह अपने को रोक ना पायी। जाट क्षेत्र के सभी गांवों के युवक-युवतियां अपने नेता के संरक्षण में प्रतिदिन शाम को गांव के अखाड़े पर एकत्र हो जाया करते थे और व्यायाम, मल्ल युद्ध तथा युद्ध विद्या का अभ्यास किया करते थे।

अंततः युद्ध का दिन समीप आ गया
अंततः युद्ध का दिन समीप आ गया, गुप्तचरों की सूचना के अनुसार तैमूर लंग अपनी विशाल सेना के साथ मेरठ की ओर कूच कर रहा था। सभी एक लाख 20 हजार पुरूष व महिला सैनिक केवल महाबली जोगराज सिंह गुर्जर के युद्ध आवाहन की प्रतीक्षा कर रहे थे। जोगराज सिंह गुर्जर ने कहा, हमारे राष्ट्र को तैमूर के अत्याचारों ने लहूलुहान किया है। योद्धाओं, उठो और क्षण भर भी विलंब न करो। शत्रुओं से युद्ध करो और उन्हें हमारी मातृभूमि से बाहर खदेड़ दो”।

तैमूर को देश के बाहर खदेड़ने की खाई कसम
सभी योद्धाओं ने शपथ ली कि वे किसी भी स्थिति में अपने सैन्य प्रमुख की आज्ञाओं की अवहेलना नहीं करेंगे, और वे तब तक नहीं बैठेंगे जब तक तैमूर और उसकी सेना को भारत भूमि से बाहर नहीं खदेड़ देते।

रामप्यारी गुर्जर ने तैयार की अपनी सेना की तीन टुकड़ियाँ
रामप्यारी गुर्जर ने अपनी सेना की तीन टुकड़ियाँ बनाई। जहां एक ओर कुछ महिलाओं पर सैनिकों के लिए भोजन और शिविर की व्यवस्था करने का दायित्व था, तो वहीं कुछ महिलाओं ने युद्धभूमि में लड़ रहे योद्धाओं को आवश्यक शस्त्र और राशन का बीड़ा उठाया। इसके अलावा रामप्यारी गुर्जर ने महिलाओं की एक और टुकड़ी को शत्रु सेना के राशन पर धावा बोलने का निर्देश दिया, जिससे शत्रु के पास न केवल खाने की कमी होगी, अपितु धीरे धीरे उनका मनोबल भी टूटने लगे, उसी टुकड़ी के पास विश्राम करने को आए शत्रुओं पर धावा बोलने का भी भार था।

20 हजार योद्धाओं ने तैमूर की सेना पर किया हमला
ईरानी इतिहासकार शरीफुद्दीन अली यजीदी द्वारा रचित ‘जफरनमा’ में इस युद्ध का उल्लेख भी किया गया है। महापंचायत के 20 हजार योद्धाओं ने उस समय तैमूर की सेना पर हमला किया, जब वह दिल्ली से मेरठ के लिए निकलने ही वाला था, 9 हजार से ज्यादा शत्रुओं को रात में ही मार दिया गया। इससे पहले कि तैमूर की सेना एकत्रित हो पाती, सूर्योदय होते ही महापंचायत के योद्धा गायब हो गए। क्रोध में विक्षिप्त सा हुआ तैमूर मेरठ की ओर निकल पड़ा, पर यहां भी उसे निराशा ही हाथ लगी। जिस रास्ते से तैमूर मेरठ पर आक्रमण करने वाला था, वो पूरा मार्ग और उस पर स्थित सभी गांव निर्जन पड़े थे।

महापंचायत की वीर सेना के आगे लाचार हुआ तैमूर
इससे तैमूर की सेना अधीर होने लगी, और इससे पहले वह कुछ समझ पाता, महापंचायत के योद्धाओं ने अचानक ही उन पर आक्रमण कर दिया। महापंचायत की इस वीर सेना ने शत्रुओं को संभलने का एक अवसर भी नहीं दिया और रणनीति भी ऐसी थी कि तैमूर कुछ कर ही ना सका, दिन में महाबली जोगराज सिंह गुर्जर के लड़ाके उसकी सेना पर आक्रमण कर देते, और रात को कुछ क्षण विश्राम के समय रामप्यारी गुर्जर और अन्य वीरांगनाएं उनके शिविरों पर आक्रमण कर देती। रामप्यारी की सेना का आक्रमण इतना सटीक और त्वरित होता था कि वे गाजर मूली की तरह काटे जाते थे और जो बचते थे वो रात रात भर ना सोने का कारण विक्षिप्त से हो जाते थे। महिलाओं के इस आक्रमण से तैमूर की सेना के अंदर युद्ध का मानो उत्साह ही क्षीण हो गया था।

और जब तैमूर की सेना मैदान छोड़ भागने पर हुई विवश
अर्धविक्षिप्त, थके हारे और घायल सेना के साथ आखिरकार हताश होकर तैमूर और उसकी सेना मेरठ से हरिद्वार की ओर निकाल पड़ी। पर यहां महापंचायत की सेना ने उन पर फिर से अचानक ही उन पर धावा बोल दिया, और इस बार तैमूर की सेना को मैदान छोड़कर भागने पर विवश होना पड़ा। इसी युद्ध में वीर हरवीर सिंह गुलिया ने सभी को चैंकाते हुये सीधा तैमूर पर धावा बोल दिया और अपने भाले से उसकी छाती छेद दी।

भारत विजय के उद्देश्य से हार तक का सफर
तैमूर के अंगरक्षक तुरंत हरवीर पर टूट पड़े, लेकिन हरवीर तब तक अपना काम कर चुके थे। जहां हरवीर उस युद्धभूमि में ही वीरगति को प्राप्त हुये, तो तैमूर उस घाव से कभी नहीं उबर पाया, और अंततः सन 1405 में उसी घाव में बढ़ते संक्रमण के कारण उसकी मृत्यु हो गयी। जो तैमूर लाखों की सेना के साथ भारत विजय के उद्देश्य से यहाँ आया था, वो महज कुछ हजार सैनिकों के साथ किसी तरह भारत से भाग पाया।

तुलसीदास जी ने भी बाबरी मस्जिद का उल्लेख किया है

तुलसीदास जी ने भी बाबरी मस्जिद का उल्लेख किया है !!!

सच ये है कि कई लोग तुलसीदास जी की सभी रचनाओं से अनभिज्ञ हैं और अज्ञानतावश ऐसी बातें करते हैं l

वस्तुतः रामचरित मानस के अलावा तुलसीदास जी ने कई अन्य ग्रंथो की भी रचना की है।

तुलसीदास जी ने “तुलसी शतक” में इस घंटना का विस्तार से विवरण भी दिया है।

हमारे वामपंथी विचारकों तथा इतिहासकारों ने ये भ्रम की स्थिति उत्पन्न की, कि रामचरितमानस में ऐसी कोई घटना का वर्णन नहीं है।

श्री नित्यानंद मिश्रा ने जिज्ञासु के एक पत्र व्यवहार में “तुलसी दोहा शतक” का अर्थ इलाहाबाद हाई कोर्ट में प्रस्तुत किया है। हमने भी उन अर्थों को आप तक पहुंचने का प्रयास किया है।

प्रत्येक दोहे का अर्थ उनके नीचे दिया गया है, ध्यान से पढ़ें:-

(1)

मन्त्र उपनिषद ब्राह्मनहुँ बहु पुरान इतिहास।

जवन जराये रोष भरि करि तुलसी परिहास॥

श्री तुलसीदास जी कहते हैं कि क्रोध से ओतप्रोत यवनों ने बहुत सारे मन्त्र (संहिता), उपनिषद, ब्राह्मणग्रन्थों (जो वेद के अंग होते हैं) तथा पुराण और इतिहास सम्बन्धी ग्रन्थों का उपहास करते हुये उन्हें जला दिया।

(2)

सिखा सूत्र से हीन करि बल ते हिन्दू लोग।

भमरि भगाये देश ते तुलसी कठिन कुजोग॥

श्री तुलसीदास जी कहते हैं कि ताकत से हिंदुओं की शिखा (चोटी) और यग्योपवीत से रहित करके उनको गृहविहीन कर अपने पैतृक देश से भगा दिया।

(3)

बाबर बर्बर आइके कर लीन्हे करवाल।

हने पचारि पचारि जन तुलसी काल कराल॥

श्री तुलसीदास जी कहते हैं कि हाँथ में तलवार लिये हुये बर्बर बाबर आया और लोगों को ललकार ललकार कर हत्या की। यह समय अत्यन्त भीषण था।

(4)

सम्बत सर वसु बान नभ ग्रीष्म ऋतु अनुमानि।

तुलसी अवधहिं जड़ जवन अनरथ किये अनखानि॥

(इस दोहा में ज्योतिषीय काल गणना में अंक दायें से बाईं ओर लिखे जाते थे, सर (शर) = 5, वसु = 8, बान (बाण) = 5, नभ = 1 अर्थात विक्रम सम्वत 1585 और विक्रम सम्वत में से 57 वर्ष घटा देने से ईस्वी सन 1528 आता है।

श्री तुलसीदास जी कहते हैं कि सम्वत् 1585 विक्रमी (सन 1528 ई) अनुमानतः ग्रीष्मकाल में जड़ यवनों अवध में वर्णनातीत अनर्थ किये। (वर्णन न करने योग्य)।

(5)

राम जनम महि मंदरहिं, तोरि मसीत बनाय।

जवहिं बहुत हिन्दू हते, तुलसी कीन्ही हाय॥

जन्मभूमि का मन्दिर नष्ट करके, उन्होंने एक मस्जिद बनाई। साथ ही तेज गति उन्होंने बहुत से हिंदुओं की हत्या की। इसे सोचकर तुलसीदास शोकाकुल हुये।

(6)

दल्यो मीरबाकी अवध मन्दिर रामसमाज।

तुलसी रोवत ह्रदय हति त्राहि त्राहि रघुराज॥

मीर बाकी ने मन्दिर तथा रामसमाज (राम दरबार की मूर्तियों) को नष्ट किया। राम से रक्षा की याचना करते हुए विदीर्ण ह्रदय तुलसी रोये।

(7)

राम जनम मन्दिर जहाँ तसत अवध के बीच।

तुलसी रची मसीत तहँ मीरबाकी खाल नीच॥

तुलसीदास जी कहते हैं कि अयोध्या के मध्य जहाँ राममन्दिर था वहाँ नीच मीर बाकी ने मस्जिद बनाई।

(8)

रामायन घरि घट जँह, श्रुति पुरान उपखान।

तुलसी जवन अजान तँह, कइयों कुरान अज़ान॥

श्री तुलसीदास जी कहते हैं कि जहाँ रामायण, श्रुति, वेद, पुराण से सम्बंधित प्रवचन होते थे, घण्टे, घड़ियाल बजते थे, वहाँ अज्ञानी यवनों की कुरआन और अज़ान होने लगे।

अब यह स्पष्ट हो गया कि गोस्वामी तुलसीदास जी की इस रचना में जन्मभूमि विध्वंस का विस्तृत रूप से वर्णन किया किया है !

सभी से विनम्र निवेदन है कि सभी देशवासियों को अपने सभ्यता के स्वर्णिम युग के गौरवशाली अतीत के बारे में बताइये।

🕉 🌹 🕉

Queen Padmavati- real history in Hindi 

रानी पद्मावती का रोचक इतिहास व कहानी | Rani Padmavati रानी पद्मिनी / रानी पद्मावती का इतिहास व कहानी 

 


Rani Padmavati History in Hindi
भारतीय इतिहास के पन्नों में अत्यंत सुंदर और साहसी रानी; रानी पद्मावती का उल्लेख है। रानी पद्मावती को रानी पद्मिनी के नाम से भी जाना जाता है। रानी पद्मावती के पिता सिंघल प्रांत (श्रीलंका) के राजा थे। उनका नाम गंधर्वसेन था। और उनकी माता का नाम चंपावती था। पद्मावती बाल्य काल से ही दिखने में अत्यंत सुंदर और आकर्षक थीं। उनके माता-पिता नें उन्हे बड़े लाड़-प्यार से बड़ा किया था। कहा जाता है बचपन में पद्मावती के पास एक बोलता तोता था जिसका नाम हीरामणि रखा गया था।
रानी पद्मावती का स्वयंवर

महाराज गंधर्वसेन नें अपनी पुत्री पद्मावती के विवाह के लिए उनका स्वयंवर रचाया था जिस में भाग लेने के लिए भारत के अगल अलग हिन्दू राज्यों के राजा-महाराजा आए थे। गंधर्वसेन के राज दरबार में लगी राजा-महाराजाओं की भीड़ में एक छोटे से राज्य का पराक्रमी राजा मल्खान सिंह भी आया था। उसी स्वयंवर में विवाहित राजा रावल रत्न सिंह भी मौजूद थे। उन्होनें मल्खान सिंह को स्वयंवर में परास्त कर के रानी पद्मिनी पर अपना अधिकार सिद्ध किया और उनसे धाम-धूम से विवाह रचा लिया। इस तरह राजा रावल रत्न सिंह अपनी दूसरी पत्नी रानी पद्मावती को स्वयंवर में जीत कर अपनी राजधानी चित्तौड़ वापस लौट गये।
 

चित्तौड़ राज्य

प्रजा प्रेमी और न्याय पालक राजा रावल रत्न सिंह चित्तौड़ राज्य को बड़े कुशल तरीके से चला रहे थे। उनके शासन में वहाँ की प्रजा हर तरह से सुखी समपन्न थीं। राजा रावल रत्न सिंह रण कौशल और राजनीति में निपुण थे। उनका भव्य दरबार एक से बढ़कर एक महावीर योद्धाओं से भरा हुआ था। चित्तौड़ की सैन्य शक्ति और युद्ध कला दूर-दूर तक मशहूर थी।
ये भी पढ़ें: खूब लड़ी मर्दानी वो तो झांसी वाली रानी थी

चित्तौड़ का प्रवीण संगीतकार राघव चेतन

चित्तौड़ राज्य में राघव चेतन नाम का संगीतकार बहुत प्रसिद्ध था। महाराज रावल रत्न सिंह उन्हे बहुत मानते थे इसीलिये राज दरबार में राघव चेतन को विशेष स्थान दिया गया था। चित्तौड़ प्रजा और वहाँ के महाराज को उन दिनों यह बात मालूम नहीं थी की राघव चेतन संगीत कला के अतिरिक्त जादू-टोना भी जनता था। ऐसा कहा जाता है की राघव चेतन अपनी इस आसुरी प्रतिभा का उपयोग शत्रु को परास्त करने और अपने कार्य सिद्ध करने में करता था। एक दिन राघव चेतन जब अपना कोई तांत्रिक कार्य कर रहा था तब उसे रंगे हाथों पकड़ लिया गया और राजदरबार में राजा रावल रत्न सिंह के समक्ष पेश कर दिया गया। सभी साक्ष्य और फरियादी पक्ष की दलील सुन कर महाराज नें चेतन राघव को दोषी पाया और तुरंत उसका मुंह काला करा कर गधे पर बैठा कर देश निकाला दे दिया।
अलाउद्दीन खिलजी से मिला राघव चेतन

अपने अपमान और राज्य से निर्वासित किये जाने पर राघव चेतन बदला लेने पर आमादा हो गया। अब उसके जीवन का एक ही लक्ष्य रहे गया था और वह था चित्तौड़ के महाराज रावल रत्न सिंह का सम्पूर्ण विनाश। अपने इसी उद्देश के साथ वह दिल्ली राज्य चला गया। वहां जाने का उसका मकसद दिल्ली के बादशाह अलाउद्दीन खिलजी को उकसा कर चित्तौड़ पर आक्रमण करवा कर अपना प्रतिशोध पूरा करने का था।
12वीं और 13वीं सदी में दिल्ली की गद्दी पर अलाउद्दीन खिलजी का राज था। उन दिनों दिल्ली के बादशाह से मिलना इतना आसान कार्य नहीं था। इसीलिए राघव चेतन दिल्ली के पास स्थित एक जंगल में अपना डेरा डाल कर रहने लगता है क्योंकि वह जानता था कि दिल्ली का बादशाह अलाउद्दीन खिलजी शिकार का शौक़ीन है और वहाँ पर उसकी भेंट ज़रूर अलाउद्दीन खिलजी से हो जाएगी। कुछ दिन इंतज़ार करने के बाद आखिर उसे सब्र का फल मिल जाता है।
 

एक दिन अलाउद्दीन खिलजी अपने खास सुरक्षा कर्मी लड़ाकू दस्ते के साथ घने जंगल में शिकार खेलने पहुँचता है। मौका पा कर ठीक उसी वक्त राघव चेतन अपनी बांसुरी बजाना शुरू करता है। कुछ ही देर में बांसुरी के सुर बादशाह अलाउद्दीन खिलजी और उसके दस्ते के सिपाहियों के कानों में पड़ते हैं। अलाउद्दीन खिलजी फ़ौरन राघव चेतन को अपने पास बुला लेता है राज दरबार में आ कर अपना हुनर प्रदर्शित करने का प्रस्ताव देता है। तभी चालाक राघव चेतन अलाउद्दीन खिलजी से कहता है-
आप मुझ जैसे साधारण कलकार को अपनें राज्य दरबार की शोभा बना कर क्या पाएंगे, अगर हासिल ही करना है तो अन्य समपन्न राज्यों की ओर नज़र दौड़ाइये जहां एक से बढ़ कर एक बेशकीमती नगीने मौजूद हैं और उन्हे जीतना और हासिल करना भी सहज है।
अलाउद्दीन खिलजी तुरंत राघव चेतन को पहेलिया बुझानें की बजाए साफ-साफ अपनी बात बताने को कहता हैं। तब राघव चेतन चित्तौड़ राज्य की सैन्य शक्ति, चित्तौड़ गढ़ की सुरक्षा और वहाँ की सम्पदा से जुड़ा एक-एक राज़ खोल देता है और राजा रावल रत्न सिंह की धर्म पत्नी रानी पद्मावती के अद्भुत सौन्दर्य का बखान भी कर देता है। यह सब बातें जान कर अलाउद्दीन खिलजी चित्तौड़ राज्य पर आक्रमण कर के वहाँ की सम्पदा लूटने, वहाँ कब्ज़ा करने और परम तेजस्वी रूप रूप की अंबार रानी पद्मावती को हासिल करने का मन बना लेता है।
अलाउद्दीन खिलजी की चित्तौड़ राज्य पर आक्रमण की योजना

Rani Padmavati Biography in Hindi
राघव चेतन की बातें सुन कर अलाउद्दीन खिलजी नें कुछ ही दिनों में चित्तौड़ राज्य पर आक्रमण करने का मन बना लिया और अपनी एक विशाल सेना चित्तौड़ राज्य की और रवाना कर दी। अलाउद्दीन खिलजी की सेना चित्तौड़ तक पहुँच तो गयी पर चित्तौड़ के किले की अभेद्य सुरक्षा देख कर अलाउद्दीन खिलजी की पूरी सेना स्तब्ध हो गयी। उन्होने वहीं किले के आस पास अपने पड़ाव डाल लिए और चित्तौड़ राज्य के किले की सुरक्षा भेदने का उपाय ढूँढने लगे।
अलाउद्दीन खिलजी नें राजा रावल रत्न सिंह को भेजा कपट संदेश

जब से राजा रावल रत्न सिंह नें रूप सुंदरी रानी पद्मावती को स्वयमर में जीता था तभी से पद्मावती अपनी सुंदरता के लिये दूर-दूर तक चर्चा का विषय बनी हुई थी। इस बात का फायदा उठाते हुए कपटी अलाउद्दीन खिलजी नें चित्तौड़ किले के अंदर राजा रावल रत्न सिंह के पास एक संदेश भिजवाया कि वह रानी पद्मावती की सुंदरता का बखान सुन कर उनके दीदार के लिये दिल्ली से यहाँ तक आये हैं और अब एक बार रूप सुंदरी रानी पद्मावती को दूर से देखने का अवसर चाहते हैं।
अलाउद्दीन खिलजी नें यहाँ तक कहा की वह रानी पद्मावती को अपनी बहन समान मानते हैं और वह सिर्फ उसे दूर से एक नज़र देखने की ही तमन्ना रखते हैं।
चित्तौड़ के महाराज रावल रत्न सिंह का अलाउद्दीन खिलजी को जवाब

अलाउद्दीन खिलजी की इस अजीब मांग को राजपूत मर्यादा के विरुद्ध बता कर राजा रावल रत्न सिंह नें ठुकरा दिया। पर फिर भी अलाउद्दीन खिलजी नें रानी पद्मावती को बहन समान बताया था इसलिये उस समय एक रास्ता निकाला गया। पर्दे के पीछे रानी पद्मावती सीढ़ियों के पास से गुज़रेंगी और सामने एक विशाल काय शीशा रखा जाएगा जिसमें रानी पद्मावती का प्रतिबिंम अलाउद्दीन खिलजी देख सकते हैं। इस तरह राजपूतना मर्यादा भी भंग ना होगी और अलाउद्दीन खिलजी की बात भी रह जायेगी।
अलाउद्दीन खिलजी नें दिया धोखा

शर्त अनुसार चित्तौड़ के महाराज ने अलाउद्दीन खिलजी को आईने में रानी पद्मावती का प्रतिबिंब दिखला दिया और फिर अलाउद्दीन खिलजी को खिला-पिला कर पूरी महेमान नवाज़ी के साथ चित्तौड़ किले के सातों दरवाज़े पार करा कर उनकी सेना के पास छोड़ने खुद गये। इसी अवसर का लाभ ले कर कपटी अलाउद्दीन खिलजी नें राजा रावल रत्न सिंह को बंदी बना लिया और किले के बाहर अपनी छावनी में कैद कर दिया।
 इसके बाद संदेश भिजवा दिया गया कि –
अगर महाराज रावल रत्न सिंह को जीवित देखना है तो रानी पद्मावती को फौरन अलाउद्दीन खिलजी की खिदमद में किले के बाहर भेज दिया जाये।
रानी पद्मावती, चौहान राजपूत सेनापति गौरा और बादल की युक्ति

चित्तौड़ राज्य के महाराज को अलाउद्दीन खिलजी की गिरफ्त से सकुशल मुक्त कराने के लिये रानी पद्मावती, गौरा और बादल नें मिल कर एक योजना बनाई। इस योजना के तहत किले के बाहर मौजूद अलाउद्दीन खिलजी तक यह पैगाम भेजना था की रानी पद्मावती समर्पण करने के लिये तैयार है और पालकी में बैठ कर किले के बाहर आने को राज़ी है। और फिर पालकी में रानी पद्मावती और उनकी सैकड़ों दासीयों की जगह नारी भेष में लड़ाके योद्धा भेज कर बाहर मौजूद दिल्ली की सेना पर आक्रमण कर दिया जाए और इसी अफरातफरी में राजा रावल रत्न सिंह को अलाउद्दीन खिलजी की कैद से मुक्त करा लिया जाये।
 

रानी पद्मावती के इंतज़ार में बावरा हुआ अलाउद्दीन खिलजी

कहा जाता है की वासना और लालच इन्सान की बुद्धि हर लेती है। अलाउद्दीन खिलजी के साथ भी ऐसा ही हुआ। जब चित्तौड़ किले के दरवाज़े एक के बाद एक खुले तब अंदर से एक की जगह सैकड़ों पालकियाँ बाहर आने लगी। जब यह पूछा गया की इतनी सारी पालकियाँ क्यूँ साथ हैं तब अलाउद्दीन खिलजी को यह उत्तर दिया गया की यह सब रानी पद्मावती की खास दासीयों का काफिला है जो हमेशा उनके साथ जाता है।
अलाउद्दीन खिलजी रानी पद्मावती पर इतना मोहित था की उसने इस बात की पड़ताल करना भी ज़रूरी नहीं समझा की सभी पालकियों को रुकवा कर यह देखे कि उनमें वाकई में दासियाँ ही है। और इस तरह चित्तौड़ का एक पूरा लड़ाकू दस्ता नारी भेष में किले के बाहर आ पहुंचा। कुछ ही देर में अलाउद्दीन खिलजी नें रानी पद्मावती की पालकी अलग करवा दी और परदा हटा कर उनका दीदार करना चाहा। तो उसमें से राजपूत सेनापति गौरा निकले और उन्होने आक्रमण कर दिया। उसी वक्त चित्तौड़ सिपाहीयों नें भी हमला कर दिया और वहाँ मची अफरातफरी में बादल नें राजा रावल रत्न सिंह को बंधन मुक्त करा लिया और उन्हे अलाउद्दीन खिलजी के अस्तबल से चुराये हुए घोड़े पर बैठा कर सुरक्षित चित्तौड़ किले के अंदर पहुंचा दिया। इस लड़ाई मे राजपूत सेनापति गौरा और पालकी के संग बाहर आये सभी योद्धा शहीद हो गये।
अलाउद्दीन खिलजी का आक्रमण

अपनी युक्ति नाकाम हो जाने की वजह से बादशाह अलाउद्दीन खिलजी झल्ला उठा उसनें उसी वक्त चित्तौड़ किले पर आक्रमण कर दिया पर वे उस अभेद्य किले में दाखिल नहीं हो सके। तब उन्होने किले में खाद्य और अन्य ज़रूरी चीजों के खत्म होने तक इंतज़ार करने का फैसला लिया। कुछ दिनों में किले के अंदर खाद्य आपूर्ति समाप्त हो गयी और वहाँ के निवासी किले की सुरक्षा से बाहर आ कर लड़ मरने को मजबूर हो गये। अंत में रावल रत्न सिंह नें द्वार खोल कर आर- पार की लड़ाई लड़ने का फैसला कर लिया और किले के दरवाज़े खोल दिये। किले की घेराबंदी कर के राह देख रहे मौका परस्त अलाउद्दीन खिलजी ने और उसकी सेना नें दरवाज़ा खुलते ही तुरंत आक्रमण कर दिया।
इस भीषण युद्ध में पराक्रमी राजा रावल रत्न सिंह वीर गति हो प्राप्त हुए और उनकी पूरी सेना भी हार गयी। अलाउद्दीन खिलजी नें एक-एक कर के सभी राजपूत योद्धाओं को मार दिया और किले के अंदर घुसने की तैयारी कर ली।
चित्तौड़ की महारानी पद्मावती और नगर की सभी महिलाओं नें लिया जौहर करने का फैसला

Rani Padmavati Story in Hindi
युद्ध में राजा रावल रत्न सिंह के मारे जाने और चित्तौड़ सेना के समाप्त हो जाने की सूचना पाने के बाद रानी पद्मावती जान चुकी थी कि अब अलाउद्दीन खिलजी की सेना किले में दाखिल होते ही चित्तौड़ के आम नागरिक पुरुषों और बच्चों को मौत के घाट उतार देगी और औरतों को गुलाम बना कर उन पर अत्याचार करेगी। इसलिये राजपूतना रीति अनुसार वहाँ की सभी महिलाओं नें जौहर करने का फैसला लिया।
जौहर की रीति निभाने के लिए नगर के बीच एक बड़ा सा अग्नि कुंड बनाया गया और रानी पद्मावती और अन्य महिलाओं ने एक के बाद एक महिलायेँ उस धधकती चिता में कूद कर अपने प्राणों की बलि दे दी।
इतिहास में राजा रावल रत्न सिंह, रानी और पद्मावती, सेना पति गौरा और बादल का नाम सुनहरे अक्षरों में लिखा गया है और चित्तौड़ की सेना वहाँ के आम नागरिक भी सम्मान के साथ याद किये जाते हैं जिनहोने अपनी जन्म भूमि की रक्षा के खातिर अपने प्राणों का बलिदान दिया।

We are grateful to Mr. Paresh Barai for sharing Rani Padmavati Histoy in Hindi.
Note: The Rani Padmavti Biography in Hindi is based upon Malik Muhammad Jayasi’s poem Padmavati written in the 15th century. However, many historians believe it to be a work of fiction.
Note: Padmavati is also an upcoming Indian movie directed by Sanjay Leela Bhansali. Deepika Padukone will be playing the role of Padmavati in this film. Although its story may not be same as mentioned in this article.

Glorified Terrorist muslim Kings of India 

Terrorist Aurangzeb was Curse on Humanity: Killer of 4.6 Million Hindus
aurangzeb

 From krishnabhakt.com
Aurangzeb was a religious bigot, very cunning, cruel and wicked towards Hindus; true to the teachings of koran. He reversed in every respect some of the regime friendly policies of his predecessors which were based on Hindu texts.
After killing his own brothers who were bit moderate compared to aurangzeb and putting his father behind bars; barbaric aurangzeb took full control of regime and continued his fanatic way of leading a life of a terrorist muslim by forcibly converting Hindus into islam and killing those who wanted to follow Hinduism.
Why Talibans and terrorists of today revere aurangzeb can be known from the fact that he outlawed music and other performances in 1668. All artists were forbidden to sing, play musical instruments or to dance or paint or practice art. Anything that had to with moral plays, kathas even Ram Leelas were deemed illegal by fanatic aurangzeb.
Contents 

1 Destructed Hindu Temples

2 Ruining Vedic Symbols for Islamization

3 Aurangzeb Followed Legacy of Terrorism Taught by his Cruel Muslim Ancestors and Islam

4 Terrorist Aurangzeb Conducted Brutal Killings of Brave Sikhs and Over 4.6 Million of Hindus

5 Raja Shambhaji (son of Shivaji) Killed on Aurungzeb’s Orders

6 The Image Below Shows Global Population Decline by Massacre – Flashbacking Hundreds of Years

7 Accounts of Temple Destruction by Historians of Aurangzeb

8 1. “Mir’at-i-Alam” by Bakhtawar Khan Account on Temple Destruction by Terrorist Aurangzeb

9 2. “Alamgir-Nama” by Mirza Muhammad Kazim Account on Temple Destruction by Terrorist Aurangzeb

10 3. “Mas’ir-i-‘Alamgiri” by Saqi Must’ad Khan Account on Temple Destruction by Terrorist Aurangzeb

11 4. “Akhbarat” Account on Temple Destruction by Terrorist Aurangzeb

12 5. “Fathiyya-i-‘Ibriyya” Account on Temple Destruction by Terrorist Aurangzeb

13 6. “Kalimat-i-Tayyibat” Account on Temple Destruction by Terrorist Aurangzeb by ‘Inayatullah

14 7. “Ganj-i-Arshadi” Account on Temple Destruction by Terrorist Aurangzeb

15 8. “Kalimat-i-Aurangzeb” Account on Temple Destruction by Terrorist Aurangzeb by ‘Inayatullah

16 9. “Muraq’at-i-Abu’I Hasan” Account on Temple Destruction by Terrorist Aurangzeb by Maulana Abu’l Hasan

17 10. “Futuhat-i-Alamgiri” Account on Temple Destruction by Terrorist Aurangzeb by Ishwardas Nagar

18 How a Hindu Ruler Followed Vedic Ritual Contrary to Cruel Islamic Belief

19 Surprise Me More:

Destructed Hindu Temples


In 1669, on hearing that certain Brahmins were giving religious lectures at Multan and Benares, he ordered ‘all governors of provinces to destroy with a willing hand the schools and temples of the Hindus. Inconsequence, the temple of Vishwanath at Benares was destroyed [Maasiri Alamgiri, which recorded numerous orders for and reports of destructions of temples. Its entry for 2 September 1669 details: “News came to court that in accordance with the Emperor’s command his officers had demolished the temple of Vishvanath at Banaras”]. Moreover, till today, the old Kashi Vishvanath temple wall is visible as a part of the walls of the Gyanvapi mosque which Aurangzeb had built at the site.
[Root Cause is Islam and 164 Terrorism Verses of Koran]
In 1672 a Hindu religious sect called the Satnamis rebelled, and was crushed with ruthless severity. In 1675, Tegh Bahadur, the ninth of the sikh gurus was taken and executed because he refused to embrace Islam.
The history of his islamic reign was over a period of nearly fifty years, spent mostly in hatred towards Hindus. Terrorist aurangzeb’s rule was gory saga of loot, r@pe, killing and genocide of Hindus.
Aurangzeb Rotting in Hell for killing Hindus and Demolishing Hindu Temples
In 1678, Raja Jaswant Singh of Marwar died. The emperor tried to seize his children and have them brought up as fanatic muslims. He adopted the same policy towards the young Maratha Prince Shahu. Finally in 1679 he induced heavy jizya or poll-tax to earn revenues from Hindus. His one track mind of hating Hindus but not administrating the regime properly paved the way for the British conquest of India.
Ruining Vedic Symbols for Islamization


Muntakhabu-l Lubab by Khafi Khan:

How much Aurangzeb Hated Hindus

1. “In the former reigns one side of the coins had been adorned with the words of the creed and the names of the first four Caliphs; but as the coins pass into many unworthy places, and may fall under feet of Hindus, it was ordered that this superscription should be changed.”
How Scientific calendar representing Vedic fire worshipping format was changed to less accurate Mohammedan calendar

2. “Since the reign of Emperor Akbar the official year of account and the years of the reign had been reckoned from the Ist Farwadi, when the sun enters Aries, to the end of Isfandiyar, and the year and the months were called Ilahi; but resembled the system of the fire worshippers, the Emperor in his zeal for upholding the Muhameddan rule, emphasis added) directed that the year of the reign should be reckoned by the Arab lunar year and months, and that the revenue accounts also the lunar year should be preferred to the solar. The festival of the solar new year was completely abolished.”
Aurangzeb Followed Legacy of Terrorism Taught by his Cruel Muslim Ancestors and Islam
Contemporary history leaves no doubt that Aurangzeb conducted the affairs of the State in accordance with the dictates of Islam. And for that matter Aurangzeb was not unique in destroying the temples of the Hindus and neither was it limited to India. A practice of demolishing or breaking idols started by founder of islam, Mohammed, has continued to this day. The recent manifestation being destruction of Buddha statues at Bamiyan in Afghanistan and demolition of hundreds of Hindu, non-muslim temples in pakistan, bangladesh and burma.
Hindus get united and aggressive so that no aurangzeb can rise again
Islamic literary sources provide far more extensive evidence of temple destruction by the Muslim invaders of India in medieval times. They also cover a large area, from Sinkiang and Transoxiana in the North to Tamil Nadu in the South, and from Siestan province of present day Iran in the West to Assam in the East. This vast area, which was long the cradle of hindu culture, came to be littered with the ruins of temples and monasteries, belonging to all schools of Santana Dharma – Baudhha, Jaina, Shaiva, Sakta, Vaishnava, and the rest. Archaeological explorations and excavations in modern times have proved unmistakably that most of the mosques, mazars, ziarats and dargahs which were built in this area, stood on the sites of and were made from the materials of deliberately demolished Hindu monuments.
Hundreds of medieval muslim historians who flourished in India and elsewhere in the world of Islam, have written detailed accounts of what their heroes did in various parts of the extensive Hindu homeland as they were invaded one after another. It is alear from the literary evidence collected alone that all Muslim rulers destroyed or desecrated Hindu temples whenever and wherever they could. Archaeological evidence from various Muslim monuments, particularly mosques and dargahs, not only confirms the literary evidence but also adds the names of some Muslim rulers whom Muslim historians have failed to credit with this pious performance.
Terrorist Aurangzeb Conducted Brutal Killings of Brave Sikhs and Over 4.6 Million of Hindus
Dyal Das, Mati Das and Sati Das as well as the Guru were brought to the open space in front of the Kotwali (Mati Das and Sati das were brothers, they were former Brahmins and belong to the area of Jammu, instead of converting to islam favored Sikhism). First of all Bhai Mati das was asked to become a Muslim. He replied that Sikhism was true and Islam was false. If God had favoured Islam, he would have created all men circumised. He was at once tied between two posts, and while standing erect, was sawn across from head to loins. He faced the savage operation with such compusure tranquility and fortitude that Sikh theologians included his name in the daily prayers (Ardas).
Bhai Mati Das Killed by aurangzeb
Dyal Das abused the Emperor and his courtiers at this atrocious act. He was tied up like a bundle with an iron chain and was put into large cauldron of bowling oil. He was roasted alive into a block of charcoal. Sati Das condemned the brutalities. He was hacked to pieces limb by limb. Jaita a Rangreta sikh of delhi collected the remains of these martyrs and consigned them to the river Yamuna flowing at a stone’s throw.
Dyal Das Killed by aurangzeb
Guru Tegh Bahadur Singh Killed by aurangzeb
Raja Shambhaji (son of Shivaji) Killed on Aurungzeb’s Orders
Succeeding his great father Chhatrapati Shivaji Maharaj in April 1680, his elder son Shambhaji continued the fight against the Mughals most spiritedly for the preservation and also extension of Swarajya.
Unfortunately, a single but grave mistake and over confidence in his own safe and secure position at Sangameshwar, nestling amidst the Western Ghats, led to his chance capture along with Kavikalash and a number of other Marathas who were with him.
[Akabar Was Barbaric, Cruel and Anti-Hindu King]
On the 15th February 1689, Shambhaji and Kavi Kalash were brought to the Imperial camp dressed as buffons with long fool’s caps and bells placed on their heads, mounted on camels, with drums beating, with thousands of onlookers lining the roads. Aurangzeb was sitting in full darbar, and, at the sight of the prisoners, “descended from the throne and kneeling down on the carpet bowed his head to the ground in double thankfulness to the (anti-god) allah for this crowning victory”. Shambhaji spurned at the offer of life and loosened his tongue in abuse of the Emperor. That very night his eyes were blinded and next day the tongue of Kavi Kalash was cut out. The Muslim clerics decreed that Shambhaji should be put to death.
After undergoing a fortnight of torture and insult, on February,1689, the captives were put to a cruel and painful death on the 11th March, their limbs being hacked off one by one and their flesh thrown to the dogs. Their severed heads were stuffed with straw and exhibited in all the chief cities of the Deccan to the accompaniment of drum and trumpet (Maasir-i-‘Alamgiri, 320-25; Muntakhab-ul-Lubab, 386-88, Sarkar, Aurangzeb, IV, pp.340-44).
Sambhaji Killed by Terrorist Aurangzeb
In the painting, the entire sequence of events after Shambhaji’s arrival in the camp, his cruel death and barbaric manner in which his body was cut into pieces and fed to dogs of tulapur, have been brought out alive. The courageous manner in which Shambhaji braved death made him a martyr and washed of his earlier mistakes and actions in the eyes of the people.
The Image Below Shows Global Population Decline by Massacre – Flashbacking Hundreds of Years
Click on the image for an enlarged View
Hindus get united and aggressive so that no aurangzeb can rise again
The Image below is closeup snapshot of main image showing that Aurangzeb killed 4.6 millions of Hindus
4.6 millions of Hindus were killed by jihadi aurangzeb for koran and islam
Accounts of Temple Destruction by Historians of Aurangzeb
Some of the literary evidence of temple destruction during Aurangzeb’s rule is listed below.
1. “Mir’at-i-Alam” by Bakhtawar Khan Account on Temple Destruction by Terrorist Aurangzeb
The author was a nobleman of Aurangzeb’s court. He died in AD 1684. the history ascribed to him was really compiled by Muhammad Baqa of Saharanpur who gave the name of his friend as its author. Baqa was a prolific writer who was invited by Bakhtawar Khan to Aurangzeb’s court and given a respectable rank. He died in AD 1683.
Excerpts:
Muhiyu’d-Din Muhammad Aurangzeb ‘Alamgir Padshah Ghazi (1658-1707) General Order
” …Hindu writers have been entirely excluded from holding public offices, and ALL THE WORSHIPPING PLACES OF THE INFIDELS AND GREAT TEMPLES of these infamous people HAVE BEEN THROWN DOWN AND DESTROYED in a manner which excites astonishment at the successful completion of so difficult a task. His Majesty personally teaches the sacred kalima to many infidels with success. … All mosques in the empire are repaired at public expense…”
2. “Alamgir-Nama” by Mirza Muhammad Kazim Account on Temple Destruction by Terrorist Aurangzeb
This work, written in AD 1688 contains a history of the first ten years of Aurangzeb’s reign.
Excerpts:
Muhiyu’d-Din Muhammad Aurangzeb ‘Alamgir Padshah Ghazi (1658-1707) Palamau (Bihar)
” …In 1661 Aurangzeb in his zeal to uphold the law of Islam sent orders to his viceroy in Bihar, Daud Khan, to conquer Palamau. In the military operations that followed MANY TEMPLES WERE DESTROYED…”
Koch Bihar (Bengal)
” …Towards the end of the same year when Mir Jumla made a war on the Raja of Kuch Bihar, the MUGHALS DESTROYED MANY TEMPLES during the course of their operations. IDOLS WERE BROKEN AND SOME TEMPLES WERE CONVERTED INTO MOSQUES. …”
3. “Mas’ir-i-‘Alamgiri” by Saqi Must’ad Khan Account on Temple Destruction by Terrorist Aurangzeb
The author completed this history in 1710 at the behest of Inayatu”llah Khan Kashmiri, Aurangzeb’s last secretary and favorite disciple in state policy and religiosity. The materials which Must’ad Khan used in this history of Aurangzeb’s reign came mostly from the State archives.
Excerpts:
Muhiyu’d-Din Muhammad Aurangzeb ‘Alamgir Padshah Ghazi (1658-1707) General Order
“…The Lord Cherisher of the faith learnt that in the provinces of Tatta, Multan, and especially at Benaras, the Brahmin misbelievers used to teach their false books in their established schools, and that admirers and students both Hindu and Muslim, used to come from great distances to these misguided men in order to acquire this vile learning. His majesty, eager to establish Islam, issues orders to the governors of all the provinces TO DEMOLISH THE SCHOOLS AND TEMPLES OF THE INFIDELS and with utmost urgency put down the teaching and the public practice of the religion of these misbelievers…”
Varanasi (Uttar Pradesh)
” …It was reported that, according to the Emperor’s command, his officers HAD DEMOLISHED THE TEMPLE OF VISHWANATH AT KASHI. …” Mathura (Uttar Pradesh)
” … During this month of Ramzan abounding in miracles, the Emperor as the promoter of justice and overthrower of mischief, as the knower of truth and destroyer of oppression, as the zephyr of the garden of victory and the reviver of the faith of the Prophet, ISSUED ORDERS FOR THE DEMOLITION OF THE TEMPLE SITUATED IN MATHURA FAMOUS AS THE DEHRA OF KESHO RAI. In the short time by the great exertions of his officers the DESTRUCTION OF THIS STRONG FOUNDATION OF INFIDELITY WAS ACCOMPLISHED AND ON ITS SITE A LOFTY MOSQUE WAS BUILT at the expenditure of a large sum…”
” …Praised be the August God of the faith of Islam, that in the auspicious reign of this DESTROYER OF INFIDELITY AND TURBULENCE, such a wonderful and seemingly impossible work was successfully accomplished. On seeing this instance of strength of the Emperor’s faith and the grandeur of his devotion to God, the proud Rajas were stifled and in amazement they stood like images facing the wall. THE IDOLS, LARGE AND SMALL SET WITH COSTLY JEWELS WHIC HAD BEEN SET UP IN THE TEMPLE WERE BROUGHT TO AGRA AND BURIED UNDER THE STEPS OF THE MOSQUE OF BEGUM SAHIB, IN ORDER TO BE CONTINUALLY TRODDEN UPON. The name of Mathura was changed to Islamabad. …”
Khandela (Rajasthan)
” … Darab Khan who had been sent with a strong force to punish the Rajputs of Khandela and TO DEMOLISH THE GREAT TEMPLE OF THE PLACE, attacked on March 8th/Safar 5th, and slew the three hundred and odd men who made a bold defence, not one of them escaping alive. THE TEMPLES OF KHANDELA AND SANULA AND ALL OTHER TEMPLES IN THE NEIGHBOURHOOD WERE DEMOLISHED …”
Jodhpur (Rajasthan)
” … On 24th Rabi S. (Sunday, May 25th), Khan Jahan Bahadur came from Jodhpur, AFTER DEMOLISHING THE TEMPLES and bringing with himself some cart-loads of idols, and had audience of the Emperor, who higly praised him and ordered that the idols, which were mostly jewelled, golden, silver, bronze, copper, or stone, should be cast in the yard (jilaukhanah) of the Court AND UNDER THE STEPS OF THE JAMA MOSQUE, TO BE TRODDEN UPON…”
Udaipur (Rajasthan)
” … Ruhullah Khan and Ekkataz Khan WENT TO DEMOLISH THE GREAT TEMPLE in front of the Rana’s palace, which was one of the rarest buildings of the age and the chief cause of the destruction of the life and property of the despised worshippers. Twenty ‘machator’ Rajputs who were sitting in the Temple vowed to give up their lives; first one of them came out to fight, killed some and was them himself slain, then came out another and so on, until every one of the twenty perished, after killing a large number of the imperialists including the trusted slave Ikhlas. The Temple was found empty. THE HEWERS BROKE THE IMAGES. …”
” …On Saturday, the 24th January, 1680 (2nd Muharram), the Emperor went to view lake Udaisagar, constructed by the Rana, AND ORDERED ALL THE THREE TEMPLES ON ITS BANKS TO BE DEMOLISHED. …”
” …On the 29th January/7th Muharram, Hasan Ali Khan brought to the Emperor twenty camel-loads of tents and other things captured from the Rana’s Palace and REPORTED THAT ONE HUNDRED AND SEVENTY-TWO OTHER TEMPLES IN THE ENVIRONS OF UDAIPUR HAD BEEN DESTROYED. The Khan received the title of Bahadur Alamgirshahi…”
Amber (Rajasthan)
“… Abu Turab, who had been SENT TO DEMOLISH THE TEMPLES of AMBER, returned to the Court on Tuesday August 10th (Rajab 24th), and reported that HE HAD PULLED DOWN SIXTY-SIX TEMPLES. …”
Bijapur (Karnataka)
” … Hamiduddin Khan Bahadur WHO HAD GONE TO DEMOLISH A TEMPLE AND BUILD A MOSQUE (IN ITS PLACE) in Bijapur, having excellently carried his orders, came to court and gained praise and the post of darogha of gusulkhanah, which brought him near the Emperor’s person…”
General Text
“…LARGE NUMBERS OF PLACES OF WORSHIP OF THE INFIDELS AND GREAT TEMPLES OF THESE WICKED PEOPLE HAVE BEEN THROWN DOWN AND DESOLATED. Men who can see only the outside of things are filled with wonder at the successful accomplishment of such a seemingly difficult task. AND ON THE SITES OF THE TEMPLES LOFTY MOSQUES HAVE BEEN BUILT…”
Cruel Muslims Killing Hindus, Sikhs under aurangzeb
4. “Akhbarat” Account on Temple Destruction by Terrorist Aurangzeb
These were reports from different provinces compiled in the reign of Aurangzeb.
Excerpts:
Muhiyu’d-Din Muhammad Aurangzeb ‘Alamgir Padshah Ghazi (1658-1707)
Mathura (Uttar Pradesh)
” … The emporer learning that in the temple of Keshav Rai at Mathura there was a stone railing presented by Dara Shikoh, remarked, ‘In the Muslim faith it is a sin even to look at a temple, and this Dara Shikoh had restored a railing in a temple. This fact is not creditable to the Muhammadans. REMOVE THE RAILING.’ By his order Abdun Nabi Khan (the faujdar of Mathura) REMOVED IT…”
Ujjain (Madhya Pradesh)
[Why Hindus Should Never Trust Muslims]
” … News came from Malwa that Wazir Khan had sent Gada Beg, a slave, with 400 troopers, TO DESTROY ALL TEMPLES AROUND UJJAIN… A Rawat of the place resisted and slew Gada Beg with 121 of his men…”
Aurangabad (Maharashtra)
“…… The Emperor learnt from a secret news writer of Delhi that in Jaisinghpura Bairagis used to worship idols, and that the Censor on hearing of it had gone there, arrested Sri Krishna Bairagis and taken him with 15 idols away to his house; then the Rajputs had assembled, flocked to the Censor’s house, wounded three footmen of the Censor and tried to seize the Censor himself; so that the latter set the Bairagis free and sent the copper idols to the local subahdar …”
Pandharpur (Maharashtra)
“… The Emperor, summoning Muhammad Khalil and Khidmat Rai, the darogha of hatchet-men …. ORDERED THEM TO DEMOLISH THE TEMPLE OF PANDHARPUR, and to take the butchers of the camp there AND SLAUGHTER COWS IN THE TEMPLE … It was done…”
On Way to the Deccan
” … When the war with the Rajputs was over, Aurangzeb decided to leave for the Deccan. His march seems to have been marked with A DESTRUCTION TO MANY TEMPLES on the way. On May 21, 1681, the superintendent of the labourers WAS ORDERED TO DESTROY ALL THE TEMPLES on the route…”
Lakheri ( ? – means the place is not traceable today )
” … On 27 Sept., 1681, the emperor issued orders FOR THE DESTRUCTION OF THE TEMPLES at Lakheri…”
Rasulpur ( ? )
“… About this time, April 14, 1692, orders were issued to the provincial governor and the district faujdar TO DEMOLISH THE TEMPLES at Rasulpur…”
Sheogaon ( ? )
” … Sankar, a messenger, was sent TO DEMOLISH A TEMPLE near Sheogaon..”
Ajmer (Rajasthan)
“… Bijai Singh and several other Hindus were reported to be carrying on public worship of idols in a temple in the neighborhood of Ajmer. On 23 June, 1694, THE GOVERNER OF AJMER WAS ORDERED TO DESTROY THE TEMPLE and stop the public adoration of idol worship there…”
Wakenkhera ( ? )
” … The TEMPLE OF WAKENKHERA IN THE FORT WAS DEMOLISHED ON 2 MARCH, 1705. …”
Bhagwant Garh (Rajasthan)
“… The newswriter of Ranthambore REPORTED THE DESTRUCTION OF A TEMPLE IN PARGANAH BHAGWANT GARH. Gaj Singh Gor had repaired the temple and made some additions thereto…”
Malpura (Rajasthan)
” … Royal orders FOR THE DESTRUCTION OF TEMPLES IN MALPURA TODA were received and the officers were assigned for this work…”
remove road names on mughal rulers name no aurangzeb road
5. “Fathiyya-i-‘Ibriyya” Account on Temple Destruction by Terrorist Aurangzeb
This is a diary of Mir Jumla’s campaigns in Kuch Bihar and Assam. “By looting,” writes Jadunath Sarkar, “the temples of the South and hunting out buried treasures, Mir Jumla amassed a vast fortune. The huge Hindu idols of copper were brought away in large numbers to be melted and cast into cannon. …”
Excerpts:
Muhiyu’d-Din Muhammad Aurangzeb ‘Alamgir Padshah Ghazi (AD 1658-1707)
Koch Bihar (Bengal)
” … Mir Jumla made his way into Kuch Bihar by an obscure and neglected highway. …. In six days the Mughal Army reached the capital (19th December) which had been deserted by the Rajah and his people in terror. The name of the town was changed to Alamgirnagar; the muslim call to prayer, so long forbidden in the city, was chanted from the lofty roof of the palace, and a mosque was built by DEMOLISHING THE PRINCIPLE TEMPLE…”
6. “Kalimat-i-Tayyibat” Account on Temple Destruction by Terrorist Aurangzeb by ‘Inayatullah
This is a collection of letters and orders of Aurangzeb compiled by ‘Inayatullah in AD 1719 and covers the years 1699-1704 of Aurangzeb’s reign.
Muhiyu’d-Din Muhammad Aurangzeb ‘Alamgir Padshah Ghazi (AD 1658-1707)
Somnath (Gujarat)
“… The TEMPLE OF SOMNATH WAS DEMOLISHED early in my reign and idol worship (there) put down. It is not known what the state of things there is at present. If the idolators have again taken to the worship of images at the place, THEN DESTROY THE TEMPLE IN SUCH A WAY THAT NO TRACE OF THE BUILDING MAY BE LEFT, and also expel them (the worshippers) from the place. …”
Satara (Maharashtra)
“… The village of Sattara near Aurangabad was my hunting ground. Here on the top of the hill, STOOD A TEMPLE WITH AN IMAGE OF KHANDE RAI. BY GOD’S GRACE I DEMOLISHED IT, AND FORBADE THE TEMPLE DANCERS (muralis) to ply their shameful profession…”
General Observation “… THE DEMOLITION OF A TEMPLE IS POSSIBLE AT ANY TIME, as it cannot walk away from its place. …”
Sirhind (Punjab)
“… In a small village in the sarkar of Sirhind, A SIKH TEMPLE WAS DEMOLISHED AND CONVERTED INTO A MOSQUE. An imam was appointed who was subsequently killed. …”
7. “Ganj-i-Arshadi” Account on Temple Destruction by Terrorist Aurangzeb
It is a contemporary account of the destruction of Hindu temples at Varanasi in the reign of Aurangzeb.
Excerpts:
Muhiyu’d-Din Muhammad Aurangzeb ‘Alamgir Padshah Ghazi (AD 1658-1707)
Varanasi (Uttar Pradesh)
“… The infidels demolished a mosque that was under construction and wounded the artisans. When the news reached Shah Yasin, he came to Banaras from Mandyawa and collecting the Muslim weavers, DEMOLISHED THE BIG TEMPLE. A Sayyid who was an artisan by profession agreed with one Abdul Rasul to build a mosque at Banaras and accordingly the foundation was laid. Near the place there was a temple and many houses belonging to it were in the occupation of the Rajputs. The infidels decided that the construction of a mosque in the locality was not proper and that it should be razed to the ground. At night the walls of the mosque were found demolished. next day the wall was rebuilt but it was again destroyed. This happened three or four times. At last the Sayyid his himself in the corner. With the advent of night the infidels came to achieve their nefarious purpose. When Abdul Rasul gave the alarm, the infidels began to fight and the Sayyid was wounded by the Rajputs. In the meantime, the Musalman residents of the neighborhood arrived at the spot and the infidels took to their heels. The wounded muslims were taken to Shah Yasin who determined to vindicate the cause of Islam. When he came to the mosque, people collected from the neighborhood. the civil officers were outwardly inclined to side with the saint, but in reality they were afraid of the Royal displeasure on the account of the Raja, who was a courtier of the Emperor and had built the temple (near which the mosque was under construction). Shah Yasin, however, took up the sword and started for Jihad. The civil officers sent him a message that such a grave step should not be taken without the Emperor’s permission. Shah Yasin, paying no heed, sallied forth till he reached Bazar Chau Khamba through a fusillade of stones …… THE DOORS (OF TEMPLES) WERE FORCED OPEN AND THE IDOLS THROWN DOWN. THE WEAVERS AND OTHER MUSALMANS DEMOLISHED ABOUT 500 TEMPLES. They desired to destroy the temple of Beni Madho, but as lanes were barricaded, they desisted from going further….”
Hindus get united and aggressive so that no aurangzeb can rise again
8. “Kalimat-i-Aurangzeb” Account on Temple Destruction by Terrorist Aurangzeb by ‘Inayatullah
This is another compilation of letters and orders by ‘Inayatu’llah covering the years 1703-06 of Aurangzeb’s reign.
Muhiyu’d-Din Muhammad Aurangzeb ‘Alamgir Padshah Ghazi (AD 1658-1707) Maharashtra
“…The houses of this country (Maharashtra) are exceedingly strong and built solely of stone and iron. The hatchet-men of the Govt. in the course of my marching do not get sufficient strength and power (i.e. time) TO DESTROY AND RAZE THE TEMPLES OF THE INFIDELS that meet the eye on the way. You should appoint an orthodox inspector (darogha) who may afterwards DESTROY THEM AT LEISURE AND DIG UP THEIR FOUNDATIONS…”
9. “Muraq’at-i-Abu’I Hasan” Account on Temple Destruction by Terrorist Aurangzeb by Maulana Abu’l Hasan
This is a collection of records and documents compiled by (the above named author) one of Aurangzeb’s officers in Bengal and Orissa during AD 1655-67.
[Modus Operandi of Muslims to Islamize a Country]
Excerpts:
Muhiyu’d-Din Muhammad Aurangzeb ‘Alamgir Padshah Ghazi (AD 1658-1707)
Bengal and Orissa
“…Order issued on all faujdars of thanas, civil officers (mutasaddis), agents of jagirdars, kroris, and amlas from Katak to Medinipur on the frontier of Orissa :- The imperial paymaster Asad Khan has sent a letter written by order of the Emperor, to say, that the Emperor learning from the newsletters of the province of Orissa that at the village of Tilkuti in Medinipur a temple has been (newly) built, HAS ISSUED HIS AUGUST MANDATE FOR ITS DESTRUCTION, and THE DESTRUCTION OF ALL TEMPLES BUILT ANYWHERE IN THIS PROVINCE BY THE WORTHLESS INFIDELS. Therefore, you are commanded with extreme urgency that immediately on the receipt of this letter YOU SHOULD DESTROY THE ABOVE MENTIONED TEMPLES. EVERY IDOL-HOUSE BUILT DURING THE LAST 10 or 12 YEARS, WHETHER WITH BRICK OR CLAY, SHOULD BE DEMOLISHED WITHOUT DELAY. ALSO, DO NOT ALLOW THE CRUSHED HINDUS AND DESPICABLE INFIDELS TO REPAIR THEIR OLD TEMPLES. REPORTS OF THE DESTRUCTION OF TEMPLES SHOULD BE SENT TO THE COURT UNDER THE SEAL OF THE QAZIS and attested by PIOUS SHAIKHS…”
10. “Futuhat-i-Alamgiri” Account on Temple Destruction by Terrorist Aurangzeb by Ishwardas Nagar
The author was a Brahman from Gujarat, born around AD 1654. Till the age of thirty he was in the service of the Chief Qazi of the empire under Aurangzeb. Later on, he took up a post under Shujat Khan, the governor of Gujarat, who appointed him Amin in the pargana of Jodhpur. His history covers almost half a century of Aurangzeb’s reign, from 1657 to 1700. There is nothing in his style which may mark him out as a Hindu.
Excerpts:
Muhiyu’d-Din Muhammad Aurangzeb ‘Alamgir Padshah Ghazi (AD 1658-1707)
Mathura (Uttar Pradesh)
” … When the imperial army was encamping at Mathura, a holy city of the Hindus, the state of affairs with regard to temples of Mathura was brought to the notice of His Majesty. Thus, HE ORDERED THE FAUJDAR OF THE CITY, ABDUL NABI KHAN, TO RAZE TO THE GROUND EVERY TEMPLE AND TO CONSTRUCT BIG MOSQUES (over their demolished sites)…”
Udaipur (Rajasthan)
“… The Emperor, within a short time, reached Udaipur AND DESTROYED THE GATE OF DEHBARI, THE PALACES OF RANA AND THE TEMPLES OF UDAIPUR. Apart from it, the trees of his gardens were also destroyed…”
islamic jihadis should be killed…aurangzebs are there in India
How a Hindu Ruler Followed Vedic Ritual Contrary to Cruel Islamic Belief
Secularism is farce in today’s world and has no meaning because no single country in this world follows it as it makes the country leader coward and less aggressive but Hindu rulers kept balance on aggression and secularism. Shivaji gave fitting reply to muslims but never harmed innocent citizens even mlecchas (muslims). He knew the fact that muslims can never be trusted because they follow koran which teaches them to hate Hindus and non-muslims.
Now compare this to the anecdotes written by Khafi Khan, the Mohammedan historian, who certainly was not biased in the favour of Great Chatrapati Shivaji Maharaj:
‘He made it a rule that, wherever his followers went plundering, they should do no harm to mosques, the Book of God, or anyone’s women. Whenever a copy of the holy Koran cam into his hands, he treated it with respect, and gave it to some of his Mussulman followers. When the women of any Hindu or Mohammedan were taken prisoners by his men and they had no friend to protect them, he watched over them.’
Hindu Aggression
Ref:
1. Ahmad, Qeyamuddin (ed.), “Patna through the Ages”, New Delhi, 1988.

2. “Alberuni’s India”, translated by E.C. Sachau, New Delhi Reprint, 1983.

3. Attar, Shykh Faridu’d-Din, “Tadhkirat al-Awliya”, translated into Urdu by Maulana Z.A. Usmani.

4. Bloch J., “Indian Studies”, London, 1931.

5. Chuvin, Pierre, “A Chronicle of the Last Pagans”, Harvard, 1990.

6. Durrant, Will, “The Story of Civilization”, New York, 1972.

7. Elliot and Dowson, “History of India as told by its own Historians”, 8 volumes, Allahbad Reprint, 1964.

8. “First Encyclopedia of Islam”

9. “Futuhat-i-Alamgiri” by Ishwardas Nagar, trans. into English by Tasneem Ahmad, Delhi, 1978.

10. Growse, F.S. “Mathura: A District Memoir”, Reprint, Ahmedabad, 1978.

11. Hosain, Saiyid Safdar, ” The Early History of Islam,” Vol. I, Delhi Reprint, 1985.

12. “Jami Tirmizi,” Arabic text with Urdu translation by Badi’al-Zaman, Vol. I, New Delhi, 1983.

13. “Kitab Futuh Al-Buldan” of Al-Biladhuri, translated into English by F.C. Murgotte, New York, 1924.

14. “Maasir-i-Alamgiri” of Saqi Must’ad Khan, translated into English and annotated by Sir Jadunath Sarkar, Calcutta, 1947.

15. “Makke Madine di Goshati”, edited by Dr. Kulwant Singh, Patiala, 1988.

16. “The Rehala of Ibn Battuta,” translated into English by Mahdi Hussain, Baroda, 1976.

17. Sarkar, Jadunath, “History of Aurangzeb,” 3 Volumes, Calcutta, 1972, 73.

%d bloggers like this: